विज्ञापन
Home » Money Making TipsSIP Full Form: Benefits of SIP Mutual Fund, Why to Invest in SIP, SIP Ka Matlab, SIP Ke Fayde, SIP Ke Nuksan

SIP में निवेश के 7 फायदे, 2 करोड़ से अधिक लोगों ने किया है निवेश

Benefits of SIP Mutual Fund:एक्सपर्ट करते हैं आपके पैसों का प्रबंधन

SIP Full Form: Benefits of SIP Mutual Fund, Why to Invest in SIP, SIP Ka Matlab, SIP Ke Fayde, SIP Ke Nuksan

नई दिल्ली। SIP यानी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान ( SIP full form) यानी मयूचुअल फंड  में निवेश करने का एक तरीका है। SIP के जरिए आप म्युचुअल फंड में हर माह छोटा अमाउंट नियमित तौर पर निवेश करते हैं जिससे लंबी अवधि में आप बड़ा फंड बना सकते हें। आज हम आपको 7 ऐसी अच्छी वजहों के बारे में बता रहे हैं (benefits of SIP) जिसकी वजह से आपको SIP में निवेश करना चाहिए। 2 करोड़ से अधिक लोग अब तक एसआईपी अकाउंट खुलवा चुके हें। पिछले 2 साल के दौरान एसआईपी में निवेश करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी है। 

 

एक्सपर्ट करते हैं आपके पैसों का प्रबंधन  (why to invest in SIP)

 

म्युचुअल फंड SIP में निवेश का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपका पैसों का प्रबंधन एक्सपर्ट करते हैं। एक्सपर्ट नियमित तौर पर कंपनी, इंडस्ट्री और इकोनॉमी पर रिसर्च करते हैं। इसके बाद वे आपके पैसों को सही जगह पर निवेश करने का फैसला करते हैं। इसके अलावा वे नियमित तौर पर बाजार पर नजर रखते हैं। ऐसे में अगर आप बाजार के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं रखते हैं या आपके पास इतना समय नहीं है कि आप बाजार पर लगातार नजर रख सकें तो आप  म्युचुअल फंड SIP में निवेश कर सकते हैं। इस तरीके से निवेश करने पर बाजार से जुड़े जोखिम कम हो जाते हैं। 

 

तमाम कंपनियों में निवेश होता है आपका पैसा 

 

म्युचुअल फंड SIP में निवेश करने का दूसरा सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपका पैसा अगल अलग सेक्टर की तमाम कंपनियों में निवेश किया जाता है। यह कहा जाता है कि अपने सभी अंडे एक टोकरी में नहीं रखने चाहिए।  जब आपका पैसा अलग अलग सेक्टर की कंपनियों में निवेश किया जाता है तो आपका निवेश डायवर्सीफाइ हो जाता है। ऐसे में अगर किसी सेक्टर में या कंपनी को नुकसान होता है जब भी आपके रिटर्न पर ज्यादा असर नहीं पड़ता है क्योंकि दूसरे सेक्टर की कंपनी से इस नुकसान की भरपाई हो सकती है। 

 

सरकारी नियमों के तहत काम करती है म्युचुअल फंड इंडस्ट्री 

 

म्युचुअल फंड इडस्ट्री सेबी और एएमएफआई के बनाए नियमों के तहत काम करती है। इसकी वजह से म्युचुअल फंड हाउस के काम करने का तरीका पूरी तरह से पारदर्शी होता है। इससे म्युचुअल फंड में निवेश पूरी तरह से सुरक्षित रहता है। 

 

बाजार में कभी भी कर सकते हैं निवेश 

 

म्युचुअल फंड एसआईपी में निवेश का एक और बड़ा फायदा यह है कि इसमें आपको यह नहीं सोचना पड़ता है कि अभी बाजार में तेजी है या गिरावट है तो मुझे कब निवेश करना चाहिए। एसआईपी में आप नियमित तौर पर थोड़ा पैसा पैसा निवेश करते हैं। इससे बाजार में निवेश का समय मायने नहीं रखता है।

 

आपके बजट पर नहीं पड़ता असर 

 

म्युचुअल फंड एसआईपी के जरिए आप हर माह 500 और 1,000 रुपए निवेश कर सकते हैं। आप हर माह छोटी रकम निवेश करते हैं इससे आपके मंथली खर्च पर भी खास फर्क नहीं पड़ता है। वहीं अगर आपको एक बार में बड़ा अमाउंट निवेश करना हो तो यह आपके लिए मुशिकल हो सकता है। ऐसे में म्युचुअल फंड एसआईपी निवेश के लिए बेहतर विकल्प बन जाता है। 

 

घटती है औसत लागत 

 

म्युचुअल फंड एसआईपी में हम हर माह एक तय अमाउंट नियमित तौर पर निवेश करते हैं। इस तरीके से जब बाजार गिरता है तो हम ज्यादा यूनिट खरीदते हैं और जब बाजार बढ़ता है तब हम एनएवी की कीमत बढ़ जाती है और हम कम यूनिट खरीद पाते हैं। इस को रूपी कास्ट एवरेजिंग कहते हैं। 

 

सपने पूरे करने में करता है मदद 


हम जो पैसा निवेश करते हैं उसका कोई लक्ष्य होता है। जैसे घर खरीदना, बच्चो की एजुकेशन, शादी आदि। इन सब चीजों के लिए बड़े अमाउंट की जरूरत होती है। कम अवधि में इतना पैसा जुटाना हर व्यक्ति के लिए संभव नहीं होता है। लेकिन एसआईपी के जरिए आप लंबी अवधि में बड़ा फंड बना कर अपने सपने पूरे कर सकते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन