Home » Money Making Tipsyour home can be a source of income under reverse mortgage scheme

आपका घर भी दिला सकता है पेंशन, SBI, PNB सहित दूसरे बैंकों की खास स्‍कीम का उठा सकते हैं फायदा

बैंकों की रिवर्स मोर्गेज 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्‍यक्तियों को नियमित इनकम का विकल्‍प देती है।

1 of

नई दिल्‍ली। अगर आपने घर खरीदने में अपनी सारी जमा पूंजी का निवेश कर दिया है और आपको लगता है कि रिटायरमेंट के बाद आपके पास पेंशन या नियमित आय का कोई
 स्रोत नहीं होगा तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। रिटायरमेंट के बाद आपका घर भी आपके लिए पेंशन के तौर पर हर माह एक नि‍श्चित रकम का इंतजाम कर सकता है। भारतीय स्‍टेट बैंक यानी एसबीआई और पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) सहित दूसरे बैंकों की रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम  आपको हर माह एक निश्चित रकम का विकल्‍प देती है।  

 

 

क्‍या है रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम 

 

बैंकों की रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्‍यक्तियों को नियमित इनकम का विकल्‍प देती है। इसके लिए उनके पास अपना घर होना चाहिए। इस स्‍कीम के तहत बैंक घर के ओनर को रेजीडेंशियल प्रॉपर्टी अगेंस्‍ट हर माह एक तय रकम देता एक तय समय तक देता है। इसके बदले में रेजीडेंसियल प्रॉपर्टी बैंक के पास गिरवी रहती है। इस स्‍कीम के तहत मालिक को बैंक को यह पैसा वापस नहीं करना होता है। बैंक रेजीडेंसियल प्रॉपर्टी गिरवी रखने पर हर माह कितना पैसा देगा, यह प्रॉपर्टी की कीमत पर निर्भर करता है। इसके अलावा मालिक अपने घर में रह सकता है। रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम के तहत अपना घर गिरवी रखने वाले व्‍यक्ति की मृत्‍यु के बाद घर बैंक का हो जाता है। अगर उस व्‍यक्ति के परिवार वाले चाहें तो बैंक को घर की कीमत चुका कर घर खरीद सकते हैं। 

 

ये भी पढें-30 की उम्र से पहले क्‍या करें, क्‍या न करें; 5 प्‍वाइंट में एक्‍सपर्ट से समझिए

कौन उठा सकता है स्‍क्‍ीम का फायदा 

कोई भारतीय जिसकी उम्र 60 वर्ष है इस स्‍क्‍ीम के के तहत अपना घर गिरवी रखने के लिए आवेदन कर सकता है। अगर पति और पत्‍नी मिल कर स्‍क्‍ीम के तहत आवेदन कर रहे हैं तो पत्‍नी की उम्र कम से कम 58 साल होनी चाहिए। इस स्‍क्‍ीम के तहत बैंक 10 से 15 साल के लिए आवेदक को हर माह एक तय रकम देता है। एबीआई इस स्‍क्‍ीम के तहत 3 लाख रुपए से 1 करोड़ रुपए तक का लोन देता है। महिलाओं ओर अन्‍य लोगों को एसबीआई इस स्‍क्‍ीम के तहत 11 फीसदी ब्‍याज दर पर लोन देता है। वहीं एसबीआई पेंशनर्स को सालाना 10 फीसदी ब्‍याज दर पर यह लोन मिलता है। 

किसके लिए फायदेमंद 

अगर किसी के पास रिटायरमेंट के बाद अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए इनकम का कोई स्रोत नही है और उसके पास अपना घर है तो उस व्‍यक्ति के लिए यह स्‍क्‍ीम काम की हो सकती है। वह व्‍यक्ति इस स्‍क्‍ीम के तहत अपना घर गिरवी रख कर बैंक से हर माह एक तय रकम ले सकता है और रिटायरमेंट के बाद आराम की जिंदगी जी सकता है। उस व्‍यक्ति को अपनी न्‍यूनतम जरूरतें पूरी करेन के लिए मुश्किलों का सामना नहीं करना होगा।  

भारत में सिर्फ 7 फीसदी युवाओं के पास है पेंशन कवर 

 

एक अनुमान के मुताबिक मौजूदा समय में देश में सिर्फ 7 फीसदी युवाओं के पास पेंशन का कवर है। यानी उनको रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलेगी। बाकी 93 फीसदी युवाओं के पास पेंशन की सुविधा नहीं होगी। ऐसे में जब तक देश में सभी लोगों के लिए पेंशन की व्‍यवस्‍था नहीं होती है रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम लोगों को रिटायरमेंट के बाद गरिमापूर्ण जीवन जीने का विकल्‍प देती है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट