Home » Personal Finance » Financial Planning » UpdateDo and Don't before age of 30

30 की उम्र से पहले क्‍या करें, क्‍या न करें; 5 प्‍वाइंट में एक्‍सपर्ट से समझिए

20-30 की उम्र का समय रिटायरमेंट के लिए सेविंग करने का काफी कीमती होता है।

Do and Don't before age of 30

नई दिल्‍ली. जॉब के शुरुआती दिनों में आमतौर पर युवा बिंदास लाइफ जीना पसंद करते हैं। अपनी कमाई को अपने हिसाब से खर्च करते हैं। आमदनी का ज्‍यादातर हिस्‍सा रहने, खाने और शौक पूरे करने में लगा देते हैं। इस समय युवा अकसर एक जरूरी पहलू नजरअंदाज करते हैं और वह है मनी मैनेजमेंट। जैसेकि, 20-30 की उम्र वाले युवा से यदि कोई रिटायरमेंट प्‍लानिंग के लिए कहे तो यह उसे काफी बेतुकी बात लगेगी। इस उम्र में लोग अक्‍सर पढ़ाई के लोन (यदि लिया है)  या कार-बाइक या घर खरीदने के ही बारे में सोचते हैं और उन पर खर्च करते हैं। हालांकि 20-30 की उम्र का समय रिटायरमेंट के लिए सेविंग करने का काफी कीमती होता है।

 

 

पैसाबाजार डॉट कॉम के सीईओ एंड को-फाउंडर नवीन कुकरेजा कहते हैं, 30 की उम्र से पहले यह जान लें कि क्‍या करना और क्‍या नहीं करना चाहिए, जिसका भविष्‍य में रिटायरमेंट लाइफ पर बड़ा असर हो। कुकरेजा ने ऐसे 5 प्‍वाइंट्स बताए, जिन्‍हें 30 की उम्र में फाइनेंशियल प्‍लाइनिंग करते समय ध्‍यान रखना चाहिए। 

 

1. रिटायरमेंट की प्‍लानिंग शुरू करें 
कुकरेजा कहते हैं, जितनी जल्‍दी आप अपने रिटायर्ड लाइफ के लिए प्‍लानिंग करेंगे, वह उतना ही फायदेमंद होगा। आमतौर पर लोग अपनी रिटायरमेंट प्‍लानिंग 30 की उम्र के बाद से शुरू करते हैं, उस समय खर्चे सबसे ज्‍यादा होते हैं और कई दूसरे जरूरी गोल भी होते हैं, जैसे बच्‍चों की हायर एजुकेशन, होम लोन का भुगतान। रिटायरमेंट के बाद आपको कितने फंड की जरूरत होगी और कितने मं‍थली इन्‍वेस्‍टमेंट से इसे तैयार किया जा सकता है, इसके लिए आप रिटायरमेंट कैलकुलेटर का इस्‍तेमाल करें। इसके बाद एक ठोस इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान बनाएं और उसे अपनी वर्किंग लाइफ तक जारी रखें। 
 
2. इमरजेंसी फंड बनाएं   
कुकरेजा के अनुसार, जब आप 30 की उम्र में हो तो आपकी टॉप प्राइयारिटी एक इमरजेंसी फंड बनाने की होनी चाहिए। इमरजेंसी फंड में आपके 4-6 महीने के बराबर रहन-सहन के खर्चे की रकम होनी चाहिए। इससे मेडिकल इमरजेंसी, जॉब गंवाने जैसी अप्रत्‍याशित आर्थिक हालातों से निपटने में मदद मिलेगी। इस इमरजेंसी फंड पर अच्‍छे रिटर्न के लिए इसे डेट फंड या हाई इंटरेस्‍ट रेट वाले सेविंग्‍स अकाउंट में लगाएं। हमेशा यह याद रखें कि जबतक इमरजेंसी न हो, इस फंड का इस्‍तेमाल न करें। ध्‍यान रहे पर्याप्‍त इमरजेंसी फंड नहीं होने पर आपको अचानक होने वाली फाइनेंशियल जरूरत के लिए लोन लेना पड़ सकता है। 

 

3. पर्याप्‍त इन्‍श्‍योरेंस रखें 
नवीन कुकरेजा का कहना है, मजबूत फाइनेंशियल प्‍लान का एक अहम हिस्‍सा इन्‍श्‍योरेंस कवर भी होता है। जब आप 30 की उम्र में हैं, तो उस समय डिपेंडेंट्स अधिक हो सकते हैं। इसलिए एक प्‍योर टर्म प्‍लान के जरिए अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इन्‍श्‍योरेंस जरूर रखें। यह उस वक्‍त आपकी फैमिली की जरूरत पूरा करेगा, जब आप उनके साथ नहीं होंगे। 30 की उम्र में हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस रखना भी बहुत जरूरी होता है। हेल्‍थकेयर की बढ़ती कॉस्‍ट और लाइफ स्‍लाइल से जुड़ी बीमारियों के चलते हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस जरूरी है। 

 

4. अलग-अलग जगहों पर करें इन्‍वेस्‍टमेंट 
कुकरेजा के अनुसार, फंड का पूरा इन्‍वेस्‍टमेंट एक ही जगह न करें। हमेशा डायवर्सिफाइड इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान रखें। लम्‍बी अवधि के नजरिए से वेल्‍थ तैयार करने के लिए म्‍यूचुअल फंड का ऑप्‍शन अपना सकते हैं। म्‍यूचुअल फंड से जब रिटर्न मिलेगा तो यह अन्‍य दूसरे एसेट क्‍लास से बेहतर रहेगा। जब इक्विटी में इन्‍वेस्‍टमेंट कर रहे हो, तो अपने कोर पोर्टफोलियो में लॉर्ज कैप और मल्‍टीकैप फंड्स को शामिल करें। इसके बाद सेक्‍टोरियल और थिमेटिक इक्विटी में जाएं। यह ओवरलऑल इन्‍वेस्‍टमेंट को बूस्‍ट देगा। जो लोग म्‍यूचुअल फंड को लेकर सहज नहीं हैं, उन्‍हें पीपीएफ, एफडी जैसे अल्‍टरनेटिव इन्‍वेस्‍टमेंट ऑप्‍शन पर विचार करना चाहिए। 

 

5. बजट का ध्‍यान रखें  
कुकरेजा के अनुसार,  जब आप 30 की उम्र में होते हैं तो बेहतर है कि अधिक सेविंग्‍स की जाए। बजटिंग मजबूत होनी चाहिए। मंथली खर्चे को जरूर ट्रैक करना चाहिए और गैरवाजिब खर्चे कम करने का प्रयास करना चाहिए। इसके लिए सबसे बेहतर है कि आप अपने सभी जरूरी खर्चे जैसेकि ईएमआई, किराया, स्‍कूल फीस, डेली और हाउसहोल्‍ड खर्च की लिस्टिंग कर लें। इसके साथ-साथ इन्‍वेस्‍टमेंट के लिए जरूरी फंड का भी आकलन कर लें। हमेशा याद रखें ''सेव फर्स्‍ट एंड स्‍पेंड लेटर'' यानी पहले बचत करें फिर खर्च।  

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट