Home » Personal Finance » Income Tax » UpdateGovt mulls raising pension limit to up to Rs 10,000/month under APY

APY में 10 हजार रु महीना हो सकती है पेंशन लिमिट, सरकार कर रही विचार

Atal Pension Yojana: सरकार APY के अंतर्गत पेशन लिमिट बढ़ाकर 10,000 रुपए करने के प्रपोजल पर विचार कर रही है।

Govt mulls raising pension limit to up to Rs 10,000/month under APY

 

नई दिल्ली. सरकार अटल पेंशन योजना (एपीवाई) के अंतर्गत पेशन लिमिट बढ़ाकर 10,000 रुपए करने के प्रपोजल पर विचार कर रही है, जो अभी तक 5,000 रुपए है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। पीएफआरडीए द्वारा आयोजित एक कांफ्रेंस में डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विसेस (डीएफएस) में ज्वाइंस सेक्रेटरी मदनेश कुमार मिश्रा ने कहा कि एपीवाई के अंतर्गत पेंशन की वैल्यू बढ़ाने की जरूरत है।  

 

 

फाइनेंस मिनिस्ट्री को भेजा गया है प्रपोजल

कार्यक्रम से इतर मिश्रा ने कहा, ‘हमने पेंशन वैल्यू प्रति महीना 10 हजार रुपए तक बढ़ाने के प्रस्ताव (जो पीएफआरडीए ने भेजा है) को देखा है और फिलहाल इस पर गौर किया जा रहा है।’ पेंशन फंड रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीएफआरडीए) चेयरमैन हेमंतजी कॉन्ट्रैक्टर ने कहा कि एपीवाई के सब्सक्राइबर बेस को बढ़ाने के उद्देश्य से ऐसा एक प्रपोजल फाइनेंस मिनिस्ट्री के पास भेजा गया है।

 

 

फिलहाल एपीवाई में हैं 5 स्लैब
कॉन्ट्रैक्टर ने कहा, ‘फिलहाल 1,000 से 5,000 रुपए महीने के बीच के 5 स्लैब हैं। पब्लिक से पेंशन बढ़ाने के लिए कई फीडबैक मिले, क्योंकि लोगों को लगता है कि अगर आज उम्र 20-30 साल हो, तो 60 साल की उम्र में 5,000 रुपए पर्याप्त नहीं होंगे।’
उन्होंने कहा, ‘हमने सरकार को यह प्रपोजल भेजा है कि इसे बढ़ाकर 10,000 रुपए तक कर देना चाहिए।’

 

 

एपीवाई से जुड़ने के लिए अधिकतम उम्र 50 साल करने का भी प्रस्ताव 
पीएफआरडीए ने मिनिस्ट्री को दो अन्य प्रपोजल भी भेजे हैं, जिनमें एपीवाई के लिए ऑटो इनरोलमेंट और स्कीम में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र सीमा 50 साल करना शामिल है। उन्होंने कहा कि फिलहाल एपीवाई में एंट्री की उम्र 18-40 साल है, लेकिन इसे 10 साल बढ़ाकर 18-50 साल किए जाने से सब्सक्राइबर बेस बढ़ाने में मदद मिलेगी। एपीवाई का सब्सक्राइबर बेस 1.02 करोड़ है।

 

 

वित्त वर्ष 2019 में 60-70 लाख नए सब्सक्राइबर जुड़ने की उम्मीद

कॉन्ट्रैक्टर ने कहा कि पीएफआरडीए ने 2017-18 में इस स्कीम में 50 लाख नए सब्सक्राइबर जोड़े और उम्मीद है कि मौजूदा वित्त वर्ष में 60-70 लाख नए सब्सक्राइबर जुड़ जाएंगे।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट