Home » Personal Finance » Financial Planning » UpdateArun Jaitley says Taxpayers kept you afloat and your duty now to build economy

बैंकों के परफॉर्मेंस की होगी समीक्षा, जेटली ने दिए संकेत

फाइनेंस मिनिस्‍टर अरुण जेटली ने कहा कि बैंकिंग प्रणाली को अच्छी हालत में रखने के लिए भारतीय टैक्सपेयर्स ने नुकसान उठाया

1 of

नई दिल्‍ली। फाइनेंस मिनिस्‍टर अरुण जेटली ने कहा कि बैंकिंग प्रणाली को अच्छी हालत में रखने के लिए भारतीय टैक्सपेयर्स ने नुकसान उठाया है, इसलिए बैंकों के प्रदर्शन की अगले कुछ सालों तक समीक्षा की जाएगी।

 

संसद की मदद की जरूरत 

 

जेटली ने पब्‍लिक सेक्‍टर के यूको बैंक के 75 साल पूरे होने के मौके पर कहा कि बैंकिंग सेक्‍टर के सामने अभी समस्यायें हैं और सरकार ने पब्‍लिक सेक्‍टर के बैंकों के इससे बाहर निकालने के लिए कई उपाय किए हैं । उन्‍होंने आगे कहा कि इसके लिए संसद की मदद की जरूरत है। बैंकिंग सेक्‍टर की स्थिति से सभी अवगत हैं। 

 

 वैश्विक स्तर पर सुस्ती  से बैंकिंग सेक्‍टर प्रभावित 

 

उन्होंने सरकारी बैंकों की विश्वसनीयता बहाल करने की कोशिश किये जाने का उल्लेख करते हुये कहा कि वैश्विक स्तर पर सुस्ती आने से भी बैंकिंग सेक्‍टर प्रभावित होता है। कर्ज मांग कम हो जाता है, इंफ्रास्ट्रक्चर में सुस्ती आ जाती है। ऐसी स्थिति में बैंकों की बैलेंस सीट को सामान्य बनाना भी चैलेंजिंग हो जाता है। 

 

रीकैपिटलाइजेशन के लिए 2.12 लाख करोड़ 


फाइनेंस मिनिस्‍टर ने कहा कि बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन के लिए 2.12 लाख करोड़ रुपए की योजना बनाई गई है। इस अमाउंट में से 1.35 लाख करोड़ रुपए बैंक जुटाएंगे। उन्होंने कहा कि इकोनॉमी को गति देने के लिए मजबूत बैंकिंग तंत्र की आवश्यकता है । इकोनॉमी में सुधार होने पर कर्ज मांग भी बढ़ता है। कर्ज मांग से आर्थिक स्थिति का पता चलता है। कर्ज मांग बढ़ने लगा है और ग्‍लोबली लेवल पर कमोडिटी की कीमतें भी बढ़ने लगी है।  जेटली ने उम्‍मीद जताया कि अगले कुछ सालों में बैंकों के प्रदर्शन में सुधार होगा और बैंक सफलतापूर्वक चुनौतियों का सामना करेंगे। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट