Home » Personal Finance » Financial Planning » UpdateGovernment amends Tax rules to recognise Transgenders community

PAN फॉर्म में ट्रांसजेंडर के लिए होगी अलग कैटेगरी, सरकार ने नियम में कर दिए बदलाव

ट्रांसजेंडर्स को अब पैन फॉर्म में अगल से जेंडर कैटेगरी मिलेगा। सरकार ने इसके लिए इनकम टैक्‍स नियम में संशोधन किया है।

1 of

नई दिल्‍ली. ट्रांसजेंडर्स को अब पैन फॉर्म में अगल से जेंडर कैटेगरी मिलेगी। सरकार ने इसके लिए इनकम टैक्‍स नियम में संशोधन किया है। यानी, अब पर्मानेंट अकाउंट नंबर (पैन) बनवाने वाले ट्रांसजेंडर्स को अगल जेंडर कैटेगरी का अप्‍लीकेंट माना जाएगा। अभी तक पैन के लिए अप्‍लीकेशन फॉर्म में केवल दो ही जेंडर (पुरुष और स्‍त्री) कैटेगरी होती थी। बता दें, टैक्‍स संबंधी ट्रांजैक्‍शन के लिए पैन नंबर होना जरूरी है।

 

 

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍ट टैक्‍सेस (सीबीडीटी) ने सोमवार को इस संबंध में नोटिफिकेशन जारी करदिया है। इसमें ट्रांसजेंडर्स को पैन के लिए अप्‍लीकेशन फॉर्म में एक नया टिक बॉक्‍स मिलेगा। यह नोटि‍फिकेशन इनकम टैक्‍स कानून की धारा 139ए और 295 के तहत जारी किया गया है। इसमें पैन नंबर के लिए नया अप्‍लीकेशन फॉर्म जारी किया गया है। 
 
ट्रांसजेंडर कम्‍यूनिटी को होगी सहूलियत 
सीबीडीटी के एक सीनियर अफसर ने बताया कि इस संबंध में बोर्ड को कुछ सुझाव मिले थे। जिसके बाद टैक्‍स नियमों में संशोधन किया गया। उन्‍होंने बताया कि ट्रांसजेंडर कम्‍युनिटी के लोगों को पैन कार्ड बनवाने में काफी दिक्‍कतें उठानी पड़ती थी और यह समस्‍या और गहरा गई थी जब आधार में थर्ड जेंडर का प्रावधान किया गया था लेकिन पैन में नहीं था। इसलिए ट्रांसजेंडर आधार से अपना पैन लिंक करने में सक्षम भी नहीं थे। उन्‍होंने बताया कि अब नया बदलाव फॉर्म 49 ए (भारतीय नागरिकों के लिए पैन अप्‍लीकेशन फॉर्म) में दिखाई देगा। 
 
10 डिजिट का यूनिक नंबर है पैन 
पैन एक 10 डिजिट का यूनिक अल्‍फान्‍यूमेरिक नंबर होता है, जिसे इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की ओर से इंडिविजुअल और कंपनियों को जारी किया जाता है। सरकार ने आधार को आईटीआर फाइल करने और नया पैन कार्ड बनवाने के लिए अनिवार्य कर दिया है। 
इनकम टैक्‍स कानून की धारा 139 एए (2) के तहत प्रत्‍येक व्‍यक्ति जिसके पास 1 जुलाई 2017 तक पैन है और आधार लेने के लिए पात्र है, उसे अपना आधार नंबर टैक्‍स अथॉरिटीज को देना अनिवार्य होगा। 
 

आगे पढ़ें... कितने पैन आधार से हो चुके हैं लिंक


 

16.65 करोड़ पैन हो चुके हैं आधार से लिंक 
5 मार्च तक के उपलब्‍ध आंकड़ों  के अनुसार कुल 33 करोड़ पैन नंबर में से 16.65 करोड़ से ज्‍यादा पैन आधार से लिंक हो चुके हैं। सीबीडीटी ने हाल ही में आधार से पैन लिंक कराने की समय-सीमा 30 जून तक बढ़ाई थी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट