विज्ञापन
Home » Personal Finance » LoanRepo rates may be reduced from 4th April, home loan installment will be reduced

खुशखबरी : RBI अप्रैल में करेगा यह अहम बदलाव, आपका यह होगा फायदा 

4 अप्रैल से रेपो रेट कम हो सकते हैं, होम लोन की किस्त कम हो जाएगी

Repo rates may be reduced from 4th April, home loan installment will be reduced

लोकसभा चुनाव के बीच Reserve Bank of India (RBI) मौद्रिक नीति में अहम बदलाव करने जा रहा है। global slowdown का प्रभाव भारत पर न पड़े इसके लिए आरबीआई रेपो रेट में 25 बेसिस पाइंट की कटौती कर सकता है। इससे भारत में economic activities को बढ़ावा मिलेगा। वहीं आपको सीधा फायदा होम लोन, कार लोन आदि की ब्याज दरों में कटौती के रूप में मिलेगा।

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के बीच Reserve Bank of India (RBI) मौद्रिक नीति में अहम बदलाव करने जा रहा है। global slowdown का प्रभाव भारत पर न पड़े इसके लिए आरबीआई रेपो रेट में 25 बेसिस पाइंट की कटौती कर सकता है। इससे भारत में economic activities को बढ़ावा मिलेगा। वहीं आपको सीधा फायदा होम लोन, कार लोन आदि की ब्याज दरों में कटौती के रूप में मिलेगा। 

 

4 अप्रैल को मुंबई में हो सकती है घोषणा 

 

सूत्रों के मुताबिक  आरबीआई गर्वनर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता वाली छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति,  Monetary Policy Committee (MPC) की बैठक 4 अप्रैल को मुंबई में रखी गई है। इसी बैठक में इंटरेस्ट रेट कम होने की घोषणा हो सकती है। गौरतलब है कि फरवरी में भी आरबीआई ने 25 बेसिस पाइंट की घटाए थे। चुनावी साल को देखते हुए यह बदलाव 18 महीने बाद किया था। लेकिन इस बार महज दो महीने बाद ही आरबीआई को कटौती के लिए तैयार होना पड़ा है।  पिछली बैठक में अप्रत्याशित रूप से आरबीआई ने रेपो रेट में 25 आधार अंकों की कटौती की घोषणा करते हुए इसे 6.50 फीसदी से घटाकर 6.25 फीसद कर दिया था।

 

यह भी पढ़ें...

 

यूरोप जाने की जरूरत नहीं, भारत में आज से देखें एशिया का सबसे बड़ा Tulip garden

 

महंगाई को देखते हुए तय होती है ब्याज दरें 

 

रिपोर्ट के मुताबिक 2019 के अंत तक महंगाई के आरबीआई के मीडियम टर्म टारगेट से नीचे रहने की उम्मीद है। ब्रोकरेज एजेंसी ने इस साल आर्थिक गतिविधियों में तेजी की उम्मीद जताई है। एजेंसी के मुताबिक वित्त वर्ष 2019 में भारत की जीडीपी 7.1 फीसद रहने की उम्मीद है जबकि 2020 में इसके 7.5 फीसद रहने का अनुमान लगाया गया है। गौरतलब है कि खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखते हुए आरबीआई ब्याज दरों पर फैसला करता है। फरवरी में खुदरा महंगाई दर मामूली रूप से बढ़कर 2.6 फीसद रही है। जुलाई 2018 से लेकर जनवरी 2019 के बीच लगातार महंगाई में गिरावट आई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss