• Home
  • MSME
  • 4,000 crores of incense sticks are imported, Union minister offered to reduce it, you can also earn Rs 3 lakh annually

मौका /अगरबत्ती या धूप बनाकर आप सालाना कमा सकते हैं तीन लाख रुपए तक, आयात कम करने के लिए सरकार भी करेगी मदद

Moneybhaskar.com

Jun 16,2019 02:18:40 PM IST

नई दिल्ली. धूप या अगरबत्तियों का उपयोग घरेलू वातावरण को पवित्र और पूजा करने में होता है। हिंदू पूजा पद्धति में तो इसका विशेष महत्व है। यही वजह है कि भारत में इसकी डिमांड इतनी ज्यादा है कि आयात करना पड़ता है। आयात भी थोड़ा बहुत नहीं बल्कि चार हजार करोड़ रुपए का है। यह भी तब जबकि अगरबत्ती को घर बैठे बनाया जा सकता है। यही संभावना देखकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अगरबत्ती समेत कुटीर उद्योग को बढ़ावा देने का ऐलान किया है। मनी भास्कर आपको बता रहा है कि कैसे धूप अगरबत्ती का बिजनेस कम पैसों में शुरू कर सालाना तीन लाख रुपए कमाए जा सकते हैं।

निजी क्षेत्र को निर्यात संवर्धन की मिलेगी सुविधा

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग तथा एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के राष्ट्रीय सम्मेलन शुक्रवार को में कहा कि सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्योग (एमएसएमई) क्षेत्र में कॉरपोरेट एवं निजी कंपनियों के प्रवेश पर प्रतिबंध हटा दिया गया है। इससे 700 एमएसएमई क्लस्टर के निर्माण का रास्ता साफ होगा और आयात पर निर्भरता कम होगी। साथ ही रोजगार भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि उदाहरण के लिए हम 4,000 करोड़ रुपये की अगरबत्तियों का आयात करते हैं जबकि उन्हें यहीं बनाया जा सकता है। इसके लिए निर्यात संवर्धन करने की जरूरत है और यह एमएसएमई क्षेत्र को आगे बढ़ाने में मदद कर सकता है। यह भी पढ़ें : शहरों में अनार, अदरक व अमरूद के फ्लेवर में मिलेगा महुआ ड्रिंक

35 हजार से पौने दो लाख तक की है मशीन

भारत में अगरबत्ती बनाने की मशीन की कीमत 35000 रुपए से 175000 रुपए तक है। इस मशीन से आप 1 मिनट में 150 से 200 अगरबत्ती तक बना सकते हैं। अगरबत्ती बनाने में कई तरह की मशीनें काम में लाई जाती हैं। इनमें मिक्सचर मशीन, ड्रायर मशीन और मेन प्रोडक्शन मशीन शामिल है। मिक्सचर मशीन कच्चे माल का पेस्ट बनाने के काम आता है और मेन प्रोडक्शन मशीन पेस्ट को बांस पर लपेटने का काम करता है। अगरबत्ती बनाने की मशीन सेमी और पूरी ऑटोमेटिक भी होती है। अगरबत्ती बनाने वाली ऑटोमैटिक मशीन से काम स्टार्ट करें क्योंकि ये बहुत तेजी से अगरबत्ती बनाती है। ऑटोमैटिक मशीन की कीमत 90000 से 175000 रुपए तक है। एक ऑटोमैटिक मशीन एक दिन में 100 kg अगरबत्ती बन जाती है। मशीन का चुनाव करने के बाद इंस्टॉलेशन के बजट के हिसाब से मशीनों के सप्लायर से डील करें और इंस्टॉलेशन करवाएं. मशीनों पर काम करने की ट्रेनिंग लेना भी आवश्यक है।

यह भी पढ़ें : स्विट्जरलैंड के दावोस जैसा बनेगा औली, अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग रिजॉर्ट की होगी स्थापना, आप भी पांच हजार रुपए में घूम सकते हैं


अगरबत्ती बनाने के लिए कच्चे माल की सप्लायर्स से करें संपर्क

मशीन इंस्टॉलेशन के बाद कच्चे माल की सप्लाई के लिए मार्केट के अच्छे सप्लायरों से संपर्क करें। अच्छे सप्लायरों की लिस्ट निकालने के लिए आप किसी अगरबत्ती उद्योग में पहले से बिजनेस करने वाले लोगों से मदद ले सकते हैं। कच्चा माल हमेशा जरूरत से थोड़ा ज्यादा मंगाए क्योंकि इसका कुछ हिस्सा वेस्टेज में भी जाता है। अगरबत्ती बनाने के लिए सामग्री में गम पाउडर, चारकोल पाउडर, बांस, नर्गिस पाउडर, खुशबूदार तेल, पानी, सेंट, फूलों की पंखुडिय़ां, चंदन की लड़की, जिलेटिन पेपर, शॉ डस्ट, पैकिंग मटीरियल आदि शामिल हैं।

पैकेजिंग में धार्मिक मनोभावों को छूने की कोशिश करें

आपका उत्पाद आपकी डिजाइनर पैकिंग पर बिकता है। पैकिंग के लिए किसी पैकेजिंग एक्सपर्ट से सलाह लें और अपनी पैकेजिंग को आकर्षक बनाएं। पैकेजिंग के द्वारा लोगों के धार्मिक मनोस्थिति को छूने की कोशिश करें। अगरबत्तियों की मार्केटिंग करने के लिए अखबारों, टीवी में एड दे सकते हैं। इसके अलावा अगर आपका बजट इजाजत देता हो तो कंपनी की ऑनलाइन वेबसाइट बनाएं और अपने विभिन्न उत्पादों की मार्केटिंग करें।

यह भी पढ़ें : कंपनियों की छोटी सी गलती से हो गया अरबों रुपए का नुकसान, कुछ दिवालिया भी हो गईं

एक मिनट में बन सकती हैं दो सौ अगरबत्तियां

अगरबत्ती के निर्माण का समय आपके द्वारा इस्तेमाल की गयी मशीन के अनुसार अलग हो सकता है जैसे की अगर आप ऑटोमेटिक मशीन का इस्तेमाल कर रहे है तो आप 1 मिनट में 150 से 200 अगरबत्ती तक का निर्माण कर सकते है. यदि आप हाथों से इसका निर्माण कर रहे है या करा रहे है तो इसमें लगने वाला समय आपके या कर्मचारी के कार्य करने की क्षमता पर निर्भर करता है।

यह भी पढ़ें : कारोबार की तरह करते हैं खेती, इंच-इंच जमीन से कमाते हैं मुनाफा, 30 लाख रुपए का आईटीआर भरा

अगरबत्ती व्यवसाय को शुरू करने में लगने वाली कुल लागत

इस बिजनेस को आप 13,000 रुपए की लागत के साथ घरेलू तौर पर भी हाथों से निर्माण कर शुरू कर सकते है, लेकिन अगर आप अगरबत्ती के बिजनेस को मशीन बैठाकर शुरू करने की सोच रहे है तो इसको शुरू करने में लगभग 5 लाख रुपए तक की लागत लग सकती है। अगरबत्ती को बनाने में लगने वाली कच्ची सामग्रियां उसकी मात्रा और उसके बाजार मूल्य को नीचे संदर्भित किया गया है जिसे जरूरत के अनुसार आप इसकी मात्रा को घटा या बढ़ा कर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ा सकते है। चारकोल डस्ट 1 किलो ग्राम 13 रुपये, जिगात पाउडर 1 किलो ग्राम 60 रुपए, सफ़ेद चिप्स पाउडर 1 किलो ग्राम 22 रुपए, चन्दन पाउडर 1 किलो ग्राम 35 रुपए, बांस स्टिक 1 किलो ग्राम 116 रुपए, परफ्यूम 1 पीस 400 रुपए, डीईपी 1 लीटर 135 रुपए, पेपर बॉक्स 1 दर्जन 75 रुपए, रैपिंग पेपर 1 पैकेट 35 रुपए और कुप्पम डस्ट 1 किलो ग्राम 85 रुपए है।

यह भी पढ़ें : बच्चे की उम्र 15 साल हो जाने पर फिर से कराना होती है बायोमेट्रिक पहचान


कितना होगा मुनाफा

अगर आप 30 लाख का सालाना बिजनेस करते हैं तो 10% फायदे के साथ आप 3 लाख रुपए कमा सकते हैं. यानी आप हर महीने 25 हजार रुपए की कमाई कर सकते हैं.

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.