Home » Personal Finance » Financial Planning » Updateemployee can increase his pf contribution

सिर्फ आपका PF अकाउंट देता है 4 करोड़ की गारंटी, नहीं लगेगा टैक्‍स

अगर आप लंबी अवधि में करोड़ों रुपए का फंड बनाना चाहते हैं तो इसकी गारंटी सिर्फ आपका इम्‍पलाईज प्रॉविडेंट फंड अकाउंट यानी

1 of

नई दिल्‍ली। अगर आप लंबी अवधि में करोड़ों रुपए का फंड बनाना चाहते हैं तो इसकी गारंटी सिर्फ आपका इम्‍पलाईज प्रॉविडेंट फंड अकाउंट यानी पीएफ अकाउंट ही दे सकता है। सबसे बड़ी बात यह है कि रिटायरमेंट के बाद जब आप पीएफ से अपना पैसा निकालेंगे तो आपको इस पर कोई टैक्‍स नहीं देना होगा। आपके पीएफ अकाउंट पर तय ब्‍याज मिलता है।

इसकी गारंटी सरकार लेती है और सरकार हर साल पीएफ पर ब्‍याज तय करती है। वहीं अगर आप किसी दूसरे विकल्‍प जैसे म्‍युचुअल फंड या शेयर बाजार में पैसा लगाते हैं तो उसमें रिटर्न की गारंटी नहीं होती है और इस पर मिलने वाले रिटर्न के बारे में एक अनुमान ही लगा सकते हैं। इन पर मिलने वाला रिटर्न आपके अनुमान से कम भी हो सकता है और ज्‍यादा भी हो सकता है। 

 

पीएफ अकाउंट में कैसे बन जाएगा 4 करोड़ का फंड 

 

ईपीएफ एंड एमपी एक्‍ट के तहत आप अपने पीएफ अकाउंट में अपना मंथली कंट्रीब्‍यूशन बढ़ा सकते हैं। किसी भी इम्‍पलाई को अपनी बेसिक सैलरी का 12 फीसदी पीएफ अकाउंट में कंट्रीब्‍यूट करना होता है। इम्‍पलाई चाहे तो वह अपना कंट्रीब्‍यूशन बेसिक सैलरी का 100 फीसदी तक कर सकता है। EPFO के सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्‍टी यानी सीबीटी मेंबर विरजेश उपाध्‍याय ने moneybhaskar.com को बताया कि कोई भी इम्‍पलाई अपना पीएफ कंट्रीब्‍यूशन बढ़ा सकता है। हालांकि कंपनी अपना कंट्रीब्‍यूशन बढ़ाने के लिए बाध्‍य नहीं है। 

 

इम्‍पलाई की उम्र 25 साल  25 साल 
रिटायरमेंट की उम्र  58 साल 
पीएफ में मंथली कंट्रीब्‍यूशन 30 फीसदी 
सैलरी में सालाना इजाफा  10 फीसदी
पीएफ पर ब्‍याज  8.55 फीसदी
रिटायरमेंट पर कुल फंड  4.20 करोड़ 

 

नोट-यह कैलकुलेशन पीएफ पर सालाना ब्‍याज 8.55 फीसदी पर किया गया है। ईपीएफओ ने 2017-18 के लिए पीएफ पर 8.55 फीसदी ब्‍याज की सिफारिश की है। 

नहीं देना होगा टैक्‍स 

 

पीएफ फंड का सबसे बड़ा फायदा यह है कि जब आप रिटायरमेंट के बाद इससे पैसा निकालेंगे तो आपको इस पर इनकम टैक्‍स नहीं देना होगा। इसके अलावा आपके पीएफ अकाउंट में जो पैसा जाता है तो वह पहले से ही टैक्‍स फ्री होता है। अगर आप अपना पीएफ कंट्रीब्‍यूशन बढ़ाते हैं तो इससे आपको अपनी सैलरी पर टैक्‍स बचाने में भी आसानी होगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट