विज्ञापन
Home » Money Making TipsPost Office Time Deposit Scheme or fixed deposit know 5 Important Things

Savings / बड़े काम की है पोस्ट ऑफिस की टाइम डिपॉजिट स्कीम, जानिए 5 अहम बातें

ज्यादा ब्याज और आयकर छूट सहित मिलतीं हैं कई सुविधाएं

1 of


नई दिल्ली. यूं तो पोस्ट ऑफिस (Post Office) से तमाम तरह की सेवाएं दी जाती हैं, लेकिन कुछ सेवाएं बेहद काम की हैं। इंडिया पोस्ट (India Post) देश भर में फैले अपने 1.5 लाख पोस्ट ऑफिस (post offices) के नेटवर्क के माध्यम से विभिन्न ब्याज दरों वाली कई बचत योजनाओं (savings schemes) की पेशकश करता है। इन्हीं योजनाओं में से एक है सावधि जमा योजना या टाइम डिपॉजिट (time deposit ), इसे फिक्स्ड डिपॉजिट (fixed deposit) या एफडी (FD) अकाउंट भी कहा जाता है।
इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के मुताबिक टाइम डिपॉजिट अकाउंट में सालाना आधार पर ब्याज दिया जाता है, लेकिन इसकी गणनी तिमाही आधार पर की जाती है। हम यहां पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम की 5 अहम बातों के बारे में बता रहे हैं…

यह भी पढ़ें-पोस्ट ऑफिस की RD में ऑनलाइन जमा हो जाएगा पैसा, समझें पूरा प्रॉसेस

1. कैसे खोलें अकाउंट

पोस्ट ऑफिस में फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट कैश या चेक के माध्यम से कोई भी व्यक्ति खुलवा सकता है। इंडिया पोस्ट के मुताबिक, चेक के मामले में सरकार के खाते में चेक की रकम आने की तारीख से ही अकाउंट खुला हुआ माना जाएगा। इस खाते को किसी नाबालिग के नाम पर और दो वयस्कों के नाम पर संयुक्त खाता भी खोला जा सकता है।

यह भी पढ़ें- 8 हजार रु कैसे बन जाते 2.8 करोड़ रु, वारेन बफे ने बताई सिंपल स्ट्रैटजी

2. कितनी रकम हो सकती है जमा

पोस्ट ऑफिस एफडी खाता खुलवाने के लिए न्यूनतम 200 रुपए की धनराशि जमा की जा सकती है। हालांकि इसकी कोई अधिकतम सीमा नहीं है।

 

 

3. ब्याज दर और अवधि

पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट अकाउंट 1 से 5 साल तक की अवधि के लिए 7 से 7.8 फीसदी तक ब्याज दर की पेशकश करता है। इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के अनुसार ब्याज दरें इस प्रकार हैं।

अवधि  ब्याज दर (% में)
1 साल (एफडी) 7.0
2 साल 7.0
3 साल 7.0
5 साल 7.80

     

 

4. आयकर लाभ

इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के मुताबिक, 5 साल की अवधि के फिक्स्ड डिपॉजिट इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80 सी अंतर्गत आयकर लाभ के पात्र हैं।

5. अन्य सुविधाएं

इस खाते को खुलवाने और खुलवाने के बाद नॉमिनेशन की सुविधा भी दी जाती है। एक सिंगल अकाउंट को बाद में ज्वाइंट अकाउंट में भी तब्दील किया जा सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss