Home » Personal Finance » Income Tax » UpdateMotor vehicle 3rd party insurance to become cheaper

छोटी कारों और टू-व्हीलर्स का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस हो सकता है सस्ता, प्रीमियम घटाने का प्रस्ताव

नए वित्त वर्ष में छोटी कारों और 75 सीसी से कम क्षमता के टू-व्हीलर्स का थर्ड पार्टी इन्श्योरेंस सस्ता हो सकता है।

1 of

नई दिल्ली.   मौजूदा वित्त वर्ष में छोटी कारों और 75 सीसी से कम क्षमता के टू-व्हीलर्स का थर्ड पार्टी (टीपी) इंश्योरेंस सस्ता हो सकता है। इसके लिए इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) ने प्रस्ताव तैयार किया है। आईआरडीएआई हर साल क्लेम्स और इंश्योरेंस को हुए नुकसान के रेश्यो को ध्यान में रखते हुए प्रीमियम के रेट्स में बदलाव करती है। बता दें कि बीते दो साल से प्रीमियम में या तो बढ़ोत्तरी हुई या इसे स्थिर रखा गया है।

 

 

मोटर टीपी प्रीमियम कितनी करने का प्रस्ताव?
- 1000 सीसी तक की कारों के लिए 1,850 रुपए करने का प्रस्ताव रखा है, जबकि 2017-18 में यह 2,055 रुपए था। 
- 1000 सीसी से ज्यादा क्षमता वाली प्राइवेट कारों के लिए बदलाव का कोई प्रस्ताव नहीं है। 
- 75 सीसी तक के टू-व्हीलर्स के लिए 427 रुपए रखा गया है, जबकि बीते साल यह 569 रुपए था।
- आईआरडीएआई ने पिछले वित्त वर्ष में 1000-1500 सीसी की कारों के प्रीमियम में 28 फीसदी की बढ़ोत्तरी की थी। वहीं 150-300 सीसी कैटेगरी और 350 सीसी के ऊपर के टू-व्हीलर्स के मामले में भी यही बदलाव किया गया था।

 

सुपरबाइक्स का प्रीमियम होगा दोगुना
- 75-150 सीसी सेगमेंट की बाइक के लिए मोटर टीपी प्रीमियम में किसी बदलाव का प्रस्ताव नहीं है, लेकिन 350 सीसी से ज्यादा क्षमता के टू-व्हीलर्स के लिए यह 2,323 रुपए करने का प्रस्ताव है।

 

विंटेज कारों पर राहत
- इसके अलावा ‘विंटेज एंड क्लासिक कार क्लब ऑफ इंडिया’ द्वारा सर्टिफाइड ‘विंटेज कारों’ के सेगमेंट में आने वाली कारों पर 50 फीसदी डिस्काउंट दिया जाएगा।

माल ढोने वाले वाहनों का इंश्योरेंस महंगा होगा 
- इसके अलावा 7500-12000 किलोग्राम, 12000-20000 किलोग्राम, 20000-40000 किलोग्राम और 40000 किलोग्राम से ज्यादा की कैटेगरीज के माल ढोने वाले वाहनों (तिपहिया वाहनों को छोड़कर अन्य पब्लिक कैरियर्स) के लिए रेट्स में बढ़ोत्तरी होगी। 
- हालांकि, रेग्युलेटर ने उन वाहनों के प्रीमियम में कोई बदलाव न करने का प्रस्ताव रखा है, जिनका वजन या जीवीडब्ल्यू 7500 किलोग्राम से ज्यादा नहीं होता। इस कैटेगरी के प्राइवेट सेगमेंट में मामूली बढ़ोत्तरी या कोई बढ़ोत्तरी नहीं करने का प्रस्ताव रखा गया है।

 

तिपहिया वाहनों का कम होगा प्रीमियम
- माल ढोने वाले तिपहिया वाहनों और मोटराइज्ड पेडल साइकल्स के मोटर टीपी प्रीमियम में कटौती की जाएगी। इसमें वे वाहन शामिल होंगे, जिन्हें पब्लिक के साथ ही प्राइवेट कैरियर्स द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। 
- छह हॉर्सपावर तक के ट्रैक्टरों के लिए रेट में मामूली बढ़ोत्तरी की जाएगी।

 

क्या होता है थर्ड पार्टी इंश्योरेंस?
- मोटर वाहन कानून के तहत थर्ड पार्टी प्रीमियम का प्रावधान काफी पहले ही लागू किया गया है। इसे थर्ड पार्टी लायबिलिटी कवर के नाम से भी जाना जाता है। नाम से ही साफ है कि यह तीसरे पक्ष के बीमा से संबंधित है। जब मोटर वाहन से कोई दुर्घटना होती है तो कई बार इसमें बीमा कराने वाला और बीमा कंपनी के अलावा एक तीसरा पक्ष भी शामिल होता है, जो प्रभावित होता है। यह प्रावधान इसी तीसरे पक्ष यानी थर्ड पार्टी की जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए बनाया गया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट