Home » Personal Finance » Financial Planning » UpdateShah Jahan iconic Red Fort in Delhi is now Dalmia

25 करोड़ में इस कंपनी को मिला शाहजहां का लालकिला, हुई ऐतिहासिक डील

अगर देश के ऐतिहासिक धरोहरों की बात होती है तो लाल किला का जिक्र जरुर होता है।

1 of

नई दिल्‍ली।  अगर देश के ऐतिहासिक धरोहरों की बात होती है तो लाल किला का जिक्र जरुर होता है। लेकिन अब जो खबर आ रही है उसके मुताबिक लालकिला को एक बड़े कॉरपोरेट हाउस डालमिया ग्रुप ने अपना बना लिया है। यह डील 25 करोड़ रुपए में हुई है। इसी के साथ इस ऐतिहासिक स्मारक को गोद में लेने वाला भारत का पहला कॉर्पोरेट हाउस बन गया है। तो आइए जानते हैं कि आखिर क्‍यों हुई है ये डील।  

 

इन कंपनियों को छोड़ा पीछे

मीडिया सोर्सेज के मुताबिक डालमिया ग्रुप ने ये कॉन्ट्रैक्ट इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर ग्रुप को हराकर जीता है। ये कॉन्ट्रैक्ट सरकार की ऐतिहासिक स्मारकों को गोद देने की स्कीम 'एडॉप्ट ए हेरिटेज' का हिस्सा है। 

 

23 मई से काम शुरू 

 

जानकारी के मुताबिक डालमिया ग्रुप संभवत: 23 मई से काम भी शुरू करने की प्रक्रिया में जुट जाएगा । इस में यह खाका तैयार होगा कि कैसे लाल किले का विकास हो। हालांकि 15 अगस्त के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण से पहले जुलाई में डालमिया ग्रुप को लालकिला फिर से सिक्योरिटी एजेंसियों को देना होगा। इसके बाद ग्रुप एकबार फिर से लाल किले को अपने हाथ में ले लेगा।

 

 

9 अप्रैल को हुई डील 


लालकिला के कॉन्‍ट्रैक्‍ट को लेकर डालमिया भारत ग्रुप, टूरिज्म मिनिस्‍ट्री, आर्कियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) के बीच बीते 9 अप्रैल को डील हुई। कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक ग्रुप को 6 महीने के भीतर लाल किले में बेसिक सुविधाएं देनी होंगी। आगे पढ़ें - कंपनी को क्‍या - क्‍या करना होगा 


 

 

ये हैं बेसिक सुविधाएं 


इसमें पीने के पानी की सुविधा, स्ट्रीट फर्नीचर जैसी सुविधा शामिल हैं। एक साल के भीतर उसे टेक्‍सटाइल  मैप, टायलेट अपग्रेडेशन, रास्तो पर लाइटिंग, बैटरी से चलने वाले व्हीकल, चार्जिंग स्टेशन और एक कैफेटेरिया बनाना होगा। इसके लिए डालमिया ग्रुप टूरिस्ट से पैसे चार्ज कर सकेगा।  ग्रुप को जितना पैसा मिलेगा उसे वो पैसा फिर से लाल किले के विकास पर ही लगाना होगा। इसके अलावा ग्रुप लाल किले के भीतर अपनी ब्रांडिंग का उपयोग कर सकेगा। आगे पढ़ें - ताजमहल की भी बारी 

 

 

 

अब ताजमहल की बारी
लाल किला के बाद 'एडॉप्ट ए हेरीटेज' के तहत जल्‍द ही ताजमहल को गोद लेने की प्रक्रिया भी पूरी हो जाएगी। ताज महल को गोद लेने के लिए जीएमआर स्पोर्ट्स और आईटीसी अंतिम दौर में है। दरअसल, सरकार ने 'एडॉप्ट ए हेरीटेज' स्कीम सितंबर 2017 में लॉन्च की थी। देश भर के 100 ऐतिहासिक स्मारकों के लिए ये स्कीम लागू की गई है। इसमें ताजमहल, कांगड़ा फोर्ट, सती घाट और कोणार्क मंदिर जैसे कई प्रमुख स्थान हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट