विज्ञापन
Home » Money Making TipsWhat is Sovereign Gold Bond scheme

मकर संक्रांति पर Sovereign Gold Bond स्कीम का उठाएं फायदा, ये हैं खास बातें 

14 जनवरी को लॉन्च होगी गोल्ड बॉन्ड की नई सीरीज, 18 तक मिलेगा मौका

What is Sovereign Gold Bond scheme

मकर संक्राति पर Sovereign Gold Bond scheme की नई सीरिज लॉन्च हो रही है। जिसमें आप 18 जनवरी तक निवेश कर सकते हैं। इस स्कीम की खास बात यह है कि सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बांड योजना की नई सीरीज के लिए 3,214 रुपये प्रति ग्राम का मूल्य तय किया है। इसके अलावा कई ऐसी खास बाते हैं, जो आपके लिए जानना जरूरी हैं। 

नई दिल्ली. मकर संक्राति पर सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की नई सीरिज लॉन्च हो रही है। जिसमें आप 18 जनवरी तक निवेश कर सकते हैं। इस स्कीम की खास बात यह है कि सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बांड योजना की नई सीरीज के लिए 3,214 रुपये प्रति ग्राम का मूल्य तय किया है। इसके अलावा कई ऐसी खास बाते हैं, जो आपके लिए जानना जरूरी हैं। 

 

क्या है यह स्कीम 
सरकारी स्वर्ण बॉन्ड योजना नवंबर 2015 में शुरू की गई थी, जिसका उद्देश्य सोने की फिजिकल डिमांड को कम करना और घरेलू बचत में कुछ हिस्सा वित्तीय परिसंपत्तियों में बदलना है. बॉन्ड में न्यूनतम निवेश एक ग्राम है। 

 

ऐसे मिलेगी 50 रु. प्रति ग्राम छूट 
यह सॉवरेन स्वर्ण बांड 2018-19 (5वीं सीरीज) है। सरकार ने ऑनलाइन आवेदन करने वाले और डिजिटल माध्यम से भुगतान करने वाले निवेशकों को 50 रुपए प्रति ग्राम की छूट देने को भी मंजूरी दी है। 

 

कहां मिलेगा बॉन्ड 
इन बॉन्ड की बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, चुने गए डाकघरों और एनएसई एवं बीएसई के जरिए होगी।  

 

यह भी पढ़ें . Post office में एक बार लगाएं पैसा, होगी गारंटेंड मंथली इनकम 

 

1 ग्राम सोने के बराबर होगा सबसे छोटा बॉन्ड 
इस स्कीम के तहत सबसे छोटा बॉन्ड 1 ग्राम के सोने के बराबर होगा। कोई भी व्यक्ति एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 500 ग्राम सोने का बॉन्ड खरीद सकता है।  कुल मिलाकर व्यक्तिगत तौर पर बॉन्ड खरीदने की सीमा 4 किलो वहीं ट्रस्ट या संगठन के लिए 20 किलोग्राम रखी गई है। 

 

सोने की शुद्धता की गारंटी 
इस योजना के तहत सोने की सुरक्षा को लेकर इन्वेस्टर को चिंता करने की जरूरत नहीं होती. चूंकि यह एक सरकारी योजना है, ऐसे में सोने की शुद्धता की भी भरपूर सुरक्षा-व्यवस्था होती है. 

 

8 साल तक की मैच्युरिटी लिमिट 
स्कीम की मैच्युरिटी 8 साल की है. किसी भी व्यक्ति के पास इस बॉन्ड को रखने के दो विकल्प होते हैं। निवेशकअपने बॉन्ड को किसी को भी ट्रांसफर कर सकते हैं, बशर्ते वह व्यक्ति स्कीम की अर्हताओं को पूरा करता हो। 

 

5 साल तक करना होगा इंकार 
समय से पहले बॉन्ड से बाहर निकलना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 5 साल का इंतजार करना पड़ेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन