Home » Personal Finance » Income Tax » Updatestaff not trained for e assessment process

टैक्‍सपेयर्स का ऑनलाइन असेसमेंट, बिना ट्रेनिंग के कैसे काम करेंगे इनकम टैक्‍स अफसर

केंद्र सरकार ने मौजूदा वित्‍त वर्ष 2018-19 से देशभर में टैक्‍सपेयर्स का ई असेसमेंट शुरू करने का दावा किया है।

1 of

 

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने मौजूदा वित्‍त वर्ष 2018-19 से देशभर में टैक्‍सपेयर्स का ई असेसमेंट शुरू करने का दावा किया है। इसके तहत इनकम टैकस रिटर्न का असेममेंट ऑनलाइन होगा। इससे इनकम टैक्‍स अफसर और टैक्‍सपेयर्स के बीच सीधा संपर्क नहीं होगा। लेकिन इनकम टैक्‍स विभाग इनकम टैक्‍स अफसरों और कर्मचारियों को ई असेममेंट के लिए अब तक कोई ट्रेनिग नहीं दी है। ऐसे में इनकम टैक्‍स विभाग के नॉन गजटेड इम्‍प्लाइज का कहना है कि हम बिना ट्रेनिंग के ई असेसमेंट का काम कैसे करेंगे। 


बिना ट्रेनिंग के कैसे करेंगे काम 

 

इनकम टैक्‍स इम्‍पलाइज फेडरेशन के पदाधिकारी ने moneybhaskar.com को बताया कि इनकम टैक्‍स विभाग मौजूदा वित्‍त वर्ष में पूरे देश में ऑनलाइन असेसमेंट प्रॉसेस लागू करने जा रहा है। लेकिन इनकम टैक्‍स विभाग ने इसके लिए अफसरों ओर कर्मचारियों को कोई ट्रेनिंग नहीं दी है। इनकम टैक्‍स विभाग में बड़े पैमाने पर ऐसे कर्मचारी हैं जो नए सिस्‍टम में काम करने के लिए तैयार नहीं है। उनको ट्रेनिंग की जरूरत है। ऐसे में कर्मचारियों को ट्रेनिंग दिए बिना इनकम टैक्‍स विभाग देश भर में कैसे ऑनलाइन असेसमेंट प्रॉसेस लागू कर पाएगा। 

 

आउटसोर्स तो नहीं होगा ऑनलाइन असेसेमेंट का काम 

 

पदाधिकारी का कहना है कि खास कर नॉन गजटेड इम्‍पलाईज को ऑनलाइन असेसमेंट की ट्रेनिंग अब तक न मिलने से यह आशंका पैदा हो रही है कि कहीं इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ऑनलाइन असेसमेंट प्रॉसेस को आउटसोर्सिंग के हवाले तो नहीं करने जा रहा है। अगर ऐसा होता है तो नॉन गजटेड इम्‍पलाई क्‍या काम करेंगे। अब तक नॉन गजटेड इम्‍पलाई असेसमेाट प्रॉसेस में अहम भूमिका निभाते रहे हैं।

 

गजटेड इम्‍पलाईज के 18,000 पद है खाली 

 

पदाधिकारी के मुताबिक मौजूदा समय में नॉन गजटेड इम्‍पलाइज के 18,000 पद खाली हैं। लगातार मांग के बावजूद इनकम टैक्‍स विभाग इन रिक्‍त पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू नहीं कर रहा है। यह पद मई 2013 में सृजित किए गए थे। वहीं इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने आउटसोर्सिंग का बजट बढ़ा कर दोगुना कर दिया है। इससे लगता है कि इनकम टैक्‍स विभाग अपने कर्मचारियों के बजाए आउटसोर्सिंग पर ज्‍यादा भरोसा कर रहा है। 

 

 

 

असेसमेंट प्रॉसेस में आएगी पारदर्शिता 

 

टैक्‍सपेयर्स का ऑनलाइन असेसमेंट होने से इस प्रॉसेस में पारदर्शिता आएगी। इसके अलावा टैक्‍सपेयर्स के उत्‍पीड़न के मामलों पर भी अंकुश लगेगा। मौजूदा समय में असेसमेंट प्रक्रिया के तहत इनकम टैक्‍स अफसर और टैक्‍सपेयर्स का सीधा संपर्क होता है। असेसमेंट की प्रक्रिया ऑनलाइन होने से टैक्‍सपेयर्स को इनकम टैक्‍स अफसर के पास जाने की जरूरत नहीं होगी वह सभी सवालों का जवाब ऑनलाइन दे सकेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट