Home » Personal Finance » Financial Planning » UpdateEPFO:कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन - अब 5 स्‍टेप्‍स में खुद जनरेट करें अपना UAN,यूनिवर्सल अकाउंट नंबर

EPFO ने शुरू की नई सर्विस, अब 5 स्‍टेप्‍स में खुद जनरेट करें अपना UAN

इसके लिए मोबाइल नंबर का आधार से लिंक होना जरूरी है। इसके बिना UAN जनरेट नहीं किया जा सकेगा।

1 of

नई दिल्‍ली.   कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन (Employees' Provident Fund Organisation या EPFO) ने एक नई सर्विस शुरू की है। इसके तहत आप खुद अपना UAN जनरेट कर सकते हैं। हालांकि, इसके लिए मोबाइल नंबर का आधार से लिंक होना जरूरी है। इसके बिना UAN जनरेट नहीं किया जा सकेगा। नयी जॉब ज्वाइन करने पर आप खुद कंपनी को ये नंबर दे सकते हैं। 

ये भी पढ़े -  EPFO ने ETF Units को PF खातों में डालने के प्रस्ताव को मंजूरी दी

 

 

कैसे कर सकते हैं UAN जनरेट?

- इसके लिए पांच स्टेप्स जरूरी हैं। ये प्रॉसेस पूरी करने के बाद आपके पास अपना यूनिवर्सल अकाउंट नंबर यानी UAN आ जाएगा। 

 

 
1) सबसे पहले आप https://unifiedportal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface/ लिंक के जरिए ईपीएफओ के मेंबर पोर्टल पर जाएं। यहां पर डायरेक्‍ट UAN अलॉटमेंट पर क्लिक करें। 

 

2) क्लिक करने पर जो स्‍क्रीन सामने आएगी, उसमें आपको अपना आधार नंबर डालना होगा। इसके बाद जनरेट ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) पर क्लिक करें। ओटीपी आपके रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा। 

 

3) ओटीपी एंटर करने और डिस्‍क्‍लेमर एक्‍सेप्‍ट करने पर आपको सबमिट बटन दिखेगा। आगे बढ़ने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें। 

 

4) सबमिट बटन पर क्लिक करने पर आपके आधार के अगेंस्‍ट जो भी डिटेल फीड है, वो स्‍क्रीन पर दिखाई देगी, जैसे आपका नाम, पिता का नाम और डेट ऑफ बर्थ। अब आप इस डाटा को वेरिफाई कर स्‍क्रीन पर मांगी गई दूसरी डिटेल दे सकते हैं। इसके बाद कैप्‍चा एंटर करने और डिस्‍क्‍लेमर एक्‍सेप्ट करने के बाद आप रजिस्‍टर बटन पर क्लिक करें। 

 

5) रजिस्‍टर बटन पर क्लिक करने के साथ ही आपको UAN अलॉट हो जाएगा। इसका मैसेज स्क्रीन पर दिखाई देगा। 

 

ये भी पढ़े -  EPF मेंबर्स को अब भी मिल सकती है ज्‍यादा पेंशन


ईपीएफओ ने क्‍यों उठाया यह कदम 

- मौजूदा वक्त में पीएफ कॉन्ट्रिब्‍यूशन के लिए UAN जरूरी है। अभी सिर्फ इम्प्लॉयर ही इम्प्लॉई का यूएएन जनरेट कर सकता है।
- कंपनियों में हर महीने नए इम्प्लॉई ज्वाइन करते हैं। ऐसे में, कंपनियां नया यूएएन जनरेट करने में मुश्किल महसूस करती हैं, क्‍योंकि उनका डाटा आधार डाटा से मैच नहीं करता। कंपनियों की मुश्किलों को ध्‍यान में रखते हुए ईपीएफओ ने यूनिफाइड पोर्टल पर डायरेक्‍ट यूएएन अलॉट करने की नई फैसिलिटी दी है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट