Home » Personal Finance » Financial Planning » Updateknow pf interest on 5 lakh deposit

PF अकाउंट में हैं 5 लाख रुपए तो जानें इस बार कितना कम मिलेगा ब्‍याज

कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ईपीएफओ ने इस साल इम्‍पलाइज प्रॉविडेंट फंड यानी ईपीएफ पर 8.55 फीसदी ब्‍याज तय करने की सिफारिश

1 of

नई दिल्‍ली। कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ईपीएफओ ने इस साल इम्‍पलाइज प्रॉविडेंट फंड यानी ईपीएफ पर 8.55 फीसदी ब्‍याज तय करने की सिफारिश की है। वित्‍त मंत्रालय की मंजूरी के बाद केंद्रीय श्रम मंत्रालय इस बारे में नोटिफिकेशन जारी करेगा। इसके बाद इस साल यानी 2017-18 का ब्‍याज आपके पीएफ अकाउंट में आएगा। पिछले साल ईपीएफओ ने पीएफ पर 8.65 फीसदी ब्‍याज तय किया था। हम आपको बता रहे हैं कि आपको इस साल पिछले साल की तुलना में ब्‍याज के तौर पर कितना कम पैसा मिलेगा। 


पीएफ अकाउंट में है 5 लाख रुपए तो कितना मिलेगा ब्‍याज 

 

मान लेते हैं कि आप ईपीएफ मेंबर हैं और आपके पीएफ अकाउंट में 5 लाख रुपए हैं तो आपको इस साल यानी 2017-18 में 5 लाख रुपए पर 8.55 फीसदी ब्‍याज मिलेगा। यानी आपको इस साल पीएफ डिपॉजिट पर 42,750 रुपए ब्‍याज मिलेगा। 

 

अगर ईपीएफओ नहीं करता ब्‍याज कम करने की सिफारिश 

 

अगर ईपीएफओ ईपीएफ पर पिछले साल के 8.65 फीसदी के बजाए 8.55 फीसदी करने की सिफारिश नहीं करता। यानी पिछले साल की ब्‍याज दर को जारी रखता तो आपको 5  लाख रुपए पीएफ डिपॉजिट पर 8.65 फीसदी की दर से ब्‍याज मिलता। यानी आपको इस साल 5 लाख रुपए पीएफ डिपॉजिट पर 43,250 रुपए ब्‍याज मिलता। 

 

5 लाख रुपए की पीएफ डिपॉजिट पर आपको कितना होगा नुकसान 

 

इस साल ईपीएफ पर ब्‍याज दर में 10 बेसिस प्‍वाइंट यानी 0.10 फीसदी की कमी से आपको 5 लाख रुपए की पीएफ डिपॉजिट पर 500 रुपए का नुकसान होगा। 

 

क्यों की गई ऐसी सिफारिश?

- ट्रेड यूनियन हिंद मजदूर सभा के प्रेसिडेंट और सीबीटी मेंबर एडी नागपाल ने moneybhaskar.com को बताया, "ईपीएफओ सरप्‍लस रखना चाहता है। इसलिए ब्‍याज दर घटाने की सिफारिश की गई है। ईपीएफओ ने पिछले साल 700 करोड़ रुपए सरप्‍लस रखा था। हमारी मांग थी कि ब्‍याज दर को 8.65 फीसदी पर बनाए रखा जाए, तब भी 48 करोड़ सरप्‍लस रहता। लेकिन, सरकार ने हमारी मांग नहीं मानी।"

 

बीते 5 सालों में पीएफ पर ब्याज 

फाइनेंशियल ईयर पीएफ दर
2013-14  8.75% 
2014-15  8.75%
2015-16 8.80%
2016-17 8.65%
2017-18 8.55% (प्रस्तावित)


 

 

 
  
  
  

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट