विज्ञापन
Home » Money Making Tipshow to invest in mutual funds step by step process

MF / म्युचुअल फंड में छोटी रकम से तैयार होता है बड़ा फंड, निवेश का समझें प्रॉसेस 

कम जोखिम के साथ मिलता है अच्छा रिटर्न

1 of


नई दिल्ली. छोटी रकम से बड़ा फंड तैयार करने के लिए म्युचुअल फंड (Mutual Fund) को एक अच्छा ऑप्शन माना जाता है। हालांकि, पर्याप्त जानकारी के अभाव में लोग इसमें निवेश से बचते हैं। हम यहां आपको म्युचुअल फंड में निवेश के तरीके और अन्य डिटेल दे रहे हैं। इससे आपको निवेश के फैसले लेने में मदद मिलेगी।

आपके पैसे पर रहती है एक्सपर्ट्स की नजर

म्युचुअल फंड (Mutual Fund) कंपनियां निवेशकों से पैसे जुटाती हैं और इस पैसे को वे शेयरों में निवेश करती हैं। इसके बदले निवेशकों से चार्ज भी लिया जाता है। इसमें इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट्स की नजर आपके पैसे पर रहती है, जिसके चलते इसमें कम जोखिम मान जाता है।
इसीलिए, जो लोग शेयर बाजार में निवेश के बारे में बहुत ज्यादा नहीं जानते या फिर शेयर बाजार में गिरावट के जोखिम से बचना चाहते हैं तो उनके लिए म्युचुअल फंड (Mutual Fund) निवेश का अच्छा विकल्प है। निवेशक अपने वित्तीय लक्ष्यों के हिसाब से Mutual Fund स्कीम चुन सकते हैं।

म्युचुअल फंड में कैसे करें निवेश

आप किसी म्युचुअल फंड (Mutual Fund) की वेबसाइट पर जाकर सीधे निवेश कर सकते हैं। अगर आप चाहें तो किसी म्युचुअल फंड एडवाइजर की सेवा भी ले सकते हैं। अगर आप सीधे निवेश करते हैं तो आप म्युचुअल फंड (Mutual Fund) स्कीम के डायरेक्ट प्लान में निवेश कर सकते हैं। अगर आप किसी एडवाइजर की मदद ले रहे हैं तो किसी म्युचुअल फंड स्कीम के रेगुलर प्लान में निवेश करते हैं।

Mutual Fund के किसी डायरेक्ट प्लान में निवेश करने का फायदा यह है कि आपको कमीशन नहीं देना पड़ता है। इसलिए लंबी अवधि के निवेश में आपका रिटर्न बहुत बढ़ जाता है। इस तरीके से Mutual Fund में निवेश करने में एक दिक्कत यह है कि आपको खुद रिसर्च करनी पड़ती है।


 

 

कितने तरह के होते हैं म्युचुअल फंड

1. इक्विटी म्युचुअल फंड (Equity Mutual Fund)

इस स्कीम में निवेशकों की रकम को सीधे शेयरों में निवेश किया जाता है। छोटी अवधि में यह स्कीम जोखिम भरी हो सकती है, लेकिन लंबी अवधि में इसे आपको बेहतरीन रिटर्न कमाने में मदद मिलती है। इस तरह की स्कीम में आपका रिटर्न शेयर के प्रदर्शन पर निर्भर करता है।
जो निवेशक 10 साल के लक्ष्य के साथ निवेश करना चाहते हैं तो उनके लिए यह स्कीम में सही है। इक्विटी Mutual Fund स्कीम के 10 प्रकार की हैं।

2. डेट म्युचुअल फंड (Debt Mutual Fund)

यह स्कीम डेट सिक्योरिटीज में निवेश करती हैं। छोटी अवधि के वित्तीय लक्ष्य पूरे करने के लिए निवेशक इनमें निवेश कर सकते हैं। पांच साल से कम अवधि के लिए इनमें निवेश करना ठीक है। यह स्कीम शेयरों की तुलना में कम जोखिम वाली होती हैं और बैंक के फिक्स्ड डिपाजिट (FD) की तुलना में बेहतर रिटर्न देती हैं।

 

 

3. हाइब्रिड म्युचुअल फंड स्कीम (Hybrid Mutual Fund)

इस स्कीम में इक्विटी और डेट दोनों में निवेश किया जाता है। इन स्कीम को चुनते वक्त भी निवेशकों को अपने जोखिम उठाने की क्षमता का ध्यान रखना जरूरी है। हाइब्रिड Mutual Fund स्कीम को छह कैटेगरी में बांटा गया है।

4. सॉल्यूशन ओरिएंटेड स्कीम (Solution Oriented Mutual Fund )

यह स्कीम किसी खास लक्ष्य या समाधान के हिसाब से बनी होती हैं। इनमें रिटायरमेंट स्कीम या बच्चे की शिक्षा जैसे लक्ष्य हो सकते हैं। इस स्कीम में आपको कम से कम पांच साल के लिए निवेश करना जरूरी होता है।

जान लें चार्ज

म्युचुअल फंड (Mutual Fund ) स्कीम में होने वाले खर्च को एक्सपेंस रेश्यो कहते हैं। एक्सपेंस रेश्यो से आपको यह पता लगता है कि किसी Mutual Fund के प्रबंधन में प्रति यूनिट क्या खर्च आता है। आम तौर पर एक्सपेंस रेश्यो किसी Mutual Fund स्कीम के साप्ताहिक नेट एसेट के औसत का 1.5-2.5 फीसदी तक होता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन