बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » UpdateIncome tax act के नियमों का पालन करते हैं या नहीं बताएगा आपका PAN

Income tax act के नियमों का पालन करते हैं या नहीं बताएगा आपका PAN

सालाना टैक्‍सेबल इनकम 2.5 लाख रुपए से अधिक है तो मौजूदा नियमों के तहत income tax return फाइल करना जरुरी है।

you pan can give detail of your tax profile

नई दिल्‍ली। अगर आपके पास परमानेंट अकाउंट नंबर यानी पैन है तो इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट आपकी टैक्‍स प्रोफाइल का पता लगा लेगा। पैन के जरिए इनकम टैक्‍स विभाग यह भी पता लेगा कि आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करते या नहीं। अगर आपकी सालाना टैक्‍सेबल इनकम 2.5 लाख रुपए से अधिक है तो income tax act के मौजूदा नियमों के तहत income tax return फाइल करना जरूरी हे। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपको जुर्माने के साथ कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है। 

 

इनकम टैक्‍स विभाग ऐसे पता करता है टैक्‍स प्रोफाइल 

 

cleartax की चीफ ए‍‍डीटर और सीए प्रीति खुराना ने moneybhaskar.com को बताया कि इनकम टैक्‍स विभाग पैन के जरिए आपकी टैक्‍स प्रोफाइल चेक कर सकता है। इसके जरिए वे पता कर सकते हैं कि आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल कर रहे हैं या नहीं। अगर आपने पहले कभी इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल किया है और उसके बाद आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं कर रहे हैं तो इनकम टैक्‍स विभाग आपके पैन के जरिए यह भी पता लगा सकता है। इसके अलावा इनकम टैक्‍स विभाग पैन कार्ड के जरिए आपके बड़े ट्रांजैक्‍शन पर भी नजर रखता है। 

 

कार खरीदने या बेचने पर 
 

अब अगर आप कार खरीदते या बेचते हैं तो आपको अपना परमानेंट अकाउंट नंबर यानी पैन देना होगा। आपकी पैन डिटेल से सरकार यह जान जाएगी कि आप ने कार खरीदी या बेची है। आपके पैन नंबर से सरकार यह भी पता कर सकती है कि आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल कर रहे हैं या नहीं। अगर सरकार को यह पता चलता है कि आप इनकम टैक्‍स रिटर्न नहीं फाइल कर रहे हैं तो वह आपसे पूछ सकती है कि आपकी सालाना इनकम कितनी है और आप इनकम टैक्‍स रिटर्न क्‍यों नहीं फाइल कर रहे हैं। 

 

10 लाख रुपए से अधिक की अचल संपत्ति खरीदने खरीदने या बेचने पर 
 

नए नियमों के तहत अब आपको 10  लाख रुपए से अधिक की अचल संपत्ति जैसे फ्लैट या प्‍लॉट खरीदने या बेचने पर पैन नंबर देना होगा। ऐसे में सरकार को यह पता चल जाएगा कि आपने 10 लाख रुपए से अधिक की प्रॉपर्टी खरीदी या बेची है। अब अगर आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं कर रहे हैं तो इनकम टैक्‍स विभाग आपसे पूछेगा कि प्रॉपर्टी खरीदने के लिए आपके पास पैसा कहां से आया। और आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल क्‍यों नहीं कर रहे हैं। 

 

क्रेडिट कार्ड से खरीदारी 

 

अगर आप एक साल में क्रेडिट कार्ड से 1 लाख रुपए या इससे अधिक की खरीदारी कर रहे हैं तो इसकी डिटेल भी सरकार के पास पहुंच जाएगी। ऐसे में अगर आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं कर रहे हैं तो इनकम टैक्‍स विभाग आपसे पूछ सकता है कि आपकी सालाना इनकम कितनी है और आप रिटर्न फाइल क्‍यों नहीं कर रहे हैं। 

 

50,000 रुपए से अधिक होटल या रेस्‍टोरेंट का बिल चुकाने पर 
 

अगर आप एक समय में होटल या रेस्‍टोरेंट का 50,000 रुपए से अधिक का बिल चुकाते हैं तो आपको पैन डिटेल देनी होगी। ऐसे में आपका यह ट्रांजैक्‍शन सरकार की नजर में आ जाएगा और भविष्‍य में सरकार आपसे पूछ सकती है कि आपकी सालाना इनकम कितनी है। 

 

50,000 रुपए से अधिक का म्‍युचुअल फंड खरीदने पर 
 

अगर आप एक बार में 50 हजार रुपए से अधिक म्‍युचुअल फंड में निवेश करते हैं तो आपको अपनी पैन डिटेल देन होगी। आपके पैन से सरकार को पता चल जाएगा कि आपने म्‍युचुअल फंड में निवेश किया है। 

 

आपके अकाउंट में जमा हुआ ज्‍यादा पैसा 

 

अगर आपके बैंक अकाउंट में ज्‍यादा पैसा जमा होता है जो आपकी इनकम प्रोफाइल के अनुरूप नहीं है तो इनकम टैक्‍स विभाग आपसे पूछ सकता है कि आपके अकाउंट में इतना ज्‍यादा पैसा कहां से आया है और इस पैसे को आपने डिक्‍लेयर किया है या नहीं। 

 

 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट