बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateराजधानी और शताब्‍दी एक्‍सप्रेस का बदल जाएगा लुक, आपको मिलेंगी ये सुविधाएं

राजधानी और शताब्‍दी एक्‍सप्रेस का बदल जाएगा लुक, आपको मिलेंगी ये सुविधाएं

सरकार राजधानी और शताब्‍दी एक्‍सप्रेस को न केवल और सुंदर बनाने जा रही है, बल्कि सर्विसेज में सुधार करने की भी योजना है।

1 of

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार देश की सबसे बेहतर ट्रेन राजधानी और शताब्‍दी एक्‍सप्रेस को न केवल और सुंदर बनाने जा रही है, बल्कि सर्विसेज में सुधार करने की भी योजना है। इससे आपके लिए इन दोनों ट्रेनों में सफर करना और आरामदायक हो जाएगा। हालांकि महंगे किराये की वजह से ज्‍यादा लोग इन ट्रेनों में सफर नहीं कर पाते, लेकिन अपनी स्‍पीड और सर्विसेज के कारण राजधानी या शताब्‍दी में सफर हर कोई करना चाहता है। इसी बात का ख्‍याल रखते हुए सरकार ने इन दोनों ट्रेनों की सर्विसेज में और सुधार करने का निर्णय लिया है। 

 

आइए, जानते है कि ऐसी कौन सी सर्विसेज हैं, जो आपके लिए फायदेमंद हो सकती हैं। 

 

क्‍या है ये प्रोजेक्‍ट 
ये सुधार रेल मंत्रालय के स्वर्ण प्रोजेक्‍ट के तहत किए जाएंगे। इस प्रोजेक्‍ट के तहत राजधानी और शताब्दी गाड़ियों में सुधार के लिए एक विस्तृत कार्यक्रम बनाया गया है। जिसमें 10 डायमेंशन पर फोकस किया जाएगा। 
1.         कोच के अंदर की दशा
2.         प्रसाधन
3.        कोच के अंदर सफाई की स्थिति
4.        समय की पाबंदी
5.         खान-पान
6.        बिस्तर
7.       स्टाफ का व्यवहार
8.      सुरक्षा
9.     कोच के अंदर मनोरंजन सुविधा
10.    रीयल टाइम फ़ीडबैक

 

आगे पढ़ें : क्‍या हैं स्वर्ण राजधानी की विशेषताएं

 

क्‍या हैं स्वर्ण राजधानी की विशेषताएं


- अंतर्राष्ट्रीय रंग संयोजन के अनुरूप डिब्बों को अंदर से पेंट किया गया है और एलईडी प्रकाश व्यवस्था की गयी है।
- टायलेट्स में ‘ऑटो जेनिटर’ के जरिए बेहतर साफ-सफाई उपलब्ध करायी गयी है।
- स्वास्थ्य सुविधा को ध्यान में रखते हुए बेहतर वॉश बेसिन लगाये गये हैं और साबुन की उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है। इसके अलावा बेहतर डस्टबिन भी रखे गये हैं।
- बर्थ नंबर और अन्य सुविधा देने के लिए अंधेरे में देखे जाने योग्य संकेतक लगाये गये हैं।
- प्रथम श्रेणी वातानुकुलित डिब्बे के यात्रियों के लिए दो अलग-अलग रंग के कंबलों की व्यवस्था की गयी है। अप और डाउन गाड़ियों में अलग-अलग रंग के कंबल होंगे।
- ऊपर की बर्थ पर आसानी से पहुंचने के लिए प्रथम श्रेणी वातानुकुलित डिब्बे में सीढ़ी लगाई गयी है।
- दरवाजों और बर्थ के आस-पास संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं।
- पत्रिका रखने के बैगों को नये डिजाईन में बनाया गया है और उसमें मोबाईल फोन रखने के लिए अतिरिक्त व्यवस्था की गयी है।
- शीशों के ऊपर एलईडी लाईट लगायी गयी है।
- टॉयलेट्स में सफाई को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त मैट रखा गया है और सफाई के लिए शुष्क शौचालय की व्यवस्था है।
- गंधहीन कमोड और बेसिन लगाये गये हैं और उन पर पॉलिश की गयी है।
- यात्रियों का फीडबैक जानने के लिए तीन पायलट कोच सेवा में हैं।
 

आगे पढ़ें : क्‍या आएगा खर्च 


क्‍या आएगा खर्च 
रेलवे के मुताबिक, इन सर्विसेज में सुधार के लिए रेलवे ने हर ट्रेन पर लगभग 35 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे और एक डिब्‍बे में 2 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट