बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Income Tax » UpdateEPFO मेम्‍बर खुद तय करेंगे, शेयर में लगे कितना पैसा; इस वित्‍त वर्ष में मिलेगा विकल्‍प

EPFO मेम्‍बर खुद तय करेंगे, शेयर में लगे कितना पैसा; इस वित्‍त वर्ष में मिलेगा विकल्‍प

पीएफ खाताधारकों को इस वित्‍त वर्ष 2018-19 में शेयर बाजार में अपना निवेश बढ़ाने या घटाने का विकल्‍प मिल जाएगा।

1 of

नई दिल्‍ली. रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ के 5 करोड़ से ज्यादा पीएफ खाताधारकों को इस वित्‍त वर्ष 2018-19 में शेयर बाजार में अपना निवेश बढ़ाने या घटाने का विकल्‍प मिल जाएगा। ईपीएफओ की योजना करीब तीन महीने में ईटीएफ निवेश पीएफ अकाउंट में क्रेडिट करने की योजना है। इसके बाद सब्‍सक्राइबर को यह ऑप्‍शन मिल जाएगा कि वह अपने फंड से ईटीएफ में निवेश बढ़ा या घटा पाएंगे। 

ईपीएफओ के सेंट्रल पीएफ कमिशनर वीपी जॉय ने बताया कि हमे ईटीएफ को सब्‍सक्राइबर पीएफ अकाउंट में क्रेडिट करने का सॉफ्टवेयर डेवलप करना है। इसमें दो से तीन महीने लगेंगे। एक बार हम यह कर लेते हैं तो इसके बाद हम अगले फेज में जाएंगे, जिसके तहत  मेम्‍बर्स को स्‍टॉक में निवेश बढ़ाने या घटाने का ऑप्‍शन दिया जाएगा। ईपीएफओ की फैसला लेने वाली शीर्ष इकाई सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्‍टी (सीबीटी) ने पिछले हफ्ते मेम्‍बर्स को इक्विटी में अपना निवेश बढ़ाने या घटाने का ऑप्‍शन देने की संभावनाओं पर विचार करने का फैसला किया था। अभी पीएफ फंड का 15 फीसदी हिस्सा ही शेयर मार्केट में निवेश कर सकते हैं।

 

FIAC की सिफारिश पर हुआ फैसला 
सीबीटी ने FAIC के इस रिकमेंडेशन को भी मान लिया है, जिसमें कहा गया था कि इन इक्टिी यूनिट्स के पीरियॉडिक डिस्पोजल के लिए एक अलग से पॉलिसी बनाई जाए। वहीं, शेयर बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव को देखते हुए निवेशकों के हित के लिए एक अलग से रिजर्व फंड भी बनाया जाए। 

 

शेयर बाजार का मिला है फायदा
ईपीएफओ ने पिछले 2 साल के दौरान मेंबर्स के प्रॉविडेंट फंड का पैसा शेयर बाजार में लगाकर अच्छा रिटर्न हासिल किया है। ईपीएफओ की ओर से जारी डाटा के अनुसार ईपीएफओ ने अगस्‍त 2015 से 28 फरवरी 2018 के बीच एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड यानी ईटीएफ में कुल 41967.51 करोड़ रुपए निवेश किया। इस अवधि में ईपीएफओ को ईटीएफ निवेश पर कुल 17.23 फीसदी रिटर्न मिला है। ईपीएफओ मार्च में 2500 करोड़ के ईटीएफ बेच चुकी है। शेयर बाजार से मिले बेहतर रिटर्न को देखते हुए ही ईपीएफओ ने निवेश की लिमिट बढ़ाने की मांग की थी। 
 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट