Advertisement

दूसरा बच्‍चा पैदा नहीं कर पा रहे चीन के लोग, ये है वजह

वैसे तो चीन में 'वन चाइल्ड पॉलिसी' को समाप्‍त हुए दो साल से ज्‍यादा का समय हो गया लेकिन इसके साइड इफैक्‍ट से अब भी लोग उ

1 of

नई दिल्‍ली। वैसे तो चीन में 'वन चाइल्ड पॉलिसी' को समाप्‍त हुए दो साल से ज्‍यादा का समय हो गया लेकिन इसके साइड इफैक्‍ट से अब भी लोग उबर नहीं सके हैं। स्थिति ये है कि चीन में लोग चाहकर भी बच्‍चे पैदा नहीं कर पा रहे हैं। यह हालात तब हैं जब देश की सरकार लोगों को दूसरा बच्‍चा पैदा करने के लिए अलग से बोनस दे रही है।  तो आइए जानते हैं कि आखिर किन वजहों से चाह कर भी चीन के लोग दूसरा बच्‍चा पैदा नहीं कर पा रहे हैं।   

 

यह है वजह 


ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक चीन में लोग फाइनेंशियल प्रॉब्‍लम की वजह से चाह कर भी बच्‍चे पैदा नहीं कर रहे हैं। इस संबंध में बीजिंग में देश के नेशनल हेल्‍थ एंड फैमिली प्‍लानिंग कमिशन के एक अधिकारी का बयान भी आया था।  अधिकारी यांग वेंझुआंग ने यह स्‍वीकार किया था कि चीन का हर चौथा कपल फाइनेंशिययल प्रेशर की वजह से दूसरा बच्‍चा करने से बच रहा है। 

 

क्‍या कहते हैं आंकड़े 


चीन के नेशनल ब्‍यूरो ऑफ स्‍टैटिस्‍टक्सि के आंकड़ों के मुताबिक 2016 में नवजात शिशुओं की संख्या 7.9 फीसदी बढ़कर 1.79 करोड़ हो गई। जबकि यह 'वन चाइल्ड पॉलिसी' में बदलाव का पहला साल था। वहीं 2016 के मुकाबले 2017 में 63 लाख कम बच्‍चे पैदा हुए। यानी इन आंकड़ों में 3.5 फीसदी की गिरावट आई। आगे पढ़ें - 14.3 फीसदी बच्चों की शिक्षा पर खर्च 
 

14.3 फीसदी बच्चों की शिक्षा पर खर्च 


पेकिंग यूनिवर्सिटी द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, चीन के शहरों में कुल घरेलू खर्च का 14.3 फीसदी बच्चों की शिक्षा पर खर्च किया जाता है। रिपोर्ट में कहा गया कि लोगों ने जब पहला बच्‍चा पैदा किया, उन्‍हें यह नहीं पता था कि आने वाले दिनों में  'वन चाइल्ड पॉलिसी' में बदलाव आएगा। यही वजह थी कि लोगों ने अपने एक बच्‍चे पर जी - जान से खर्चे करने लगे। रिपोर्ट में बताया गया है कि हर चौथा कपल कम स्‍पेस में रह लेता था। लेकिन दूसरा बच्‍चा करने के साथ ऐसे लोगों को नए अपार्टमेंट्स में शिफ्ट होना पड़ेगा। जबकि चीन के शहरों में अपार्टमेंट्स की कीमतें सातवें आसमान पर हैं। ऐसे में सामान्‍य कमाई करने वाले लोगों के लिए मुश्किलें आ रही हैं।  हाल ही में सिंगापुर के डॉक्‍टर और एंटरप्रन्‍योर वेइ सियांग यू ने भी एक कार्यक्रम के दौरान चीन में नवाजत बच्‍चों की संख्‍या में आई कमी पर चिंता जाहिर की।  

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement