विज्ञापन
Home » Personal Finance » Income TaxYour new formula for preventing theft of tax evasion will be revealed by social media

1 April से यात्राओं, पार्टियों और शादी के फोटो सोशल मीडिया पर शेयर किए तो Income Tax की टीम पहुंचेगी आपके घर

टैक्स चोरी रोकने के लिए सरकार सोशल मीडिया पर खंगालेगी रिकॉर्ड 

1 of

नई दिल्ली.  फेसबुक, इंस्टाग्राम व ट्विटर आदि सोशल मीडिया के प्लेटफार्म पर आप घूमने, शादी व पार्टियों आदि के फोटो शेयर करते हैं तो सतर्क हो जाइए। केंद्र सरकार एक अप्रैल से आपके इन अकाउंट्स पर नजर रखने जा रही है। एजेंसी की खबर के मुताबिक सरकार सोशल मीडिया के जरिए यह पता लगाएगी कि आपने आयकर रिटर्न में जो जानकारी भरी है, उससे इतर कहीं और खर्च तो नहीं किया है। यानी यदि आपने कोई महंगी पार्टी या विदेश यात्रा के फोटो अपने अकाउंट पर शेयर किए हैं लेकिन रिटर्न में जानकारी नहीं है तो आयकर विभाग के अफसर छापे की कार्रवाई कर सकते हैं। 

अफसर करेंगे  बिग डेटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल 

आयकर विभाग टैक्स चोरी रोकने के लिए बिग डेटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल करने जा रहा है। इससे करदाता के खर्चों के साथ-साथ सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए फोटो और वीडियो का भी विश्लेषण किया जाएगा। अगर करदाता ने सोशल मीडिया पर विदेश घूमने का फोटो डाला है, इससे उसके खर्च का अंदाजा मिल जाएगा। अगर यह उसकी घोषित कमाई से मेल नहीं खाता है तो टैक्स अधिकारी को इसकी सूचना मिल जाएगी। वह इसकी छानबीन कर सकता है। 

 

यह भी पढ़ें...

Apple को लगा तगड़ा झटका, Customers को दी अपनी नाकामी की सूचना, मांगी माफी 

 

प्रोजेक्ट इनसाइट पर खर्च होंगे एक हजार करोड़ रुपए 

आयकर विभाग ने इसे प्रोजेक्ट इनसाइट नाम दिया है। इस पर करीब 1,000 करोड़ रुपए का खर्च आया है। सूत्रों ने बताया कि टैक्स अधिकारियों को 15 मार्च को ही नया सॉफ्टवेयर उपलब्ध करा दिया गया था। इसके जरिए आयकर विभाग हर व्यक्ति और कंपनी की कमाई और खर्च की मास्टर फाइल बना सकता है। सूत्रों ने बताया कि नया सॉफ्टवेयर पहले से तय मानकों के आधार पर सभी रिटर्न की जांच करेगा। इससे कर चोरी की संभावना लगभग खत्म हो जाएगी। 

 

यह है मकसद 

 

प्रोजेक्ट इनसाइट का मकसद कर चोरी करने वालों को पकड़ना और रिटर्न फाइल करने वालों की संख्या बढ़ाना है। वित्त वर्ष 2016-17 में 4.67 करोड़ व्यक्तिगत टैक्स रिटर्न फाइल किए गए थे। इनमें भी 43.4% या 2.02 करोड़ ने जीरो टैक्स रिटर्न भरा था। 

 

यह भी पढ़ें...

 

RBI बदलाव करेगा तो  SBI भी तुरंत ही कम कर देगा आपके होम व ऑटो लोन का ब्याज, जानें नई सुविधा के बारें में 


ब्रिटेन समेत चुनिंदा देशों में ही बिग डेटा का इस्तेमाल 

 

अभी ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और बेल्जियम जैसे चुनिंदा देश ही कर चोरी रोकने में बिग डेटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल करते हैं। ब्रिटेन में 2010 में इसका इस्तेमाल शुरू हुआ। तब से वहां इसके जरिए करीब 37,000 करोड़ रुपए की कर चोरी पकड़ी गई है। 

 

 

टैक्स अधिकारी लोगों को जबरन परेशान न करें: सीए संगठन 

 

देशभर के चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ने प्रधानमंत्री कार्यालय और वित्त मंत्रालय को चिट्‌ठी लिखी है। इसमें उनसे इनकम टैक्स अधिकारियों को लोगों को जबरन परेशान नहीं करने का निर्देश देने का आग्रह किया गया है। डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में भारी कमी को देखते हुए सीबीडीटी मेंबर नीना कुमार ने 26 मार्च को सभी इनकम टैक्स कमिश्नरों को चिट्‌ठी लिखी है। इसमें उनसे हर मुमकिन उपाय करने को कहा गया है। 23 मार्च तक डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 10.3 लाख करोड़ रुपए था। यह साल के लक्ष्य से 15% कम है। 

 

यह भी पढ़ें...

 

NYAY योजना:  'राहुल पीएम बनेंगे तो 6 हजार मिलेंगे, वह पत्नी को दे दूंगा'

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss