मनी की गुल्लक /अपने फाइनेंशियल टारगेट पूरा करने के लिए पहले अपनी मौजूदा इनकम का सही से आंकलन करना जरूरी

  • एक्सपर्ट से जानिए निवेश से जुड़े अपने सभी सवालों के जवाब

Moneybhaskar.com

Sep 10,2019 03:17:39 PM IST

नई दिल्ली. अपने फाइनेंशियल गोल्स को पूरा करने के लिए सही समय पर सही जगह निवेश करना जरूरी है। बाजार में निवेश के लिए कई तरह के विकल्प मौजूद हैं, लेकिन किसी भी योजना का चुनाव करने से पहले आपके लिए जरूरी है सभी पहलुओं पर गौर करना। जरूरी नहीं है कि आपके दोस्त ने जो निवेश योजना चुनी हो, वो आपके लिए सही हो। ऐसे में निवेश को लेकर आपके मन जो भी सवाल या दुविधाएं हैं, उनके समाधान के लिए मनी भास्कर ने 'मनी की गुल्लक’ सीरीज शुरू की है। यहां पर इन्वेस्टमेंट से जुड़े आपके सवालों के जवाब एक्सपर्ट देंगे।


हमारे पास जो सवाल आए थे, उनमें से कुछ चुनिंदा सवालों के जवाब हम आप तक पहुंचा रहे हैं। हमारे एक्सपर्ट हैं वेल्थ डिस्कवरी ग्रुप के डायरेक्टर राहुल अग्रवाल


सवाल 1. मेरी सैलरी 50 हजार रुपए प्रतिमाह है। मेरी उम्र 31 साल है और मैं प्राइवेट कंपनी में काम करता हूं। मैं पिछले तीन साल से रिलायंस, एसबीआई और फ्रैंकलिन के म्युचुअल फंड में 6000 रुपए, स्मॉल कैप में 6000 रुपए, मल्टी कैप में 2000 रुपए और बैंक आरडी में 1500 रुपए निवेश कर रहा हूं। मेरे पास इमरजेंसी फंड 5 लाख रुपए का है, एलआईसी में मनी बैक पॉलिसी में 10 लाख रुपए का प्लान लिया है, मेडिकल फैमिली कवर 2.5 लाख रुपए का है। मेरा फाइनेंशियल गोल 2033 में 5 करोड़ रुपए जुटाने का है। क्या मैं सही ट्रैक पर जा रहा हूं? मेरे लिए कौन सा टर्म प्लान सही है? और मैं अपना टारगेट कैसे पूरा कर सकता हूं? - युवराज शर्मा


जवाब: सर्वप्रथम आप बधाई के पात्र हैं क्योंकि आपने रिटायरमेंट प्लानिंग को इतनी महत्ता दी है, जो कि ज्यादा देखने को नहीं मिलती। आपने रिटायरमेंट के सभी बिन्दुओं को सही से चुना है, आपके म्युचुअल फंड का चयन सही है। इसमें कुछ ज्यादा करने की आवश्यकता नहीं है।

जहां तक लाईफ इंश्योरेंस की बात है, आपको इसका ठीक-ठाक अमाउंट का टर्म इंश्योरेंस भी लेना चाहिए। आपके स्वास्थ्य बीमा का कवरेज अमाउंट कम है, आपको इसे बढ़ा कर पांच लाख तक करना चाहिए।

आपके इमरजेन्सी फंड का साइज भी ठीक है, जहां तक 2033 तक रिटायरमेंट और 5 करोड़ की राशि का सवाल है, यह लक्ष्य आपकी आय के अनुरूप नहीं है। उदाहरण के तौर पर अगर यह मान के चलें कि आप अभी तक 10 लाख की राशि जोड़ चुके हैं और अपने भविष्य के निवेश पर आप 10% का रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं, तब भी आपको मासिक 132,000 रुपए जोड़ने होंगे जो आपकी मौजूदा इनकम से काफी ज्यादा है।

अपने रिटायरमेंट लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए या तो आपको अपनी इनकम बढ़ानी होगी अथवा अपना रिटायरमेंट10-15% आगे बढ़ाना होगा। रिटायरमेंट प्लान के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आपके लक्ष्य आपकी इनकम के अनुपात में ही हो।

1. बाजार में कई तरह के टर्म प्लान मौजूद हैं। टर्म प्लान चुनते समय सर्वप्रथम टर्म प्लान देने वाली कम्पनी का क्लेम सैटलमेंट रेशो (Ratio) देखना चाहिए और जिन कम्पनियों का रेशो (Ratio) अधिक हो उन्हीं को शॉर्ट लिस्ट करना चाहिए। उसके बाद कवरेज अमाउंट के लिए लगने वाले प्रीमियम को कम्पेरिजन करना चाहिए और कम प्रीमियम वाली कम्पनी का चुनाव करना चाहिए।। LIC e term policy एक अच्छा टर्म प्लान है, LIC का क्लेम सेटलमेंट रेशो 98.14 % है और आपको पचास लाख का टर्म इंश्योरेंस करीब 9,000 के सालाना भुगतान पर मिल सकता है। उसके अलावा ICICI का प्रोडेंशियल protect option भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है, इस प्लान में विकलांगता अथवा क्रिटिकल इलनेस की स्थिति में प्रीमियम का भुगतान नहीं करना पड़ता है।


2. आपको अपने फाइनेंशियल टारगेट पूरा करने के लिए पहले अपनी मौजूदा इनकम का सही से आंकलन करना चाहिए, गोल्स Realistic होने चाहिए। चूंकि आप अभी यंग हैं आपको अभी रिस्क उठाकर इक्विटी निवेश बढ़ाना चाहिए। आपके लिए सबसे उत्तम ऑप्शन यही होगा कि आप एक करोड़ का टर्म इंश्योरेंस लें, एक 5 लाख तक की कवरेज की मेडिकल पॉलिसी लें और उसके बाद बची अपनी सेविंग के SIP के माध्यम से लास्ट-कैप मल्टीकैप म्युचुअल फंड में निवेश करें और जैसे-जैसे आय बढ़े इन म्यूचुअल फंड में निवेश राशि को समय-समय पर बढ़ाते रहें। आपकी कुल बचत का 15 से 20 प्रतिशत हिस्सा आपको फिक्स्ड डिपॉजिट अथवा PPF में भी निवेश करना चाहिए।


सवाल 2. मैं सालाना 10 से 12 लाख रुपए कमाता हूं। म्युचुअल फंड में निवेश करना चाहता हूं लेकिन मुझे नहीं पता मेरे लिए कौन सा म्युचुअल फंड सही रहेगा। मैं 10 से 15 साल के लिए निवेश करना चाहता हूं। मेरी उम्र 25 साल है। मुझे बताएं कि मुझे अपने पोर्टफोलियो में कितनी एसआईपी रखना चाहिए? - सक्षम गुप्ता

जवाब: आपके लिए यह उचित रहेगा की आप अपनी मासिक आय में से ज्यादा से ज्यादा सेलिंग करें, आप अभी यंग है इसलिए अभी ज्यादा सेविंग कर सकते हैं, समय के साथ जैसे जिम्मेदारियां बढ़ेगी आपके सेविंग का रेशो कम होता जाएगा। म्यूचुअल फंड निवेश के साथ आप एक टर्म इंश्योरेंस और एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी जरूर लें। आप यंग हैं इसलिए अभी रिस्क लेने की क्षमता आपमें अधिक है, अपने सेविंग का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा आप SIP के माध्यम से म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं। म्यूचुअल फंड में भी 60 प्रतिशत हिस्सा स्मॉलकैप, मिडकैप और मल्टीकैप फंड में लगाएं बाकी 40 प्रतिशत ELSS, टैक्स सेविंग स्किम के तहत लार्ज कैप फंड से लगाए। सेविंग का बाकी 30 प्रतिशत आप एफडी, पीपीएफ जैसे पोस्ट ऑफिस डिपोजिट जैसी स्किमों में लगा सकते हैं।

सवाल 3. मैं शेयर मार्केट में एक बार लंबे में समय के लिए एक लाख रुपए निवेश करना चाहता हूं। मुझे बताएं कौन सी कंपनी के कितने शेयर खरीदना सही रहेगा? -नितिन पाटीदार

जवाब: एक लाख की इनकम आप चार हिस्सों में बांटकर लार्जकैप कम्पनियों में लगा सकते हैं। यह निवेश आपको कम से कम 5 सालों के लिए करना होगा। कुछ कम्पनियां जो आप निवेश के लिए देख सकते हैं उनमें ICICI Bank, SBI, HDFC Bank, ITC जैसे नाम अच्छे शेयरों की गिनती में आते हैं।

सवाल 4. एफडी और पीपीएफ में से बेहतर क्या है? - विकास कुमार उमारी

जवाब: FD और PPF दोनों ही निवेश के सुरक्षित ऑप्शन है। एफडी या पीपीएफ में निवेश का दृष्टिकोण अलग-अलग होना चाहिए, एफडी का रिटर्न 5 से 7.5% होता है। जबकि पीपीएफ पर यह रिटर्न 7.9% है। एफडी के निवेश को आप कभी भी भुना सकते है परन्तु पीपीएफ के निवेश में पांच साल बाद ही आप पार्शियल विदड्रॉल कर सकते हैं। पीपीएफ के निवेश टैक्स के दृष्टिकोण में भी लाभकारी होता है क्योंकि इसमें आयकर धारा 80C के अन्तर्गत 1.5 लाख तक की छूट मिलती है, और मैच्योरिटी पर रिटर्न भी टैक्स फ्री होते हैं। अगर आप दीर्घ कालिक निवेश करना चाहते हैं तो पीपीएफ में निवेश फंड की तुलना में बेहतर हैं।

सवाल 5. मैं 24 साल का व्यापारी हूं। मैं इंश्योरेंस में निवेश करना चाहता हूं। मेरे लिए कौन सा इंश्योरेंस सही रहेगा? एलआईसी, पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस या एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस? - जितिन कांत त्रिपाठी

जवाब: जितिन जी सर्वप्रथम आपको लाइफ इंश्योरेंस की इन्वेस्टमेंट या रिटर्न के आईने से नहीं देखना चाहिए, लाइफ इंश्योरेंस का आंकलन सुरक्षा की दृष्टि से करना चाहिए। आजकल के परिवेश में लोग लाइफ इंश्योरेंस की अपेक्षा टर्म इंश्योरेंस के प्रति ज्यादा झुकाव रखते हैं। टर्म इंश्योरेंस, लाइफ इंश्योरेंस से सस्ता होता है और टर्म इंश्योरेंस के बाद बची राशि आप SIP के माध्यम से म्यूचुअल फंड में लगा के अपना रिटर्न बढ़ा सकते हैं। टर्म इंश्योरेंस अनहोनी की स्थिति में आपके परिवारजनों को लाइफ इंश्योरेंस जैसी ही राशि प्रदान करेगा। और अगर आपको लाइफ इंश्योरेंस ही लेना है तो तीनों ही विकल्प क्योंकि सरकारी कम्पनियों के माध्यम से है तो इनमें ज्यादा फर्क नहीं है। आप अपनी सुविधा के अनुसार तीनों में से कोई भी विकल्प चुन सकते हैं।


अगर आपके पास भी इन्वेस्टमेंट से जुड़े सवाल हों, तो आप [email protected] पर मेल कर सकते हैं।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.