• Home
  • Money knowledge
  • former school teacher qimat rai gupta set up an Small electric shop in delhi and make havells multinational company

उपलब्धि /हवेली राम गांधी से 7 लाख में खरीदी थी हैवेल्स, आज बनीं 10 हजार करोड़ से ज्यादा की कंपनी

  • स्कूल टीचर कीमत राय गुप्ता ने दिल्ली के भागीरथ पैलेस की एक छोटी दुकान से की थी शुरुआत 

Moneybhaskar.com

Dec 09,2019 07:00:03 PM IST

नई दिल्ली. पेशे स्कूल टीर रहे कीमत राय गुप्ता ने साल 1958 में कारोबार करने का सोचा और इसकी शुरुआत दिल्ली के भागीरथ पैसेल में एक छोटी से इलेक्ट्रिक दुकान खोलकर की, जहां इलेक्ट्रिक सामान और केबल बेचने का काम करते थे। इस कारोबार से हुई कमाई के बाद कीमत राम ने साल 1971 में लोकल स्विच गियर मैन्युफैक्चर ब्रांड हैवेल्स को हवेली राम गांधी से 7 लाख रुपए में खरीदा और फिर यहां से हैवेल्स कंपनी की नई शुरुआत हुई। कीमत राय गुप्ता की मौत साल 2014 में हो गई। उनके बाद कंपनी की बागडोर बेटे अनिल राय गुप्ता को मिली।

ऐसे बनती गई करोड़ों की कंपनी

हैवेल्स ने हवेली राम से हैवेल्स खरीदने के बाद साल 1976 में दिल्ली के कीर्ति नगर में पहला स्विच मैन्युफैक्चरिंग प्लांट शुरू किया। इसके बाद साल 1983 में घाटे में जा रही इलेक्ट्रिक मीटर, टावर ट्रांसफार्मर बनाने वाले प्लांट का अधिग्रहण किया। साल 1993 में हैवेल्स कंपनी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड हो गई। अलवर की सूर्या केबल की घाटे वाली केबल और वायर कैटेगरी को खरीदकर मुनाफे में बदल दिया। साल 2000 में कंपनी ने यूके की Crabtree के साथ होम ऑटोमेशन के लिए ज्वाइंट वेंचर बनाया और इसी साल कंपनी भारत की दूसरी सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक स्विचगियर कंपनी बन गई।

1600 करोड़ रुपए में Lloyd के कंज्यूमर ड्यूरेबल बिजनेस का किया अधिग्रहण

कंपनी ने साल 2003 में फैन, सीएफएल और लाइटिंग के कारोबार में कदम रखा। साल 2006 में पैरेंट कंपनी Crabtree की भारतीय इकाई को खरीद लिया। कंपनी साल 2010 में वाटर हीटर के कारोबार में उतरने के बाद घरेलू स्तर पर मिक्सर, आयरन और हैंड ब्लेंडर बनाने का काम शुरू किया। इसके बाद साल 2017 में Lloyd कंज्यूमर डुरेबल बिजनेस को 1600 करोड़ रुपए में खरीदा।

कंपनी की कमाई और रेवेन्यू

हैवेल्स कंपनी का मौजूदा वक्त में पैन इंडिया डीलर नेटवर्क है। इसमें 11 हजार डिस्ट्रीब्यूटर और 6,500 कर्मचारी हैं। साल 2019 के चालू वित्त वर्ष में कंपनी का रेवेन्यू 10,057 करोड़ रुपए रहा, जो कि पिछले साल के मुकाबले 21 प्रतिशत ज्यादा था। वहीं मुनाफा 11 फीसदी बढ़कर 791 करोड़ रुपए हो गया।

ऐसे बढ़ती गई कमाई

फोर्ब्स मैगजीन के मुताबिक कंपनी की कंपनी लगातार बढ़ती गई। साल 2015 से साल 2019 के बीच पिछले पांच सालों में कंपनी का रेवेन्यू करीब दोगुना हो गया।

साल रेवेन्यू
2015 5238 करोड़ रुपए
2016 5436 करोड़ रुपए
2017 6,585 करोड़ रुपए
2018 8,260 करोड़ रुपए
2019 10,057 करोड़ रुपए

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.