Home » Personal Finance » Financial Planning » Updateworkers have to contribute up to 20 percent of salary

यूनीवर्सल सोशल सिक्‍योरिटी स्‍कीम: वर्कर्स को सैलरी का 20 % तक करना होगा कंट्रीब्‍यूशन

मोदी सरकार ने 50 करोड़ वर्कर्स को सोशल सिक्‍योरिटी मुहैया कराने के लिए यूनीवर्सल सोशल सिक्‍योरिटी स्‍कीम का प्‍लान तैया

1 of

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार ने 50 करोड़ वर्कर्स को सोशल सिक्‍योरिटी मुहैया कराने के लिए यूनीवर्सल सोशल सिक्‍योरिटी स्‍कीम का प्‍लान तैयार किया है। इसके तहत वर्कर्स को सोशियो  इकोनॉमिक पैरामीटर के आधार पर चार कैटेगरी में बांटा जाएगा। सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 4 में आने वाले वर्कर्स को सोशल सिक्‍योरिटी के लिए कोई कंट्रीब्‍यूशन नहीं करना होगा। इनके लिए कंट्रीब्‍यूशन सरकार करेगी। बाकी सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 3 से लेकर सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 1 के तहत आने वाले वर्कर्स को अपनी सैलरी का 12.5 से 20 फीसदी तक कंट्रीब्‍यूशन करना होगा। 

 

सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 4 

 

अगर कोई वर्कर इम्‍पलाई या नॉन इम्‍पलाई है ओर वह सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 4 में आता है तो उसे सोशल सिक्‍योरिटी बेनेफिट के लिए कोई कंट्रीब्‍यूशन नहीं करना होगा। ऐसे वर्कर्स के लिए कंट्रीब्‍यूशन सरकार करेगी।  यहां पर नॉन इम्‍पलाई से मतलब है कि वर्कर अगर किसी कंपनी या किसी दूसरी जगह पर नौकरी नहीं करता है और अपना काम या बिजनेस करता है तो ऐसे लोग नॉन इम्‍पलाई माने जाएंगे लेकिन इन लोगों को भी सोशल सिक्‍योरिटी बेनेफिट मिलेगा। 

 

इम्‍पलाई को करना होगा 12.5 फीसदी कंट्रीब्‍यूशन 

 

अगर कोई वर्कर इम्‍पलाई लेकिन वह सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 4 में नहीं आता है तो उसे सोशल सिक्‍योरिटी बेनेफिट के लिए वेज या वेज सीलिंग में से जो भी कम हो उसका 12.5 फीसदी कंट्रीब्‍यूशन करना होगा। यहां इम्‍पलाई से मतलब ऐसे वर्कर्स से है जो किसी कंपनी या इस्‍टैबलिशमेंट में नौकरी करता हो। 

 

सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 3 

 

अगर वर्कर नॉन इम्‍पलाई है और सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 3 में आता है उसे सोशल सिक्‍योरिटी बेनेफिट के लिए नेशनल मिनिमम वेज का 20 फीसदी कंट्रीब्‍यूट करना होगा। नेशनल मिनिमम वेज केंद्र सरकार तय करेगी। 

 

सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 1 और 2 

 

अगर वर्कर नॉन इम्‍पलाई है और वह सोशियो इकोनॉमिक कैटेगरी 1 और 2 में आता है तो उसे सोशल सिक्‍योरिटी बेनेफिट के लिए मंथली इनकम या वेज सीलिंग का 20 फीसदी या नेशनल मिनिमम वेज का 20 फीसदी कंट्रीब्‍यूट करना होगा। 

 

कमजोर सोशियो इकोनॉमिक स्‍टेटर्स वाले वर्कर्स के सरकार देगी पैसा 

 

इस तरह से ऐसे वर्कर जो कमजोर सोशियो इकोनॉमिक स्‍टेटस वाले हैं उनको सोशल सिक्‍योरिटी मुहैया कराने के लिए सरकार पैसा देगी। इस कैटेगरी के वर्कर्स को इसके लिए कोई पैसा नहीं देना होगा। बाकी वर्कर जो सोशल सिक्‍योरिटी के लिए पैसा देना अफोर्ड कर सकते हैं उनको इसके लिए कंट्रीब्‍यूशन करना होगा। 


मिलेंगे ये सोशल सिक्‍योरिटी बेनेफिट 

 

सोशल सिक्‍योरिटी स्‍क्‍ीम के तहत वर्कर्स को पेंशन, प्रॉविडेंट फंड, मेडिकल बेनेफिट, सिकनेस बेनेफिट, अन इम्‍पलॉयमेंट बेनेफिट सहित कई दूसरे बेनेफिट मुहैया कराएंगे जाएंगे। सरकार कई चरणों में ये सभी बेनेफिट लगभग 50 करोड़ वर्कर्स को मुहैया कराएगी। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट