विज्ञापन
Home » Personal Finance » Income Tax » Step To Step GuideSubmit these documents to avail tax benefits

अगर बचाना चाहते हैं Tax, तो जमा करा दें ये डॉक्युमेंट्स, नहीं तो पड़ जाएंगे मुश्किल में

साथ ही यहां जानिए कि कैसे आप 50,000 रुपए तक का एक्स्ट्रा बेनिफिट ले सकते हैं

1 of

नई दिल्ली.

वित्तीय वर्ष 2018-19 खत्म होने जा रहा है, ऐसे में वक्त आ गया है कि आपने इंवेस्टमेंट को लेकर जो डिक्लेरेशन दिया है उसके डॉक्युमेंट्स जमा करा दें। अगर आप ये डॉक्युमेंट्स जमा नहीं कराएंगे तो आपको टैक्स में जिस छूट की उम्मीद कर रहे हैं वो आपको नहीं मिलेगी। टैक्स एक्सपर्ट और सीए हिमांशु कुमार के मुताबिक ये डॉक्युमेंट हर नौकरीपेशा इंसान को अपने इंप्लॉयर को जमा कराने होंगे, तभी उन्हें टैक्स बेनिफिट मिलेंगे।

 

ऐसे कम होगा टैक्स अमाउंट

मेडिकल एक्सपेंसेज के पेपर्स देने की अब जरूरत नहीं पड़ती है क्योंकि अब standard deduction का प्रावधान है। ऐसे में 40 हजार तक का स्टैंडर्ड डिडक्शन आपको मिल जाएगा। लेकिन आपने 80C के तहत जिसमें भी इंवेस्टमेंट कर रखा है, चाहे वह ELSS (equity linked savings scheme) हो, लाइफ इंश्योरेंस हो या किसी और प्रोडक्ट में कर रखा है तो उसके पेपर्स आपको जमा करा दें। अगर आप जमा नहीं कराएंगे तो वह अमाउंट आपके टैक्स बेनिफिट में कैलकुलेट नहीं होगा।

 

बच्चों की ट्यूशन फीस की डिटेल्स

अगर आपके बच्चे हैं और वे स्कूल जाते हैं तो उनकी स्कूल फीस में ट्यूशन फीस शामिल होती है। यह फीस भी 80सी के तहत डिडक्शन में शामिल होती है। ऐसे में इसके डॉक्युमेंट्स भी देने जरूरी हैं।

 

HRA या रेंट एग्रीमेंट की डिटेल्स

एक बहुत जरूरी प्वाइंट है कि आपने HRA यानी house rent allowance क्लेम किया हुआ है या नहीं। अगर आपने HRA क्लेम कर रखा है तो क्या आपने HRA के सारे डॉक्युमेंट्स जमा कराए हैं। अगर नहीं दे रखें हैं तो rent receipts यानी मकान के किराए भुगतान की स्लिप जमा कराएं। अगर आप ये receipt नहीं देते हैं तो आपका डिक्लेशन रिवर्स हो सकता है। इसके साथ अगर आपने अपना रेंट एग्रीमेंट पहले से ही दे रखा है तो उसे देने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन रेंट भुगतान की रसीद जरूर दें।

 

 

Loans की जानकारी दें

अगर आपने कोई होम लाेन ले रखा है तो उसके दो कॉम्पोनेंट होते हैं। पहला होता है कैपीटल कॉम्पोनेंट, दूसरा होता है इंटरेस्ट कॉम्पोनेंट। अब दो लाख रुपए तक की बैरीकेडिंग हो चुकी है तो अब कोई फर्क नहीं पड़ता है, आपको दो लाख रुपए तक का इंटरेस्ट बेनिफिट मिलेगा। लेकिन कैपीटल कॉम्पोनेंट 80C में चला जाता है। ऐसे में आप तुरंत अपने बैंक से बात करके अपने होम लोन का स्टेटमेंट लेकर जमा कराएं। इसमें दोनों कॉम्पोनेंट कैलकुलेट किए जाएंगे। यह आपके सैलरी स्ट्रक्चर के टैक्स काॅम्पोनेंट में बहुत जरूरी होता है।

 

ऐसे लें 50 हजार रुपए तक का एक्स्ट्रा बेनिफिट

इसके अलावा अगर आप और भी फायदा पाना चाहते हैं तो NPS (national pension scheme) से आपको यह फायदा मिल सकता है। अगर आपने अभी तक NPS में इंवेस्टमेंट नहीं किया है तो आप अब भी इंवेस्टमेंट कर सकते हैं। इससे आप 50 हजार रुपए तक का एक्स्ट्रा बेनिफिट पा सकते हैं। अगर आप इसके पेपर्स भी जमा कराते हैं तो 1.50 लाख तो पहले का बेनिफिट मिलेगा ही, उसके ऊपर आपको 50 हजार रुपए का एक्स्ट्रा बेनिफिट मिलेगा।

इन डॉक्युमेंट्स की भी पड़ेगी जरूरत

इसके अलावा अगर आपने 80D के तहत कोई मेडिकल पॉलिसी ली हुई है तो उसके भी डॉक्युमेंट देने की जरूरत है। अगर अभी तक आपने कोई पॉलिसी नहीं ली है, तो जल्दी से खरीद कर उसके पेपर्स अपने एम्पलॉयर के पास जमा कराएं। साथ ही अगर आपने कोई डोनेशन दे रखा है 80G के तहत तो उसके डॉक्यूमेंट भी जमा कराएं। इसके एक जरूरी बात यह है कि जिसको आपने डोनेशन दिया है उसका पैनकार्ड भी देने की जरूरत होती है। अगर आपको कोई बीमारी है या आपने अपने माता-पिता के लिए किसी तरह का कोई मेडिकल सपोर्ट लिया हुआ है तो अलग-अलग सेक्शंस के तहत जो डिडक्शंस हैं उसके तहत आप उनका भी बेनिफिट ले सकते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन