विज्ञापन
Home » Personal Finance » Income Tax » UpdateEPFO may give subscribers option to increase stock investments in new year

EPFO नए साल में पीएफ सब्सक्राइबर्स को दे सकता है सौगात, शेयर बाजार में बढ़ा सकेंगे निवेश

EPFO सब्सक्राइबर्स को नए साल में इक्विटी मार्केट में निवेश बढ़ाने का ऑप्शन मिल सकता है।

EPFO may give subscribers option to increase stock investments in new year
रिटायरमेंट बॉडी ईपीएफओ (EPFO) के सब्सक्राइबर्स को नए साल में सोशल सिक्युरिटी बेनिफिट्स और अपने फंड्स को मैनेज करने के लिए डिजिटल टूल्स के अलावा सेविंग से इक्विटी मार्केट में निवेश बढ़ाने का ऑप्शन मिल सकता है। वर्तमान में ईपीएफओ (Employees Provident Fund Organisation) अपने निवेश योग्य डिपॉजिट का 15 फीसदी तक एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETFs)  में निवेश कर सकता है और यह निवेश फिलहाल लगभग 55 हजार करोड़ रुपए है।

 

नई दिल्ली. रिटायरमेंट बॉडी ईपीएफओ (EPFO) के सब्सक्राइबर्स को नए साल में सोशल सिक्युरिटी बेनिफिट्स और अपने फंड्स को मैनेज करने के लिए डिजिटल टूल्स के अलावा सेविंग से इक्विटी मार्केट में निवेश बढ़ाने का ऑप्शन मिल सकता है। वर्तमान में ईपीएफओ (Employees Provident Fund Organisation) अपने निवेश योग्य डिपॉजिट का 15 फीसदी तक एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETFs)  में निवेश कर सकता है और यह निवेश फिलहाल लगभग 55 हजार करोड़ रुपए है।

 

कई डिजिटल टूल्स विकसित कर रहा है ईपीएफओ

हालांकि ईटीएफ (ETF) इन्वेस्टमेंट मेंबर्स के अकाउंट में प्रदर्शित नहीं होता है और उन्हें स्टॉक्स यानी शेयर बाजार मे निवेश की जाने वाली रिटायरमेंट सेविंग्स का अनुपात बढ़ाने का ऑप्शन भी नहीं मिला है। अब ईपीएफओ (EEFO) एक ऐसा सॉफ्टवेयर विकसित कर रहा है, जिससे उसे कैश में मौजूद रिटायरमेंट सेविंग्स और ईटीएफ (ETFs) को अलग-अलग दिखाने में मदद मिलेगी। वर्तमान में अकाउंट में सिर्फ ग्रॉस कैश कम्पोनेंट के तौर पर ही सेविंग्स नजर आती है।

 

स्टॉक्स में निवेश बढ़ाने का मिलेगा ऑप्शन

एक बार ईपीएफ खातों में कैश और ईटीएफ कम्पोनेंट अलग-अलग नजर आने के बाद ईपीएफओ (EPFO) के लिए सब्सक्राइबर्स को स्टॉक्स में निवेश बढ़ाने या घटाने का ऑप्शन देना बड़ा कदम होगा। इस साल की शुरुआत में EPFO की निर्णय लेने वाली सबसे प्रमुख बॉडी सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (CBT) ने ऐसे ऑप्शन देने संभावनाओं पर विचार करने का सुझाव दिया था।

 

वर्कर्स और इम्प्लॉयर्स के लिए सरल हुईं सर्विसेस

लेबर मिनिस्टर संतोष गंगवार ने हाल में कहा था, ‘कई डिजिटल टूल्स की पेशकश के साथ वर्कर्स के साथ ही इम्प्लॉयर्स के लिए सर्विसेस सरल हो गई हैं।’ गंगवार सीबीटी के चेयरमैन भी हैं।

उन्होंने कहा, ‘इम्प्लॉयर का कॉन्ट्रीब्यूशन 12 फीसदी किए जाने से 90 लाख नए कर्मचारियों को सोशल सिक्युरिटी का लाभ मिला है।’

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन