बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Income Tax » Updateटैक्सपेयर्स के साथ विनम्र रहें अफसर, उत्पीड़न के आरोपों के बाद I-T डिपार्टमेंट के निर्देश

टैक्सपेयर्स के साथ विनम्र रहें अफसर, उत्पीड़न के आरोपों के बाद I-T डिपार्टमेंट के निर्देश

सख्‍ती की शिकायतों से चिंतित इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने अपने अधिकारियों के लिए ताजा निर्देश जारी किए हैं।

1 of

नई दिल्‍ली। टैक्‍सपेयर्स के साथ सख्‍ती की शिकायतों से चिंतित इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने अपने अधिकारियों के लिए ताजा निर्देश जारी किए हैं। निर्देश में कहा गया है कि अधिकारी टैक्‍सपेयर्स से डील करते समय विनम्र रहें। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ज्ञान संगम में इनकम टैक्‍स विभाग से टैक्‍सपेयर्स के उत्‍पीड़न के मामलों पर अंकुश लगाने को कहा था। 

सिटी बेस्‍ड डायरेक्‍टोरेट ऑफ टैक्‍सपेयर्स सर्विसेज टीपीएस ने 16 अप्रैल को यह निर्देश जारी किए हैं। निर्देश में कहा गया है कि सीबीडीटी फील्‍ड में काम करने वाले अधिकारियों का लगातार इस बात की जरूरत पर जोर दे रहा है कि टैक्‍सपेयर्स या उनके प्रतिनिधियों से डील करते समय सॉफ्ट स्किल का उपयेाग करें। यह जरूरी है कि इनकम टैक्‍स अधिकारियों और कर्मचारियों का व्‍वहार मिलनसार और विनम्र हो। टीपीएस डायरेक्‍टोरेट के प्रिंंसिपल डायरेक्‍टर जनरल नीना कुमार ने देश भर में सभी इनकम टैक्‍स ऑफिस के हेड को इस बारे में पत्र लिखा है। 

 

 

सीबीडीटी को मिली है टैक्‍सपेयर्स के उत्‍पीड़न की शिकायतें 

पत्र में कहा गया है कि टीपीएस डायरेक्‍टोरेट और सीबीडीटी को इनकम टैकस अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा टैक्‍सपेयर्स के उत्‍पीड़न, खराब व्‍यवहार और सख्‍ती की शिकायतें मिली हैं। इस तरह की घटनाएं इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की इमेज को नुकसान पहुंचाती हैं और इससे डिपार्टमेंट के खुद को सेवा प्रदान करने वाले विभाग के तौर पर स्‍थापित करने के प्रयास में बाधा आती है। ऐसे में सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को जरूरी निर्देश जारी किए जाने चाहिए कि आम जनता से डील करते प्रशासनिक कुशलता के अलावा साफ्ट स्किल का यूज भी करें। 

 

 

असेसी और टैक्‍सपेयर्स के बीच बढ़ा है संपर्क 

इनकम टैक्‍स विभगा के एक वरिष्‍ठ अधिकारी के मुताबिक सीबीडीटी टैक्‍स बेस बढ़ाने के लिए नए कदम उठा रहा है जिसकी वजह से टैक्‍सपेयर्स को नोटिस भेजने के मामलों में तेजी आई है। इससे असेसी और टैक्‍सपेयर्स के बीच इंटरैक्‍शन या संपर्क बढ़ा है। टैक्‍सपेयर्स ओर असेसी के बीच इंटरेक्‍शन काफी हद तक ऑनलाइन हो रहा है। लेकिन कई बार जरूरत पड़ने पर टैक्‍सपेयर्स को असेसी से मिलना पड़ता है। इसकी वजह से टैक्‍सपेयर्स के उत्‍पीड़न के मामले बढ़ रहे हैं। 

 

सख्‍ती के बिना कैसे करें काम 

हालांकि फील्‍ड में काम करने वाले इनकम टैक्‍स अधिकारी का कहना है कि ईमानदार टैक्‍सपेयर्स जो टैक्‍स नियमों का पालन करता है उसके साथ सख्‍ती करने का कोई सवाल नहीं पैदा होता है। लेकिन अगर कोई टैक्‍सपेयर्स अपनी इनकम छिपाता है या कम इनकम दिखाता है तो सख्‍ती किए बिना उससे कैसे डील किया जा सकता है। इस तरह से फील्‍ड में काम करना मुश्किल है। इसका असर आने वाले समय में टैक्‍स कलेक्‍शन पर पड़ सकता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट