Home » Money Making TipsCorporate fd offers more interest than bank fd

इन स्कीमों में बैंक एफडी से ज्यादा मिल रहा है ब्याज, चेक करें डिटेल

एफडी पर मिल रहा है 9 फीसदी तक ब्याज

Corporate fd offers more interest than bank fd

नई दिल्ली। प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां कॉरपोरेट एफडी पर 9 फीसदी तक ब्याज दे रही हैं। सरकारी बैंकों एफडी पर 7 फीसदी ब्याज मिल रहा है। ऐसे में इन कंपनियों की एफडी में निवेश करके आप ज्यादा ब्याज हासिल कर सकते हैं। प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां पैसा जुटाने के लिए एफडी स्कीम चलाती हैं। इन कंपनियों को इसकी मंजूरी रिजर्व बैंक से मिली हुई है। ऐसे में इन कंपनियों के एफडी में निवेश करना काफी हद तक सुरक्षित है। 

 

कॉरपोरट एफडी पर मिल रहा है 9 फीसदी तक ब्याज 

 

कंपनी   ब्याज दर % में
महिंद्रा फाइनेंस 8.10-9 
श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस 7.95-8.88
बजाज फाइनेंस  8- 8.75 
पीएनबी एचएफएल  8.30-8.45

सोर्स-बैंकबाजारडॉटकॉम 

 

नोट- यह ब्याज दर 1 साल से 5 साल तक की अवधि के लिए है।

 

चेक कर लें कंपनी की रेटिंग 
  

कॉरपोरेट एफडी में निवेश करन में जोखिम होता है। ऐसे में निवेशकों के लिए यह जरूरी है  कि इसमें निवेश करने से पहले कंपनी की क्रेडिट रेटिंग और कारोबारी रिकॉर्ड की पूरी जानकारी हासिल करके ही वह निवेश करें।
 
क्‍या होती है कॉरपोरेट एफडी
 
दरअसल कंपनियां अपनी जरूरतों के लिए पूंजी जुटाने का काम करती हैं। कंपनियां एक निश्‍चित अवधि के लिए निवेशक से यह पूंजी लेती हैं जिसे कॉरपोरेट एफडी कहते हैं। इसके लिए वह निवेश्‍क से विज्ञापन के जरिए निवेश करने के लिए कहती हैं। आमतौर पर निवेशक को आकर्षित करने के लिए इस एफडी पर कंपनियां बैंक और अन्‍य फाइनेंस कंपनियों से ज्‍यादा ब्‍याज देती हैं। क्‍योंकि, इन कंपनियों के पास कंपनी कानून तहत के डिपॉजिट लेने का अधिकार होता है। चूंकि कंपनियों के कॉरपोरेट एफडी पर ब्‍याज दर अधिक होता है इसलिए इसमें निवेश करना बेहतर होता है।
 
कॉरपोरेट एफडी की अवधि
 
सामान्‍य तौर पर कॉरपोरेट एफडी के तहत कंपनियां जो डिपॉजिट लेती हैं उसकी मैच्‍योरिटी अवधि छह  महीने से लेकर 36 महीने तक की होती है। क्‍योंकि कोई भी कंपनी इससे कम और ज्‍यादा अविध की कॉरपोरेट एफडी के तहत डिपॉजिट नहीं ले सकती है। इसके साथ ही इसके तहत डिपॉजिट लेने के लिए कंपनी का नेटवर्थ न्‍यूनतम 100 करोड़ रुपए या 500 करोड़ रुपए तक का टर्नओवर होना आवश्‍यक है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट