Home » Money Making Tipsrisk factors in health insurance, how insurance companies decide health insurance premium

इन 5 वजहों से दोगुना तक हो सकता है आपका हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम

हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम में उम्र है एक अहम फैक्टर

1 of

नई दिल्ली। अगर आप हेल्थ इन्श्योरेंस प्लान खरीदने पर विचार कर रहे हैं तो आपके लिए यह जानना जरूरी है कि बीमा कंपनी किसी कस्टमर के लिए हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम कैसे तय करती हैं। आज हम आपको ऐसे 5 फैक्टर के बारे में बता रहे हैं जिनके आधार पर बीमा कंपनियां आपका हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम तय करती हैं। इन फैक्टर्स के आधार पर आपका हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमिमयम दोगुना तक बढ़ सकता है। 

 

उम्र: जनरल इन्श्योरेंस काउंसिल के मुताबिक हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम तय करने में उम्र एक अहम फैक्टर है। आपकी उम्र जितनी अधिक होगी आपका हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम उतना ही अधिक होगा। उम्र बढ़ने के साथ हर व्यक्ति को बीमारी होने की संभावना बढ़ती जाती है। सरल भाषा में कहें तो अगर आपकी उम्र अधिक है जो बीमा कंपनी के लिए आपको हेल्थ प्लान देने में जोखिम अधिक होगा। इसलिए आपको अधिक प्रीमियम चुकाना होगा। वहीं अगर आपकी उम्र कम है तो आपको हेल्थ इन्श्योरेंस प्लान के लिए कम  प्रीमियम चुकाना होगा।

 

आगे पढ़ें, 

 

यह भी पढ़ें, हेल्थ इन्श्योरेंस खरीदने में इन गलतियों से बचें, होगा फायदा

 

मेडिकल हिस्ट्री 

 

अगर आपको पहले भी कोई बीमारी हो चुकी है या उस बीमारी का इलाज का चल रहा है तो आपको हेल्थ इन्श्योरेंस प्लान के लिए ज्यादा प्रीमियम देना होगा। वहीं अगर आपकी पहले से कोई मेडिकल हिस्ट्री नहीं है तो आपके लिए प्रीमियम कम होगा। 

 

किस माहौल में करते हैं काम 

 

आपका हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस तरह के माहौल में काम करते हैं। अगर आप ऐसे किसी प्रोफेशन मे हैं जहां पर काम और टारगेट का तनाव रहता है। या आप ऐसी जगह काम कर रहे हैं जिसका वातावरण आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक है तो आपके लिए प्रीमियम अधिक होगा। 

 

पॉलिसी की अवधि 

 

हेल्थ इन्श्योरेंस प्रीमियम पॉलिसी की अविध पर भी निर्भर करता है। पॉलिसी की अवधि जितनी अधिक होगी प्रीमियम उतना ही कम होगा और पॉलिसी की अवधि जितनी कम होगी प्रीमियम उतना ही अधकि होगा। 

नहीं लिया है क्लेम 

 

अगर आपके पास पहले से हेल्थ इन्श्योरेंस पॉलिसी है और आपने कई सालों तक क्लेम नहीं लिया है तो बीमा कंपनी आपको प्रीमियम में छूट दे सकती है यानी आपको कम प्रीमियम का भुगतान करना होगा। 

 

फिटनेस का रखें ख्याल 


आपको नियमित तौर पर एक्सरसाइज करते हुए और खान पान पर नियंत्रण रखते हुए फिटनेस पर फोकस करना चाहिए। आजकल बीमा कंपनियां फिटनेस में सुधार करने वाले कस्टमर को प्रीमियम में छूट भी दे रही हैं। वेसे भी अगर आपका स्वास्थ्य अच्छा है तो आपको क्लेम की जरूरत नहीं पड़ेगी और आपका प्रीमियम कम रहेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट