Home » Money Making TipsPost Office RD scheme gives double return than saving account

बेहतरीन है पोस्ट ऑफिस की यह स्कीम, बचत खाते से दोगुना मिलेगा रिटर्न

सेविंग के साथ ही मिलता है बैंक से अच्छा रिटर्न

1 of

 

नई दिल्‍ली. आज के दौर में सैलरीड लोगों के लिए सेविंग करना आसान नहीं होता है। ऐसे लोग मंथली 2 हजार रुपए से 5 हजार रुपए तक की ही बचत कर पाते हैं। ये लोग अपना पैसा बैंक के सेविंग अकाउंट (saving account) में जमा करते हैं या ऐसी ही किसी स्कीम का विकल्प चुनते हैं, जिनमें ब्याज खासी कम होती है। हालांकि मार्केट में कुछ ऐसी स्कीम भी हैं, जिनके जरिए आप अपने बचत के पैसों पर ज्यादा फायदा पा सकते हैं, वह भी बेहद की सुरक्षित तरीके से।

 

असल में जब बचत कम हो तो उसे ऐसी जगह भी निवेश नहीं कर सकते हैं, जहां बाजार जोखिम के अधीन हो। ऐसे में हम आपको अपने बचत खाते के पैसों पर ज्यादा रिटर्न पाने का एक तरीका बता रहे हैं। इसके लिए आप पोस्ट ऑफिस (Post Office) की एक स्माल सेविंग स्कीम का चुनाव कर सकते हैं, जहां बचत खाते की बजाए पैसे डालकर पैसों पर अच्छा रिटर्न हासिल किया जा सकता है। खास बात है कि इस स्कीम में आप 10 रुपए मंथली से भी निवेश कर सकते हैं।

 

 

पोस्ट ऑफिस की स्कीम में मिल रहा बैंकों से ज्यादा ब्याज

हम यहां बात कर रहे हैं, स्माल सेविंग स्कीम रेकरिंग डिपॉजिट (Recurring Depost) यानी RD की। असल में कई बैंकों में भी आरडी स्कीम है, लेकिन इस स्कीम पर पोस्ट ऑफिस में दूसरे बैंकों की तुलना में ज्यादा ब्याज मिल रहा है। जहां, एसबीआई, देना बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक, इलाहाबाद बैंक और आंध्रा बैंक 1 साल से 5 साल की आरडी पर 6.5 फीसदी से 7 फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं। वहीं, पोस्ट ऑफिस की 1 साल से 5 साल की आरडी स्कीम पर 7.10 फीसदी सालाना ब्याज मिल रहा है।

आगे पढ़ें-एफडी के बराबर मिल रहा रिटर्न

 

यह भी पढ़ें-अब भारत में तेल जमा करेगा यह अरब देश, हो गई बड़ी डील

 

 

 

FD के बराबर मिल रहा है ब्याज

सुरक्षित निवेश के लिए एक और जरिया बैंक एफडी है, जिसमें आपको ज्‍यादा इंट्रेस्‍ट तो मिलता है, लेकिन आपको बड़ी धनराशि एक साथ लंबे समय के लिए लॉक-इन करनी पड़ती है। वहीं, में आप छोटी जमा राशि को हर महीने डिपॉजिट कर एफडी जितना ब्‍याज पा सकते हैं। ऐसे में बचत खाते पर दोगुना ब्‍याज हासिल करने का आसान तरीका है रेकरिंग डिपॉजिट।

आगे पढ़ें- एक साल में ब्याज में कितना हो जाएगा अंतर


 

 

 

बचते खाते से कितना आएगा अंतर

मान लें कि आप हर महीने बचत खाते में और आरडी में 1 हजार रुपए जमा करते हैं। ऐसे में आप भी यह जानना चाहेंगे कि आखिर 1 साल बाद आपको दोनों स्कीम से मिलने वाले रिटर्न में कितना अंतर आएगा।

 

सेविंग अकाउंट: अगर सेविंग अकाउंट में हर महीने 10 हजार रुपए जमा करते हैं तो आपको एक साल में 1,20,000 रुपए जमा करने होंगे। वहीं, सालाना 3.5 फीसदी मिलने वाले ब्याज के हिसाब से एक साल में आपका 1,22,263 रुपए हो जाएगा। यानी आपको साल में 2,263 रुपए अतिरिक्त मिले।


 

RD: अगर आरडी में हर महीने 10 हजार रुपए तक जमा करते हैं तो साल में 1,20,000 रुपए जमा करने होंगे। वहीं, आपको पोस्ट ऑफिस आरडी पर सालाना 7.30 फीसदी ब्याज देता है। जिस लिहाज से आपके पैसे एक साल में 124694 रुपए हो जाएंगे। यानी आपको 4694 रुपए अतिरिक्त मिले।

आगे पढ़ें, क्या है RD के फायदे

 

 

 

आरडी के फायदे

-रेकरिंग डिपॉजिट निवेशक की सेविंग पर निर्भर करता है और हर महीने एक तय राशि का निवेश इसमें कर सकते हैं।

-आरडी के लॉक-इन फीचर के तहत शुरुआत से आखिर तक ब्याज दर एक समान रहती है और डिपॉजिट पर इंटरेस्ट रेट शुरुआत में ही लॉक इन हो जाता है। यानी ब्याज दर कम होने पर आरडी में फायदा होता है।

-रेकरिंग डिपॉजिट से सेविंग मैनेजमेंट आसान होता है और बार बार फिक्स डिपॉजिट की परेशानी से राहत मिल जाती है।

-आरडी में अकाउंट खोलते समय ही टाइम पीरियड तय हो जाता है। टाइम पीरियड खत्म होने पर आपको ब्याज समेत पूरा भुगतान मिल जाता है।

-आरडी की खासियत है कि इसमें नियमित निवेश के साथ फिक्स डिपॉजिट के फायदे मिलते हैं। ब्याज तय होने से आय की निश्चितता रहती है और बैंकों की ओर से ऑफर मिलने से सहूलियत रहती है। आरडी में एक खास लक्ष्य के लिए रकम इकट्ठा की जा सकती है।

-आरडी 10 साल तक हो सकती है। इसमें लंबे समय का इनवेस्टमेंट प्लान बनाया जा सकता है।

 

आगे पढ़ें-कैसे खुलवाएं आरडी

 

 

कैसे शुरू करें रेकरिंग डिपॉजिट

आरडी अकाउंट पोस्ट ऑफिस, बैंक जाकर या ऑनलाइन भी खोला जा सकता है। आप मोबाइल एप से भी आरडी खुलवा सकते हैं। अगर आप पोस्ट ऑफिस में आरडी खुलवा रहे हैं तो कैश और चेक देकर खुलवा सकते हैं। आपका अकाउंट एक पोस्ट आफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस ट्रांसफर हो सकता है। दो एडल्ट के नाम से ज्वॉइंट अकाउंट भी खुल सकता है। आरडी अकाउंट खोलने के पहले देख लें कि कहां कितना ब्याज मिल रहा है। अगर आरडी पर 10 हजार से ज्यादा ब्याज मिलता है तो वह टैक्‍सेबल होगा।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट