बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateचीन के लिए पाक को चाहिए ज्यादा गधे, बढ़ेगी कमाई

चीन के लिए पाक को चाहिए ज्यादा गधे, बढ़ेगी कमाई

चीन का पाकिस्‍तान पर प्रभाव के बारे में दुनिया जानती है।

1 of

नई दिल्‍ली। चीन का  पाकिस्‍तान पर प्रभाव के बारे में दुनिया जानती है। कई ऐसी रिपोर्ट आ चुकी है कि  चीन यहां आर्थिक मदद के जरिए अपने प्रभाव का इस्‍तेमाल करता है और भारत के खिलाफ उसे भड़काने का काम करता है।  चीन का इतना प्रभाव है कि पाकिस्‍तान को मजबूरन उसके हितों के लिए काम करना पड़ता है। मसलन, चीन में गधों की ज्‍यादा खपत है तो पाकिस्‍तान उसके लिए हर साल गधों की संख्‍या बढ़ा रहा है। यह खुलासा खुद पाकिस्‍तान सरकार के 2017-18 के आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट के जरिए हुआ है। तो आइए जानते हैं कि पाकिस्‍तान आखिर क्‍या और कैसे गधों की संख्‍या बढ़ा रहा है । 

 

क्‍या है रिपोर्ट में 

 

दरअसल, गुरुवार को 2017-18 के लिए पाकिस्तान का आर्थिक सर्वेक्षण जारी किया गया। इसमें देश के विकास दर से लेकर अन्‍य कई तरह के आंकड़े पेश किए गए। लेकिन एक जो आंकड़ा रिपोर्ट में दिया गया है वो बेहद ही दिलचस्‍प है। इसके अनुसार बीते एक साल में देश में जानवरों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। उसमें भी गधों की संख्‍या में लगातार इजाफा हो रहा है।  आगे पढ़ें ---चीन के लिए पाक कर रहा निवेश 

 

 

1 लाख का इजाफा 

 

रिपोर्ट में बताया गया है कि इस साल पाकिस्‍तान में गधों की संख्या में 1 लाख का इजाफा हुआ है। इसके मुताबिक 2017-18 में इनकी संख्या बढ़ कर 53 लाख हो गई है। इससे पहले 2015-16 के दौरान गधों की संख्या 51 लाख थी, वहीं 2016-17 में ये संख्या बढ़ कर 52 लाख रही। 

 

चीन के लिए पाक कर रहा निवेश 

 

पाकिस्तान में गधों की संख्‍या में बढ़ोतरी की सबसे बड़ी वजह चीन है। दरअसल, पाकिस्‍तानी गदहों का सबसे बड़ा खरीददार चीन है। यही वजह है कि पाकिस्‍तान अपने अलग - अलग हथकंड़ों से गधों की संख्‍या बढ़ाने में जुटा है।  


गधा विकास कार्यक्रम पर अरबों रुपए खर्च 

 

पाकिस्‍तानी मीडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में पाकिस्‍तान ने 'गधा विकास कार्यक्रम' में अरबों रुपए का निवेश किया है। पाकिस्तान पंजाब की एक रिपोर्ट के अनुसार गधे के निर्यात से मिलने वाली आय का सकल राष्ट्रीय उत्पाद का अहम हिस्सा है। आगे पढ़ें --इसलिए चीन करता है खरीददारी 

 

 

इसलिए चीन करता है खरीददारी 

 

रिपोर्ट के मुताबिक चीन में गधों की खाल काफी उपयोगी मानी जाती है और इसका इस्तेमाल हेल्थ फ़ूड और पारंपरिक दवा बनाने में किया जाता है। गधे की खाल से जिलेटिन बनता है जिसे चीन में इजीयो भी कहते हैं। पुराने समय से इसका उपयोग ब्लड सर्कुलेशन बेहतर बनाने वाली चीनी दवाई के तौर पर किया जाता है। 


गधे के मांस की भी मांग 

 

चीन में गधे के मांस की भी काफी मांग है। लेकिन हाल के सालों में इनकी आबादी में आई बड़ी गिरावट और सुस्त प्रजनन क्षमता के कारण सप्‍लायर को अन्य विकल्प तलाशने पर विवश कर दिया था। यही वजह है कि वह पाकिस्‍तान जैसे देशों की ओर रुख कर रहे हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट