Home » Personal Finance » Financial Planning » Step To Step Guidehow to manage your income effectively

आज ही छोड़ दें ये 4 आदते, जरूरत पर भरी रहेगी जेब

पैसा कमाने के साथ जरूरी है कि अपने कमाए हुए पैसे को सही तरीके से मैनेज करें।

1 of

नई दिल्‍ली। पैसा कमाने के साथ जरूरी है कि अपने कमाए हुए पैसे को सही तरीके से मैनेज करें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप न सिर्फ अपने मंथली खर्च को मैनेज करने  में दबाव में रहते हैं बल्कि आप लंबी अवधि में बड़ा फंड भी नहीं क्रिएट कर पाएंगे। आज हम आपको बता रहे हैं कि अपनी इनकम को सही तरीके से मैनेज करने के लिए कौन सी  आदतें आपको नुकसान पहुंचाती हैं और आपके लिए इन आदतों को छोड़ देना क्‍यों जरूरी है। 

 

मंथली खर्च को प्‍लान न करना 

आम तौर पर लोग अपने मंथली खर्च को प्‍लान नहीं करते हैं। उनके अकाउंट में सैलरी आती है और वे जरूरत के हिसाब से इसे खर्च करते जाते हैं। कई बार इसका नुकसान यह होता है कि उनकी सैलरी माह के बीच में ही खत्‍म हो जाती है और उनको इस बात का सटीक आईडिया भी नहीं होता है कि उनका पैसा किस मद में खर्च हो गया हे। ऐसे लोग आम तौर मंथली खर्च को लेकर दबाव में रहते हैं। इनको मंथली खर्च पूरा करने के लिए कई बार क्रेडिट कार्ड और कर्ज का सहारा भी लेना पड़ता है। 

क्रेडिट कार्ड का बिल समय पर न जमा करना 

 

मौजूदा समय में क्रेडिट कार्ड लोगों की जीवनशैली का अभिन्‍न अंग बन गया है। क्रेडिट कार्ड आपकी जरूरतों को पूरा करने में आपकी मदद करता है। लेकिन कुछ नकारात्‍मक पहलू भी हैं। क्रेडिट कार्ड का यूज आपको अपनी इनकम की लिमिट के अनुसार ही करना चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। अक्‍सर लोग क्रेडिट कार्ड का पूरा बिल समय पर नहीं चुकाते हैं। क्रेडिट कार्ड बिल का मिनिमम पेमेंट करना बहुत महंगा पड़ता है। बाकी अमाउंट पर बैंक 36 फीसदी तक इंटरेस्‍ट लगाता है जो काफी अधिक है। ऐसे में क्रेडिट कार्ड का बिल समय पर न जमा करने की आदत बाद में आपको कर्ज के जाल में फंसा सकती है। 

विलासिता की जरूरतों के लिए लोन लेना 

मौजूदा समय में लोगों की आकांक्षाएं बढ़ गईं हैं। कई बाद लोग दूसरों को देख कर महंगी लाइफस्‍टाइल अपना लेते हैं। चाहे उनकी इनकम इस लाइफस्‍टाइल के लिए पर्याप्‍त हो न हो। जैसे महंगे प्रोडक्‍ट खरीदना। महंगे डेस्टिनेशन पर छुट्टियां मनाना। पैसा न होने पर लोग इसके लिए लोन भी लेते हैं। आजकल कई बैंक और कंपनियां आसानी से पर्सनल लोन देती हैं। ऐसे में लोन लेकर अपनी इन जरूरतों को पूरा करना तो आसान है लेकिन आपको फ्यूचर में इस लोन को चुकाना भी होता है। इसकी वजह से लोग भविष्‍य के लिए सेविंग नहीं कर पाते हैं और उनका फाइनेंशियल फ्यूचर हमेशा कमजोर बना रहता है। 

फ्यूचर के लिए फाइनेंशियल प्‍लानिंग न करना 

 

आम तौर पर लोग वित्‍तीय मोर्चे पर इसलिए कमजोर रहते हैं क्‍योंकि वे फ्यूचर के लिए फाइनेंशियल प्‍लानिंग नहीं करते हैं। फाइनेंशियल प्‍लानिंग से मतलब है कि आपको अपनी इनकम का एक हिस्‍सा फ्यूचर के लिए निवेश करना चाहिए। फ्यूचर के लिए निवेश करना अहम है। यह बात अहम नहीं है कि आप हर माह 1,000 रुपए निवेश कर रहे हैं या 10,000 रुपए। कम सैलरी वाले भी अपनी सैलरी का छोटा हिस्‍सा फ्यूचर के लिए निवेश कर सकते हैं। लेकिन आम तौर पर लोग कम इनकम होने का हवाला देकर निवेश को टालते रहते हैं कि जब उनकी इनकम ज्‍यादा होगा तो वे फ्यूचर के लिए निवेश करेंगे। लेकिन अगर आपकी यह आदत बनी रहती है तो आप पूरी लाइफ में शायद फ्यूचर के लिए निवेश न कर पाएं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट