विज्ञापन
Home » Money Making Tipsnpci propose hike in interchange fee

ATM से पैसा निकालना हो सकता है महंगा, NPCI ने रखा इंटरचेंज चार्ज बढ़ाने का प्रस्ताव

पिछले 6 साल से नहीं बढ़ी है इंटरचेंज फी 

npci propose hike in interchange fee

npci propose hike in interchange feeआने वाले समय में आपके लिए एटीएम कैश निकालना महंगा पड़ सकता है। इसकी वजह यह है कि नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी NPCI ने कैश विद्ड्रॉअल्स के लिए इंटरचेंज फी बढ़ाने की सिफारिश की है।

नई दिल्ली। आने वाले समय में आपके लिए एटीएम कैश निकालना महंगा पड़ सकता है। इसकी वजह यह है कि नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी NPCI ने कैश विद्ड्रॉअल्स के लिए इंटरचेंज फी बढ़ाने की सिफारिश की है। इंटरचेंज फी वह अमाउंट होता है जो एटीएम ऑपरेटर्स से प्रत्येक ट्रांजैक्शन के लिए वसूला जाता है। एनपीसीआई ने इंटरचेज फी बढ़ाने की सिफारिश ऐसे समय की है जब एटीएम का संचालन करने वाली कंपनियां पहले ही लागत बढ़ने की बात कह रही हैं। ऐसे में अगर सरकार इंटरचेंज फी बढ़ाती है तो एटीएम संचालन करने वाली कंपनियों की लागत और बढ़ेगी। ऐसे में इसका बोझ एटीएम से पैसे निकालने वालों को भी उठाना पड़ सकता है। 

 

पिछले 6 साल से नहीं बढ़ी है इंटरचेंज फी 

 

एटीएम सर्विस प्रोवाइड कराने वाली कंपनी के एक अधिकारी का कहना है कि इंटरचेंज फी पिछले 6 साल से उसी स्तर पर है। यह एटीएम से प्रति ट्रांजैक्शन पर आने वाली लागत से भी कम है। ऐसे में इंटरचेंज फी बढ़ाया जाना चाहिए। वहीं इंटरचेज फी का भुगतान करने वाले बैंक इसमें इजाफा नहीं चाहते हैं। अधिकारी का कहना है कि अगर इंटरचेंज फी नहीं बढ़ाया जाता है तो इसमें नियामक को हस्तक्षेत करना चाहिए। 

 

कौन तय करता है इंटरचेंज फी

 

इंटरचेंज फी एनपीसीआई की स्टीयरिंग कमेटी तय करती है। इसमें प्रमुख रूप से बैंक के प्रतिनिधि शामिल होते हैं। एनपीसीआई ने सिफारिश की है कि इंटरचेंज फी को 15 रुपए से बढ़ा कर 17 रुपए कर दिया जाना चाहिए। हालांकि एनपीसीआई की स्टीयरिंग कमेटी में इंटरचेंज फी को लेकर आम राय नहीं है। स्टीयरिंग कमेटी के सदस्यों ने एनपीसीआई से अनुरोध किया है कि इस मामले में डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विसेज की सलाह ली जानी चाहिए। 

 

बैंक दे रहे हैं फ्री ट्रांजैक्शन की सुविधा 

 

मौजूदा समय में बैंक अपने डेबिट कार्ड होल्डर को एक माह में एटीएम से 3 से 4 कैश विद्ड्रॉअल की सुविधा फ्री में देते हैं। इससे अधिक ट्रांजैक्शन होने पर बैंक प्रति ट्रांजैक्शन 10 से 15 रुपए तक चार्ज करते हैं। अगर इंटरचेंज चार्ज बढ़ कर 15 से 17 रुपए हो जाता है तो बैंकों को प्रति ट्रांजैक्शन एटीएम सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों को ज्यादा पैसा देना होगा। ऐसे में बैंक एटीमए से कैश विद्ड्रॉअल पर चार्ज बढ़ा सकते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss