बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Financial Planning » Updateमोबाइल पर खेलते हैं कैंडी क्रश तो खतरे में हैं आपकी पर्सनल डिटेल

मोबाइल पर खेलते हैं कैंडी क्रश तो खतरे में हैं आपकी पर्सनल डिटेल

अगर हाथ में स्‍मार्टफोन है और आप कैंडी क्रश, लूडो या चेस जैसे गेम्‍स के शौकीन हैं तो आपको सावधान रहने की जरुरत है।

1 of

नई दिल्‍ली। अगर हाथ में स्‍मार्टफोन है और आप कैंडी क्रश, लूडो या चेस जैसे गेम्‍स के शौकीन हैं तो आपको सावधान रहने की जरुरत है। दरअसल,  साइबर सिक्‍योरिटी एक्‍सपर्ट की ओर से ये चेतावनी दी गई है। इसमें कहा गया है कि फेसबुक जैसे मोबाइल ऐप ही नहीं, कैंडी क्रश, लूडो और चेस गेमिंग ऐप से भी यूजर्स का डाटा आसानी से चुराया सकता है। फेसबुक से डाटा चोरी का मामला सामने आने के बाद एक्सपर्ट्स ने यह चिंता जताई है। 

 

 

2016 में 600 करोड़ से ज्‍यादा ऐप डाउनलोड 


इंटरनेशनल टेलीकम्युनिकेशन यूनियन (आईटीयू) के मुताबिक भारत में सबसे ज्यादा सक्रिय स्मार्टफोन यूजर हैं।  ये लोग रोजाना करीब 4 घंटे एप का इस्तेमाल करते हैं। 2016 में यूजर्स ने 600 करोड़ से ज्यादा ऐप डाउनलोड किए। जबकि 2015 में यह आंकड़ा 300 करोड़ ही था। इस दौरान उन्होंने 145 अरब घंटे मोबाइल पर बिताए। इससे पता चलता है कि देश में एप्स और गेमिंग साइट का क्षेत्र कितना व्यापक हो गया है। आगे पढ़ें - क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट 

 

 

क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट 


साइबर सिक्युरिटी एक्सपर्ट जितेन जैन ने कहा, ‘अगर आप सोचते हैं कि कोई प्रोडक्ट मुफ्त है, तो ऐसा नहीं हैं। वास्तव में आप प्रोडक्ट बन जाते हैं। जैन के मुताबिक कई मोबाइल ऐप और साइट यूजर की सहमति लेकर बड़ी मात्रा में डाटा विश्लेषण के लिए जानकारी लेती हैं और अनधिकृत तौर पर इसका इस्तेमाल करती हैं।’ डाटा सिक्युरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया की सीईओ रमा वेदश्री के मुताबिक ज्यादातर नेट यूजर युवा हैं। उन्हें टेक्नोलॉजी और प्लेटफॉर्म के सही इस्तेमाल की जानकारी देनी चाहिए। 

 

 

भारत समेत 104 देशों के 80% युवा ऑनलाइन 

आईटीयू के मुताबिक जून 2017 तक दुनियाभर में 83 करोड़ युवा ऑनलाइन हो चुके थे। ये यूजर 104 देशों की 80% युवा आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं। इनमें से 32 करोड़ तो चीन और भारत में ही हैं। 

 

 

बता दें कि इन दिनों डाटा चोरी के मामले में सोशल मीडिया साइट फेसबुक निशाने पर है। फेसबुक पर कैम्‍ब्रिज एनालिटिका नामक कंपनी को डाटा मुहैया कराने का आरोप है। आरोप के मुताबिक फेसबुक ने लोगों की जानकारियां जुटाने के लिए गेम्‍स का सहारा लिया। 


ऐसे हासिल किया डाटा 
यूनिवर्सिटी ऑफ कैंब्रिज में साइकॉलजी के प्रोफेसर एलक्जेंडर कोगन की कंपनी ग्लोबल साइंस रिसर्च ने यूजर्स डाटा को शेयर करने के लिए कैंब्रिज एनालिटिका से डील की। कोगन की कंपनी के बनाए गए ऐप thisisyourdigitallife ने 2014 में फेसबुक यूजर्स को एक साइकोलॉजिकल क्विज में हिस्सा लेने का झांसा दिया। 2,70000 यूजर्स ने इस ऐप पर जाकर क्विज में हिस्सा लिया। आरोप है कि कोगन की कंपनी ने इन यूजर्स का फेसबुक पर्सनल डाटा एक्सेस कर लिया। साथ ही साथ यूजर्स के फ्रेंड्स के डेटा में भी सेंध लगाई गई। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट