बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateआपके घर में काम करती है मेड तो खुलवाना होगा सोशल सिक्‍योरिटी अकाउंट

आपके घर में काम करती है मेड तो खुलवाना होगा सोशल सिक्‍योरिटी अकाउंट

अगर आपके घर में मेड काम करती है तो आपको उसका सोशल सिक्‍योरिटी अकाउंट खुलवाना होगा।

1 of

नई दिल्‍ली। अगर आपके घर में मेड काम करती है तो आपको उसका सोशल सिक्‍योरिटी अकाउंट खुलवाना होगा। इस अकाउंट के जरिए उसको प्रॉविडेंट फंड, पेंशन सहित दूसरी सोशल सिक्‍योरिटी सुविधाएं मिलेंगी। केंद्र सरकार ने इसके लिए सोशल सिक्‍योरिटी कोड 2018 का ड्राफ्ट तैयार किया है। आने वाले समय में इस कोड को संसद में पेश किया जाएगा। संसद की मंजूरी के बाद यह कोड लागू हो जाएगा। 

 

मेड का खुलवाना होगा विश्‍वकर्मा कार्मिक सुरक्षा खाता 

 

सोशल सिक्‍योरिटी कोड के मसौदे में कहा गया है कि अगर कोई परिवार घरेलू काम के लिए डोमेस्टिक हेल्‍प रखता है तो परिवार के मुखिया को मे‍ड का सोशल सिक्‍योरिटी के लिए रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा। रजिस्‍ट्रेशन कराने के साथ मेड का विश्‍वकर्मा कार्मिक सुरक्षा खाता खुल जाएगा। यह खाता मेड या डोमेस्टिक हेल्‍प के आधार से लिंक होगा। इसके अलावा यह खाता पोर्टेबल होगा। उदाहरण के लिए अगर कोई डोमेस्टिक हेल्‍प दिल्‍ली में काम कर रहा है और बाद में यह पश्चिम बंगाल में जाकर काम करता है तो उसको सोशल सिक्‍योरिटी के लिए दोबारा खाता नहीं खुलवाना होगा। उसका पहले का विश्‍वकर्मा सुरक्षा खाता ही काम करेगा। 

 

रजिस्‍ट्रेशन नहीं कराने पर लगेगी पेनल्‍टी 

 

कोड में प्रस्‍ताव किया गया है कि इम्‍पलॉयर के लिए एक तय समय में वर्कर का सोशल सिक्‍योरिटी के रजिस्‍ट्रेशन कराना जरूरी है। यहां पर मेड रखने वाले परिवार को भी इम्‍पलॉयर माना गया है। यानी परिवार के हेड को मेड का सोशल सिक्‍योरिटी के लिए रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा। अगर परिवार का मुखिया एक तय समय के अंदर मेड का रजिस्‍ट्रेशन नहीं कराता है तो उसे पेनल्‍टी देनी होगी। वहीं वर्कर यानी मेड को सरकार यह सुविधा देगी कि ऐसी सूरत में वह खुद सोशल सिक्‍योरिटी के लिए अपना रजिस्‍ट्रेशन करा सके। 

कैसे होगा रजिस्‍ट्रेशन

 

 कोड के मसौदे के तहत एक यूनिवर्सल रजिस्‍ट्रेशन सिस्‍टम बनाया जाएगा। इस सिस्‍टम में सभी एक्टिव वर्कर्स का रजिस्‍ट्रेशन सुनिश्चित होगा। रजिस्‍ट्रेशन आधार बेस्‍ड होगा। रजिस्‍ट्रेशन के तौर तरीके सेंट्रल बोर्ड तय करेगा। इसके अलावा फील्‍ड में रजिस्‍ट्रेशन का काम लोकल बॉडीज जैसे ग्राम पंचायत और म्‍युनिसिपल बॉडीज करेंगी। इसके अलावा कोड में यह प्रावधान भी है कि स्‍टेट बोर्ड वर्कर्स को रजिस्‍ट्रेशन की सुविधा मुहैया कराने के लिए फैसिलिटेशन सेंटर मुहैया कराएं। वे यह काम सार्वजनिक-निजी भागीदारी (प्राइवेट-पब्लिक पार्टनरशिप-पीपीपी मॉडल) पर भी कर सकेंगे। 

मेड को भी मिलेगा मातृत्‍व अवकाश 

कोड में कहा गया है सभी तरह के वर्कर चाहे वे संगठित क्ष्‍ेात्र में काम कर रहे हों या संगठित क्ष्‍ेात्र में उनको मातृत्‍व अवकाश मिलेगा। यानी अगर आपके परिवार में मेड काक करती है तो उसे भी 26 सप्‍ताह का मातृत्‍व अवकश दिया जाएगा। आप इस अवधि में उससे काम नहीं करा सकते हैं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट