Home » Personal Finance » Financial Planning » UpdateTrump blames India for withdraw from Paris climate deal

ट्रंप ने सारा दोष भारत के सि‍र मढ़ा, कहा हमारी बर्बादी का कारण बनती ये डील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के दोस्‍ताना व्‍यवहार की अकसर चर्चा होती रहती है।

1 of

नई दिल्‍ली... वैसे तो मीडिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के दोस्‍ताना व्‍यवहार की अकसर चर्चा होती रहती है। लेकिन इन दिनों अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रम्‍प के एक बयान की वजह से दोनों देशों के बीच के रिश्‍तों में तल्‍खी की संभावना बढ़ने लगी है। दरअसल, ट्रम्‍प ने एक डील से बाहर होने को लेकर भारत के खिलाफ मोर्चा खोला है। यही नहीं, अमेरिका ने इसमें भारत के दुश्‍मन चीन को भी दोषी ठहराया है। तो आइए जानते हैं कि आखिर क्‍या है वो डील। 

 

किस डील के लिए ठहराया दोषी 

 

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पेरिस जलवायु समझौते से बाहर निकलने के अपने फैसले के लिए भारत और चीन को दोषी ठहराया है। एक बार फिर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है कि समझौता सही नहीं था क्योंकि अमेरिका को उन देशों को भुगतान करना होता जिन्हें इसका सबसे ज्यादा लाभ मिल रहा था। आगे भी पढ़ें.... 

 


 

जून 2017 में किया था एलान 


ट्रम्‍प ने पिछले साल जून में पेरिस समझौता से पीछे हटने की घोषणा की थी। तब उन्होंने कहा था कि इस समझौते से अमेरिका को खरबों डॉलर का बोझ पड़ेगा। नौकरियां खत्म होंगी और तेल, गैस, कोयला और निर्माण उद्योगों पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। लेकिन उन्होंने यह भी कहा था कि फिर से समझौता करने का विकल्प वह खुला रखेंगे। एक साल के दौरान करीब 200 देश समझौते से सहमत हुए थे। 

 

अमेरिका के लिए बर्बादी का कारण बनती डील 


कंजरवेटिव पॉलिटिकल एक्शन कमेटी को संबोधित करते हुए ट्रम्‍प ने कहा, 'पेरिस जलवायु समझौते से हम बाहर हुए। यह देश के लिए बर्बादी का कारण बन सकती थी।' ट्रम्‍प ने तर्क दिया कि चीन और भारत जैसे देशों को पेरिस समझौते से लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर समझौता अमेरिका के लिए उचित नहीं था क्योंकि इससे देश का कारोबार और रोजगार बुरी तरह प्रभावित होता।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट