विज्ञापन
Home » Money Making Tipsclaim process for car and bike

कार या बाइक हो जाए चोरी तो ये 5 प्रॉसेस दिलाएंगे क्लेम

कार या बाइक का थर्ड पार्टी इन्श्योरेंस है जरूरी

claim process for car and bike

नई दिल्ली। अगर आप की कार या बाइक चोरी हो जाती है तो परेशान होने के बजाए आपको इस स्थिति से निपटने के लिए जरूरी कदम उठाने चाहिए। अगर आप सोच समझ कर सही कदम उठाते हैं तो आप इस स्थिति से बेहतर तरीके से निपट पाएंगे और आपको नुकसान भी नहीं होगा।

 
सबसे पहले जुटाएं डाक्‍युमेंट


 
आपको सबसे पहले गाड़ी की आरसी बुक, इन्‍श्‍योरेंस की कॉपी और ड्राइविंग लाइसेंस की कॉपी कलेक्‍ट करनी चाहिए। आगे की जो भी प्रॉसेेस होगी। इसमें इन डाक्‍युमेंट की जरूरत होगी। 

 

पुलिस में कराएं कंप्‍लेंट


 
आप सबसे पहले घटना का ब्‍यौरा लिख कर एक एप्‍लीकेशन तैयार करें। इस एप्‍लीकेशन की पुलिस स्‍टेशन में जमा करा दें। कंप्‍लेन के साथ गाड़ी के रजिस्‍ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी) और इन्‍श्‍योरेंस पॉलिसी की कॉपी भी जमा कराएं। आपकी कंप्‍लेन फाइल होने के बाद पुलिस मामला दर्ज कर फर्स्‍ट इन्‍फॉर्मेशन रिपोर्ट (एफआईआर) जारी करेगी।

 

 

इन्‍श्‍योरेंस कंपनी को करें इन्फॉर्म 


 
 एफआईआर कराने के बाद आपको इन्‍श्‍योरेंस कंपनी को गाड़ी के चोरी हो जाने की जानकारी देनी चाहिए। इसके बाद को सही तरीके से भरा हुआ क्‍लेम फॉर्म, आरसी बुक की कॉपी, इन्‍श्‍योरेंस पॉलिसी की कॉपी और एफआईआर की कॉपी इन्‍श्‍योरेंस कंपनी के पास जमा करानी चाहिए। क्‍लेम करने में देरी न करें और सभी डाक्‍यूमेंट एक बार में ही जमा कराएं।

 

रोड ट्रांसपोर्ट ऑफीसर (आरटीओ) को करें इन्‍फॉर्म

 

इन्‍श्‍योरेंस कंपनी के पास क्‍लेम फाइल करने के बाद आपको अपने एरिया के आरटीओ ऑफिस में गाड़ी चोरी होने के बारे में कंप्‍लेन लेटर जमा कराना चाहिए। कंप्‍लेन लेटर के साथ आपको ड्राइविंग लाइसेंस की कॉपी, आरसी बुक की कॉपी, अपने व्‍हीकल की फोटो, इन्‍श्‍योरेंस पॉलिसी की कॉपी और एफआईआर की कॉपी भी जमा करानी चाहिए। आम तौर पर इन्‍श्‍योरेंस कंपनी इस प्रॉसेस में आपकी मदद करती है। अगर इन्‍श्‍योरेंस कंपनी मदद न करे तो आपको खुद से यह काम करना चाहिए। कंप्‍लेन करने के बाद रिसीविंग लेना न भूलें।

 

करें फॉलोअप

 

आपको जब भी समय मिले आप पुलिस स्‍टेशन से अपनी गाड़ी के बारे में जानकारी लें। अगर पुलिस गाड़ी चोरी होने की डेट से 90 दिन के अंदर गाड़ी नहीं खोज पाती है तो वह नो ट्रेस रिपोर्ट जारी करेगी। आप नो ट्रेस रिपोर्ट इन्‍श्‍योरेंस कंपनी के पास जमा करा दें। 

 

इन्‍श्‍योरेंस कंपनी देगी क्‍लेम

 

इस बीच इन्‍श्‍योरेंस कंपनी घटना की रिपोर्ट तैयार करने के लिए सर्वेयर की नियुक्ति करेगी। ऐसे में जब भी सर्वेयर की ओर से आपको बुलाया जाए तो आप जाकर घटना का ब्‍यौरा दें। सर्वेयर से रिपोर्ट मिलने के बाद इन्‍श्‍योरेंस कंपनी कार या बाइक की एश्‍योर्ड वैल्‍यू का पेमेंट करेगी। यानी की उस समय कार या बाइक की जो वैल्‍यू रही होगी इन्‍श्‍योरेंस कंपनी उसी के आधार पर पेमेंट करेगी।
 
 
 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन