बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateमोदी के महि‍लाओं के लिए 4 खास गि‍फ्ट, आपको मि‍ला फायदा

मोदी के महि‍लाओं के लिए 4 खास गि‍फ्ट, आपको मि‍ला फायदा

मां अगर चाह दे तो वह कोई असंभव सा दिखने वाला काम भी संभव कर सकती हैं।

1 of
नई दि‍ल्‍ली. मां अगर चाह दे तो वह कोई असंभव सा दिखने वाला काम भी संभव कर सकती हैं। आज मदर्स डे है। ऐसे में जब हम अपनी मां को प्‍यार भरा संदेश देना चाहते हैं। इसी दौरान हमें याद रखना होगा कि‍ देशभर में मां और महि‍लाओं उनके हक मि‍ल रहे हैं या नहीं। ऐसे में कई प्रकार की योजनाओं के द्वारा भारत सरकार भी महिलाओं के खिलाफ हो रहेे भेदभाव के प्रति सजग हो रही है। ऐसेे मेंं यह योजनाएं कमजोर और पीड़ि‍त महिलाओं को आवाज उठाने में मदद कर रही हैं। मोदी सरकार ने भी महिलाओं के मुद्दों और देश की अर्थव्यवस्था में उनके योगदान को मान्यता दी है। वहीं, सरकार की ओर से पि‍छले कुछ साल में कई योजनाएं महि‍लाओं के लि‍ए लागू की गई हैं। क्‍या आपने इन योजनाओं का लाभ उठाया। 

 
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ 
 
इस योजना को हालांकि‍ बेटि‍यों के लि‍ए शुरू कि‍या गया है। लेकि‍न सक्षम कल की शुरुअात अच्‍छे आज से होती है। ऐसे में बेटि‍यां पढ़ेंगी और सक्षम होंगी तो वे मां भी सक्षम होंगी। ऐसे में यह एक सामाजिक अभियान है जिसका लक्ष्य है कि महिला भेदभाव के उन्मूलन और युवा भारतीय लड़कियों के लिए कल्याण सेवाओं पर जागरूकता बढ़ाना। 22 जनवरी 2015 को शुरू, यह महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा संयुक्त उपक्रम है। इस प्रोग्राम का टारगेट है कि‍ सभी लड़कि‍यां जि‍नकी पढ़ाई कि‍सी भी वजह से रुक जाती है उन्‍हें आगे पढ़ाई के लि‍ए प्रेरि‍त करना। वहीं, जो लोग अपनी बेटि‍यों को पढ़ाते नहीं है उन्‍हें समझाना कि‍ पढ़ाई ही उनके वि‍कास का आधार है। बेटी बचाओ योजना फ़िलहाल देश के केवल 161 ज़िलों में लागू है, जिसे अब 640 ज़िलों में बढ़ाया जा रहा है।  
आगे पढ़ें : अपने हुनर से कमाई का बनेगा रास्‍ता   
महिला ई-हॉट 
 
इस योजना का मुख्य फोकस घर पर रहने वाली महिलाओं पर है। उन्हें ही ध्यान में रख कर ये योजना शुरु की गई है। क्‍योंकि‍ जो महि‍लाएंं परि‍वार और बच्‍चों की जि‍म्‍मेदारी के चलते नौकरी के लि‍ए नहीं जा पाती। उनके लि‍ए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने एक मंच तैयार किया है जिसके माध्यम से महिलाएं अपने हुनर के जरिए कमाई भी कर सकती हैं। मंत्रालय ने इस योजना का नाम महिला 'ई-हाट' दिया है।  
 
इस योजना के प्रसार के लि‍ए एक वेबसाइट भी शुरू की गई है। सरकार की ओर से कहा गया है कि‍ इस वेबसाइट के शुरू होने से ही 125000 से अधिक महिलाओं को लाभ मि‍लने की आशा है। इससे प्रौद्योगिकी का लाभ उठाकर अपनी आय पर नियंत्रण करने में महिलाओं को सक्षम बनाकर आदर्श बदलाव के परिणाम की अपेक्षा है। 
आगे पढ़ें : इससे योजना ने कि‍या बड़ा बदलाव   
उज्‍ज्‍वला योजना 
 
प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाली 2 करोड़ से अधिक महिलाओं को गैस सिलेंडर वितरित किए गए। सरकार ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत अगले 3 सालों में गरीबी रेखा से नीचे रहने वाली 5 करोड़ से अधिक महिलाओं को नए एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने के लिए 8000 करोड़ रुपए को मंज़ूरी दी है। 
आगे पढ़ें : बच्‍चों की होगी सही देखभाल तो आराम से बढ़ेंगी आगे     
वर्किंग वुमन हॉस्‍टल 
 
इस योजना का उद्देश्‍य है काम करने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित आवास असानी से उपलब्‍ध कराना। जहां पर उनके बच्‍चों के देखभाल की सुविधा और जरूरत की हर चीज आसपास उपलब्‍ध हो। यह योजना शहरी, सेमी अरबन और ग्रामीण सभी जगह पर उपलब्‍ध है। जहां पर महिलाओं के लिए रोजगार के अवसर मौजूद हैं। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट