Home » Money Making Tipsnavendu sing start farming of flower

सेल्स मैनेजर की नौकरी छोड़ शुरू की फूलों का बिजनेस, हर महीने कमा रहे हैं 2 लाख से ज्यादा

पॉलीहाउस में भी शुरू की जरबेरा की खेती

navendu sing start farming of flower

नई दिल्ली। अगर आप मौजूदा समय में उपलब्ध मौकों को पहचान कर उसका फायदा उठाना चाहते हैं तो फूलों की खेती आपको एक बेहतर मौका मुहैया कराती है। बाजार में फूलों की मांग लगातार बढ़ रही है और इसकी खेती से आप अच्छी आय प्राप्त कर सकते हैं। उत्तर प्रदेश में सीतापुर के रहने वाले नवेन्दु सिंह ने भी एक तय लकीर पर चलने के बजाए सेल्स  मैनेजर की नौकरी छोड़ कर फूलों की खेती करने का फैसला किया। आज वे एक सफल किसान हैं और फूलों की खेती से उनकी सालाना कमाई 30 लाख रुपए से भी अधिक है। 

 

लखनऊ यूनीवर्सिटी से की मेनेजमेंट की पढ़ाई 

 

नवेन्दु सिह ने moneybhaskr.com को बताया कि साल 2000 में लखनऊ यूनीवर्सिटी से एमबीए करने के बाद मोहन मीकिंग्स में सेल्स मैनेजर की नौकरी कर रहा था। उसी समय लखनऊ में फूलों की बड़े पैमाने पर खेती करने वाले एपी सिंह ने फूलों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया। इसके बाद मैने ग्लैडियोलस और रंजनीगंधा फूल की  खेती शुरू की। उस समय लखनऊ में फूलों का बड़ा बाजार नहीं था। फूल दिल्ली के बाजार में भेजना पड़ता था। हालांकि अब लखनऊ फूलों के लिए बड़ा बाजार बन गया है। नवेन्दु सिंह ने बताया कि आज वे लगभग 8 एकड़ में फूलों की खेती कर रहे हैं। इससे लगभग सालाना 30 लाख रुपए से अधिक की आय हो रही है। 

 

पॉलीहाउस में भी शुरू की जरबेरा की खेती 

 

नवेन्दु सिंह ने  1000 वर्गमीटर का पॉलीहाउस बनवा कर जरबेरा फूल की खेती भी शुरू की है। सिर्फ जरबेरा फूल की खेती से ही उनको सालाना 7 से 8 लाख रुपए की आय हो रही है। उनको पॉलीहाउस के निर्माण पर आने वाली लागत में से 50 फीसदी रकम सब्सिडी के तौर पर मिली है। जरबेरा के फूलों की खेती से अच्छी आय को देखते हुए उन्होंने एक और पॉलीहाउस लगवाने के लिए आवेदन किया है। 

 

फुल टाइम जॉब है खेती 

 

नवेन्दु सिंह का कहना है कि खेती फुल टाइम जॉब है। इसमें आपको लगातार पूरा समय देना पड़ता है। फूलों की खेती में अच्छा मुनाफा है लेकिन इसमें देखरेख भी काफी अधिक करनी पड़ती है वरना बड़ा नुकसान होने की आशंक रहती है। पॉलीहाउस के अनुभ्व के बारे में नवेन्दु सिंह ने बताया कि पॉलीहाउस में खेती का उनका अनुभव बेहतर रहा है। पॉलीहाउस का मैनेजमेंट अहम है। इसमें खेती करने के लिए जरूरी कि आपको पता होना चाहिए कि किस फूल की खेती के लिए कितना टेंपरेचर होना चाहिए। ऐसे में आपको पॉलीहाउस में उतना ही टेंपरेचर मेन्टेन करना होता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट