बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Step To Step Guideआपकी आदतें बिगाड़ सकती हैं बच्‍चे का फ्यूचर , न करें ये गलतियां

आपकी आदतें बिगाड़ सकती हैं बच्‍चे का फ्यूचर , न करें ये गलतियां

आपका व्‍यवहार पैसों को लेकर कैसा है यह आपके बच्‍चे भी देखते हैं और इनमें से कई चीजे वे अपनाते भी हैं।

1 of

नई दिल्‍ली। आप पैसा किस तरह से कमाते है यह अहम है बल्कि आप पैसा किस तरह से खर्च करते हैं यह भी उतना ही अहम है। आपका व्‍यवहार पैसों को लेकर कैसा है यह आपके बच्‍चे भी देखते हैं और इनमें से कई चीजे वे अपनाते भी हैं। ऐसे में अगर पैसों के मैनेजमेंट का आपका तरीका ठीक नहीं है तो इसका असर आपके बच्‍चे के फ्यूचर पर भी पड़ सकता है। पैसों को लेकर आपकी खराब आदते आपके बच्‍चे का फ्यूचर भी खराब कर सकती हैं। ऐसे आपको पैसों को लेकर ऐसी गलतियों से बचना चाहिए जो आपके बच्‍चों पर बुरा असर डाल सकती हैं। 

 

बहुत ज्‍यादा कर्ज लेना 

 

कई पैरेंट्स ऐसे होते हैं जो बहुत ज्‍यादा कर्ज लेते हैं। ऐसा कई बार पैसों का सही प्रबंधन न कर पाने के कारण होता है। इसके अलावा एक खास लाइफस्‍टाइल को मेनटेन करने के लिए भी पैरेंट्स अपनी क्षमता से ज्‍यादा लोन ले लेते हैं। अगर ऐसा लगातार होता है तो इसका बच्‍चों पर बुरा असर पड़ता है। ऐसे पैरेंट्स अपने बच्‍चों को यह नहीं बता सकते हैं कि हमेशा अपने खर्च को अपनी इनकम लिमिट तक ही सीमित रखें। आगे चल कर उनके बच्‍चे भी इन आदतों को अपना सकते हैं। इससे न सिर्फ उनका फाइनेंशियल फ्यूचर खराब होगा बल्कि मंथली खर्च को लेकर भी वे दबाव में रह सकते हैं। 

 

ज्‍यादा खर्च करना 

बहुत से पैरेंट्स ऐसे होते हैं तो जो खर्चीला जिंदगी जीते हैं। अपने बच्‍चों पर जरूरत से ज्‍यादा पैसा खर्च करते हैं और उनकी हर मांग पूरी करते हैं। लेकिन यह गलत आदत है। आपके बच्‍चे को बड़े होकर इसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है। जरूरी नहीं है कि आपका बच्‍चा जब बड़ा हो तो उसके पास उतने पैसे हो जिससे वह उस तरह की लाइफ जी सके जिसकी उसे आदत रही है। इसका नतीजा यह हो सकता है कि वह बहुत ज्‍यादा कर्ज लेकर अपनी जरूरतों को पूरा करेगा या अपनी महंगी जरूरतों को पूरा करने के लिए गलत काम करे। ऐसे में उसका फ्यूचर सिक्‍योर नहीं होगा। 

 
बिना जरूरत के शॉपिंग करना 

 

कई बार लोग बिना जरूरत के शॉपिंग करते हैं। या बार छुट्टियों पर घूमने जाते हैं। उनको पता होता है कि यह उनकी आर्थिक क्षमता से बाहर है फिर भी इस आदत पर वे नियंत्रण नहीं कर पाते हैं। इसका असर उनकी फाइनेंशियल प्‍लानिंग पर पड़ता है और वे अपनी सेविंग की कीमत पर अपने शॉपिंग या बाहर घूमने जाते हैं जिससे वे लंबी अवधि में सेविंग या रिटायरमेंट प्‍लानिंग से समझौता करते हैं। इसका असर उनके बच्‍चे पर भी पड़ सकता है और बच्‍चा इस बात को नहीं समझ सकता कि वित्‍तीय अनुशासन का क्‍या महत्‍व है और  अपने बजट में लाइफ जीने के क्‍या फायदे हैं। 

 

आगे पढें- जरूरतमंद की पैसे से मदद न करना 

पैसों को लेकर लड़ाई करना 

कई परिवारों में ऐसा होता है कि पैरेंट्स पैसों को लेकर बच्‍चों के सामने ही बहस करने लगते हैं। अगर पैरेंट्स ऐसा करते हैं तो बच्‍चों के मन में इसका गलत असर पड़ सकता है। इससे वे तनाव के शिकार हो सकते हैं। पैसों को लेकर बच्‍चों के सामने कभी बहस या झगड़ा नहीं करना चाहिए। पैरेंट्स को पैसों को लेकर हमेशा अकेले में बातचीत करनी चाहिए। 

जरूरतमंद की पैसे से मदद न करना 

अगर आप किसी जरूरत मंद की जरूरत पड़ने पर आर्थिक मदद नहीं करते हैं तो यह भी एक खराब आदत है। इसके जरिए भी आप अपने बच्‍चे को सेंवदेनशील इनसान बनाने का मौका खो रहे हैं। इसके बजाए आपको अपने बजट में जरूरत मंद की पैसे से मदद करनी चाहिए इसके जरिए आप बच्‍चे को पैसे के महत्‍व के बारे में भी बता सकते हैं कि पैसों की जरूरत कभी भी किसी को भी पड़ सकती है। ऐसे में पैसों को दूसरों की जरूरतों को लेकर भी संवदेनशील रवैया अपनाएं। हालांकि अपने बजट से बाहर जाकर दूसरों की मदद करना भी अच्‍छी आदत नहीं है। आपको इसकी भी कीमत चुकानी पड़ती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट