Home » Personal Finance » Financial Planning » Updatewith strong financial plan your life will be tension free

2018 में ऐसे करें फाइनेंशियल प्‍लानिंग, लाइफ रहेगी टेंशन फ्री

नए साल यानी 2018 की शुरुआत आप जरूर पॉजिटिव कदमों के साथ करना चाहेंगे। ऐसा कदम आपकी पूरी लाइफ पर पॉजिटिव असर हो

1 of

नई दिल्‍ली। नए साल यानी 2018 की शुरुआत आप जरूर पॉजिटिव कदमों के साथ करना चाहेंगे। ऐसा कदम आपकी पूरी लाइफ पर पॉजिटिव असर हो। इसमें सबसे पहले कदम के तोर पर आप फाइनेंशियल प्‍लानिंग को ले सकते हैं। पैसाबाजारडॉटकॉम के सीईओ और को फाउंडर नवीन कुकरेजा ने moneybhaskar.com को बताया कि एक मजबूत फाइनेंशियल प्‍लान न सिर्फ आपके और आपकी फैमिली का भविष्‍य सुरक्षित करता है बल्कि इसके जरिए आप आपनी चाहतों को पूरी करने के साथ टेंशन फ्री लाइफ जी सकते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं कि आप कैसे स्‍मार्ट फाइनेंशियल प्‍लान बना कर इस पर अमल कर सकते हैं। 

 

5 लाख रुपए तक की इनकम वालों के लिए 

 

तय करें अपना लक्ष्‍य 

 

सबसे पहले अपना फाइनेंशयल गोल या टार्गेट तय करें। फाइनेंशियल गोल तय करना फाइनेंशियल प्‍लान तैयार करने की दिशा में पहला कदम है। जैसे आप अपने बच्‍चे की हायर एजुकेशन के लिए फंड बनाना चाहते है, या कार खरीदना चाहते हैं या घर खरीदना चाहते हैं। इसके बाद आप तय करें कि आपको अपना लक्ष्‍य हासिल करने के लिए कितने पैसे की जरूरत होगी और इसे पाने के लिए आपके पास कितना समय है। इसके बाद आप किसी फाइनेंशियल प्‍लानर से कंसल्‍ट कर सकते हैं कि आपको अपना हासिल करने के लिए हर माह कितना पैसा कंट्रीब्‍यूट करना होगा। इसके लिए आप ऑनलाइन फाइनेंशियल गोल कैलकुलेटर की मदद भी ले सकते हैं। 

 

मंथली खर्च का बनाए बजट 

 

एजुकेशन, मेडिकल और रोजमर्रा की जरूरतों की चीजों की लागत बढ़ रही है। ऐसे में आपको अपने खर्च को लेकर बेहद सतर्क रहना होगा। सबसे पहले आप अपने जरूरी और गैर जरूरी खर्च को अलग करें। इसके बाद गैर जरूरी खर्च को कम करने की हर संभव कोशिश करें। इस तरह से जो भी सेविंग होगी उससे आप अपने फाइनेंशियल गोल को हासिल करने के लिए हर माह ज्‍यादा कंट्रीब्‍यूट कर पाएंगे।  

 

बनाए इमरजेंसी फंड 

 

इसके बाद अगले कदम के तौर पर इमरजेंसी फंड बनाएं। यह फंड आपके छह से 1 साल तक के जरूरी खर्च को पूरा करने के लायक होना चाहिए। अगर किसी कारण जैसे नौकरी चली जाने, बीमारी या किसी अन्‍य कारण से आपकी इनकम बंद हो जाती है तो यह इमरजेंसी फंड आपके काम आएगा। बिना इमरजेंसी फंड के ऐसी स्थिति आने पर आप अपने निवेश में से पैसा निकालेंगे या महंगे इंटरेस्‍ट रेट पर लोन लेंगे। इमजरेंसी फंड आपको इस स्थिति से बचाएगा। सेविंग अकाउंट में इमरजेंसी फंड रखने के बजाए आपको अल्‍ट्रा शार्ट टर्म डेट फंड में निवेश करना चाहिए। यह फंड आपको न्‍यूनतम रिस्‍क के साथ ज्‍यादा रिटर्न देगा। 

 

लंबी अवधि के लिए इक्विटी में करें निवेश 

 

लंबी अवधि में इक्विटी फंड किसी भी दूसरे असेट क्‍लास की तुलना में ज्‍यादा रिटर्न देते हैं। ऐसे गोल जिनको पूरा करने के लिए आपके पास 5 साल से अधिक का समय है के लिए इक्विटी फंडों में निवेश करें। जैसे बच्‍चे की एजुकेशन या शादी के लिए फंड बनाना या रिटायरमेंट के बाद की जरूरतों को पूरा करने के लिए रिटायरमेंट फंड बनाना। इसके लिए इक्विटी फंडों में निवेश करना बेहतर है। हर माह 1,000 एसआईपी में निवेश कर आप लंबी अवधि के लिए अपनी पैसों की जरूरत को पूरा कर सकते हैं। ऐसे लक्ष्‍य जिनको पाने के लिए आपके पास 3 साल का समय उनके लिए शार्ट टर्म डेट फंड में निवेश करें। वहीं ऐसे लक्ष्‍य जिनको पूरा करने के लिए आपके पास 3 से 5 साल का समय है, उसको पाने के लिए आप हाइब्रिड फंड में निवेश करें। 

 

खरीदें इन्‍श्‍योरेंस कवर

 

इनकम करने वाले हर एक व्‍यक्ति के लिए पर्याप्‍त इन्‍श्‍योरेंस कवर जरूरी है। लाइफ कवर के लिए आपको टर्म प्‍लान लेना चाहिए जिसका सम एश्‍योर्ड आपकी सालाना इनकम का 15 गुना हो। इसके अलावा आपको किसी भरोसेमंद बीमा कंपनी से हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस कवर भी लेना चाहिए। यह कवर आपके या आपके परिवार के सभी बड़े मेडिकल खर्च को पूर करेगा। बढ़ती मेडिकल कास्‍ट और गंभीर बीमारियों के इलाज में लाखों रुपए की जरूरत को देखते हुए हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस कवर बहुत जरूरी हो गया है। 

 

सालाना 5 लाख रुपए से अधिक इनकम वालों के लिए 

 

मजबूत फाइनेंशियल प्‍लान बनाने के लिए बेसिक चीजें ज्‍यादातर लोगों के लिए समान होती हैं। ऐसे में ऊपर दिए गए ज्‍यादातर टिप्‍स उन लोगों के लिए भी लागू होते हैं जिनकी सालाना इनकम 5 लाख रुपए से अधिक है। हालांकि 5 लाख रुपए से अधिक इनकम वालों को कुछ दूसरी चीजों को भी ध्‍यान में रखना चाहिए। 

 

कम अवधि के लक्ष्‍य के लिए हाइब्रिड फंडों में करें निवेश 

 

ऐसे लोग जिनकी इनकम ज्‍यादा होती है और जिनके पर्याप्‍त पर्याप्‍त पैसा होता है वे आम तौर पर निवेश में ज्‍यादा रिस्‍क उठाते हैं। हालांकि डेट फंड में निवेश से उनको जो फायदा होता है उसे शार्ट टर्म कैपिटल गेन माना जाता है और उस टैक्‍स स्‍लैब के हिसाब से टैक्‍स लगता है। ऐसे में जो लोग 30 फीसदी के टैक्‍स ब्रैकेट में आते हैं उनको एक साल के लक्ष्‍य के लिए आर्बिटरेज फंड में निवेश करने पर विचार करना चाहिए जिस लक्ष्‍य के लिए उनके पास 1 से 3 साल का समय है उसके लिए उनको इक्विटी सेंविंग फंडों में निवेश करना चाहिए। जो लोग अधिक रिस्‍क ले सकते हैं उनको बैलेंस्‍ड और बैलेंस्‍ड एडवांटेज फंडों में निवेश करना चाहिए। 

 

एक से ज्‍यादा लोन को सस्‍ते लोन में कराएं कन्‍वर्ट 

 

ऐसे लोग जिनकी इनकम अधिक है उनके लिए ज्‍यादा लोन लेना आसान होता है। कई बार लोग कई लोन ले लेते हैं ओर हर माह 2 या तीन लोन की ईएमआई चुकाते हैं। इससे उनके पास लंबी अवधि के लिए निवेश के लिए बहुत कम पैसा होता है। अगर आप भी ऐसी स्थिति में हैं तो आपको अपने एक से ज्‍यादा लोन को एक लोन में कन्‍वर्ट कराना चाहिए जिस पर इंटरेस्‍ट कम हो और आपको लोन का रिपेमेंट करने के लिए ज्‍यादा समय मिले। अगर आप ने होम लोन ले रखा है तो टॉप अप होम लोन या होम लोन बैलेंस ट्रांसफर इसके लिए बेहतर विकल्‍प हैं। इसके अलावा आप लोन अगेंस्‍ट प्रॉपर्टी और पर्सनल लोन बैलेंस ट्रांसफर जैसे विकल्‍प पर भी विचार कर सकते हैं। 

 


.

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट