बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateछत पर प्‍लेन बनाकर बटोरी थी सुर्खियां, अब 35000 करोड़ में की डील

छत पर प्‍लेन बनाकर बटोरी थी सुर्खियां, अब 35000 करोड़ में की डील

कहते हैं कि किस्‍मत बदलने का इंतजार मत करो। अपना काम जारी रखो, आपकी मेहनत एक दिन जरूर रंग लाएगी।

1 of

नई दिल्‍ली। कहते हैं कि किस्‍मत बदलने का इंतजार मत करो। अपना काम जारी रखो, आपकी मेहनत एक दिन जरूर रंग लाएगी। यह कहावत मुंबई के अमोल यादव नामक शख्‍स से बिल्‍कुल सही साबित की है। जी हां, वही अमोल यादव जिसने अपनी छत पर हवाई जहाज बनाकर सुर्खियां बटोरी थीं। तब उनके इस प्रोजेक्‍ट को मुंबई में हुए मेगा आयोजन ‘मेक इन इंडिया’ में प्रदर्शित किया गया था। लंबे इंतजार के बाद अब अमोल की मेहनत रंग लाई है और महाराष्‍ट्र सरकार ने उनके साथ 35 हजार करोड़ की डील की है। तो आइए जानते हैं कि कैसे बदली अमोल की किस्‍मत । 

 

कैसे बदली अमोल की किस्‍मत 
दरअसल, महाराष्‍ट्र की सरकार ने अमोल की कंपनी थ्रस्ट एयरक्राफ्ट प्रा. लि. को  20 सीटर विमान बनाने के लिए एक स्वदेशी कारखाना लगाने की मंजूरी दी है।  यह कारखाना महाराष्‍ट्र के शहर पालघर में बनेगा। इस प्रोजेक्‍ट की कुल लागत 35,000 करोड़ रुपए है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की सरकार ने यादव के थ्रस्ट एयरक्राफ्ट प्रा. लि. के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर भी किया है।

 

कभी देश छोड़ने को थे मजबूर  
जेट एयरवेज में डिप्टी चीफ पायलट रहे अमोल ने घर की छत पर 19 साल मेहनत करके एयरक्राफ्ट टीएसी-003 बनाया था।  एयरक्राफ्ट 2011 में बन गया था। तब से अमोल सर्टिफिकेट पाने की कोशिश कर रहे थे। एक ऐसा भी वक्‍त आया जब अमोल ने निराश होकर अपने विमान के प्रोटोटाइप के साथ अमेरिका जाने की तैयारी करने लगे। लेकिन बाद में उन्‍हें सर्टिफिकेट मिल गया। 

 

मां ने मंगलसूत्र बेचा, भाई ने घर गिरवी रखा
अमोल ने एक इंटरव्‍यू में बताया था  मेरे सपने को सकार करने के लिए मां ने अपना मंगलसूत्र बेचकर मुझे पैसे दिए। भाई ने अपना घर तक गिरवी रख दिया। मैंने एयरक्राफ्ट बनाने के लिए घर की छत पर ही टीन शेड लगाया, वहीं काम शुरू किया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट