बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateउद्योगपतियों पर मोदी का बड़ा हमला, ऐसे लगाई लताड़

उद्योगपतियों पर मोदी का बड़ा हमला, ऐसे लगाई लताड़

कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर उद्योगपतियों के लिए काम करने का आरोप लगाया

1 of

नई दिल्‍ली। अकसर कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर उद्योगपतियों के लिए काम करने का आरोप लगाया है। लेकिन पीएम मोदी ने हाल ही में अपने बयान में  उद्योगपतियों को जमकर लताड़ लगाई है। 

 

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाणिज्य एवं उद्योग मंडल फिक्की की सालाना आम बैठक में देश के शीर्ष उद्योगपतियों को संबोधित किया। इस दौरान उन्‍होंने कांग्रेस की यूपीए सरकार पर निशाना साधते हुए उद्योगपतियों पर भी जमकर हमला बोला। तो आइए, जानते हैं पीएम मोदी ने क्‍या हमला किया। 

 

उद्योगपतियों के माध्यम से लूट 


पीएम ने कहा कि नॉन प्रॉफिट एसेट्स NPA, यूपीए सरकार का सबसे बड़ा घोटाला था। कॉमनवेल्थ, 2 जी, कोयला,सभी से कहीं ज्यादा बड़ा घोटाला। उद्योगपतियों पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा कि ये एक तरह से सरकार में बैठे लोगों द्वारा उद्योगपतियों के माध्यम से जनता की कमाई की लूट थी। जो लोग मौन रहकर सब कुछ देखते रहे, क्या उन्हें जगाने की कोशिश, किसी संस्था द्वारा की गई। आगे पढ़ें - और क्‍या बोले पीएम मोदी 

 

 

यूपीए सरकार पर हमला 


पीएम मोदी ने पिछली यूपीए सरकार पर हमला करते हुए कहा, मुझे जानकारी नहीं है कि पहले की सरकार की नीतियों ने जिस तरह बैंकिंग सेक्टर की दुर्दशा की, उस पर फिक्की ने कोई सर्वे किया है या नहीं? 


फिक्‍की पर भी उठाए सवाल 


पीएम ने आगे कहा कि जब पिछली यूपीए सरकार में बैठे कुछ लोगों द्वारा बैंकों पर दबाव डालकर कुछ विशेष उद्योगपतियों को लोन दिलवाया जा रहा था, तब फिक्की जैसी संस्थाएं क्या कर रही थीं?पहले की सरकार में बैठे लोग जानते थे,बैंक भी जानते थे, उद्योग जगत भी जानता था,बाजार से जुड़ी संस्थाएं भी जानती थीं कि गलत हो रहा है। लेकिन सब खामोश थे। आगे भी पढ़ें - 

 

MSME का पैसा समय पर चुकाया जाए 
पीएम ने कहा कि मेरी एक और अपेक्षा आपसे है कि MSME का जो पैसा बड़ी कंपनियों पर बकाया रहता है, वो समय पर चुकाया जाए, इसके लिए भी कुछ करिए। नियम है लेकिन ये भी सच है कि छोटे उद्यमियों का पैसा ज्यादातर बड़ी कंपनियों के पास अटका रहता है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट