विज्ञापन
Home » Money Making TipsSBI : Benefits of Gold Deposit Scheme

घर में रखा सोना नहीं होगा चोरी, यहां रख करें कमाई 

Gold Deposit Scheme के हैं कई फायदें, ऐसे कर सकते हैं अप्लाई

1 of

नई दिल्ली. अगर आपके घर में सोना (Gold) रखा है और आपको इस बात का डर है कि सोना चोरी न हो जाए तो आप परेशान न हों। आप न केवल अपने सोने को सेफ रख सकते हैं, बल्कि उससे अच्छी खासी कमाई भी कर सकते हैं। आज हम आपको ऐसी ही एक स्कीम के बारे में बता रहे हैं। 

 

यह है स्कीम का नाम

 
ऐसी स्कीम को Gold Deposit Scheme कहा जाता है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) द्वारा ऐसी एक स्कीम चलाई जा रही है, जिसका नाम रिवैम्प्ड गोल्ड डिपॉजिट स्कीम (R-GDS) है। आप इस स्कीम में घर में बेकार पड़े सोने को जमा कर सकते हैं। इस तरह आप अपने सोने की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं। दूसरा, इस पर आपको ब्याज मिलेगा। इस स्कीम का मकसद घर में बेकार पड़े सोने का इस्तेमाल करना है। 

 

ऐसे कर सकते हैं जमा

 
ग्राहक सोने के सिक्के, बार, ज्वैलरी आदि को इस स्कीम में बैंक के पास जमा कर सकते हैं। इसके लिए आपको एक फॉर्म भरना होगा। फॉर्म के साथ आईडी प्रूफ, पते का प्रूफ और इनवेंट्री फॉर्म जमा करना होगा। 

 

स्कीम में तीन ऑप्शन हैं

 
R-GDS में ग्राहकों के लिए तीन विकल्प उपलब्ध हैं। य हैं-शॉर्ट टर्म बैंक डिपॉजिट (STBD), मीडियम टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट (MTGD) और लॉन्ग टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट (LTGD)  

 

डिपॉजिट पीरियड

 
शॉर्ट टर्म डिपॉजिट की अवधि एक से तीन साल तक है। मीडियम टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट की अवधि 5 से साल है। लॉन्ग टर्म डिपॉजिट की अवधि 12 से 15 साल है। बैंक केंद्र सरकार की तरफ से जमा के रूप में सोने को स्वीकार करता है।

 

कौन उठा सकता है स्कीम का फायदा?


1- कोई भी व्यक्ति अकेले या संयुक्त रूप से इस स्कीम में सोना जमा कर सकता है 
2- प्रॉपराइटरशिप और पार्टनरशिप फर्म 
3- ट्रस्ट जिसमें म्यूचुअल फंड और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड शामिल हैं। 
4- कंपनियां 

कितना सोना जमा किया जा सकता है?
इस स्कीम के तहत कम से कम 30 ग्राम सोना जमा करना होगा। जमा करने के लिए कोई अधिकतम सीमा तय नहीं की गई है। 

कितना मिलेगा ब्याज ?
इस स्कीम में गोल्ड डिपॉजिट कर 2.25-2.50 फीसदी तक का ब्याज कमाया जा सकता है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इस साल जनवरी में गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम (GMS) से जुड़े नियम में बदलाव किया है। उसने इसमें चैरिटेबल इंस्टीट्यूशंस, केंद्र, राज्यों की कंपनियों को निवेश करने की अनुमति दी है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन