बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateपर्सनल लोन ले रहे हैं तो 4 बातों का रखें ध्यान, नहीं होगा नुकसान

पर्सनल लोन ले रहे हैं तो 4 बातों का रखें ध्यान, नहीं होगा नुकसान

कुछ बैंक तो ऐसे हैं कि आवेदन करने के कुछ मिनटों बाद ही आपको लोन दे देते हैं।

1 of
मनी भास्कर, नई दिल्ली। अपनी जरूरतों के लिए लोन लेना आसान हो गया है। लेकिन लोन लेने के दौरान कई बातों पर ध्यान देना जरूरी है। आजकल बैंक और नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां जल्द से जल्द लोन देने की कोशिश करती हैं। इस जल्दबाजी में अक्सर ग्राहकों का ही नुकसान होता है। कुछ बैंक तो ऐसे हैं जो आवेदन करने के कुछ मिनटों बाद ही आपको लोन दे देते हैं। ऐसे में, किसी पर भी भरोसा कर लेना आपके लिए ठीक नहीं होगा। आज हम आपको बताएंगे कि पर्सनल लोन लेते वक्त किन बातों का ख्याल रखा जाना चाहिए। 

 
आगे पढ़ें : बैंक चुनने में रखें ध्यान
समझदारी से चुनें बैंक और कंपनी 
 
बैंकों और फाइनैंस कंपनियों का काम है ग्राहकों को नई-नई स्कीम बताकर उन्हें लोन लेने के लिए आकर्षित करना। वह मेल, एसएमएस और फोन कर ग्राहकों को घेरने की कोशिश करते हैं। ऐसे में किसी की भी बातों में आ जाना नुकसान दे सकता है। ऐसे में आपको पहले अच्छे से रिसर्च कर लेनी चाहिए। कई ऐसी साइट्स मौजूद हैं जिनपर आप तुलना करके सबसे कम ब्याज दर वाला लोन प्लान चुन सकते हैं।
आगे पढ़ें : जीरो ईएमआई कुछ नहीं होता 
जीरो प्रतिशत EMI से बचके! 
 
कुछ बैंक या फाइनैंस कंपनियां अक्सर जीरो प्रतिशत EMI के जाल में ग्राहकों को फंसा लेती हैं। आरबीआई ऐसी स्कीम्स को बंद कर चुका है लेकिन अब भी कुछ कर्ज देनेवाले ऐसी स्कीम्स का लालच देते हैं। जान लाजिए कि अगर कोई आपको भी ऐसा लालच दे रहा है तो वह प्रोसेसिंग फीस और फाइल चार्ज इतना बढ़ा देगा कि सब कुछ वसूल कर लेगा।  
आगे पढ़ें : इसका भी रखें ध्यान 
अडवांस ईएमआई 
 
देनदार कर्ज लेने वाले से 1-2 ईएमआई पहले देने को कहता है। जैसे अगर आपने 18 महीने के लिए 1 लाख रुपये ब्याज पर लिए। 14 प्रतिशत , 6,190 प्रतिमाह लेकिन दो ईएमआई आपने पहले ही दे दीं तो ऐसे में लोन अमाउंट तो 87,620 रुपये हो गया। अगर फिर भी आप 6,190 रुपये प्रति महीने दे रहे हैं तो उसका मतलब हुआ की आपको लोन 17.5 प्रतिशत की दर से मिला है।
आगे पढ़ें : हर बात पर रखें नजर 
अन्य चार्जों पर दें ध्यान 
 
पर्सनल लोन लेते वक्त प्रोसेसिंग फीस तो आपको देनी ही होती है, लेकिन कुछ देनदार अन्य तरह के खर्चे भी बताते हैं। ऐसे देनदार से आपको बचने की जरूरत है। बेहतर होगा कि यह भी पहले ही चेक कर लिया जाए। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट