Home » Money Making TipsKnow about triple benefit LIC Jeevan Akshay Plan

तीन फायदों वाला है LIC का यह प्‍लान, कराता है रेगुलर इनकम

LIC: सिंगल प्रीमियम में मिलते हैं 3 बेनिफिट

1 of

  

नई दिल्‍ली. LIC की वैसे तो कई योजनाएं हैं, लेकिन एक ऐसी योजना है जो ट्रिपल बेनिफिट देती है। इसमें लोगों को बीमा कवर के अलावा टैक्‍स छूट तो अन्‍य योजनाओं की तरह ही मिलती है, लेकिन इस योजना की तीसरी खासियत है कि यह आपको हर माह निश्चित इनकम भी कराती है। इसके चलते यह स्‍कीम काफी लोकप्रिय हो गई है। इस स्‍कीम में निवेशक को प्रीमियम भी एक बार ही देना होता है। इसके बाद जीवनभर फिक्‍स पैसा उसे हर माह से लेकर साल में एक बार तक मिलता रहेगा। पैसा महीने के हिसाब से लेना है या साल में एक बार यह निवेशक को स्‍वयं ही तय करना होता है।

 

 

सिंगल प्र‍ीमियम वाली है स्‍कीम

LIC की जीवन अक्षय VI योजना (LIC Jeevan Akshay Plan VI) एक सिंगल प्रीमियम प्‍लान है। इसमें एक बार निवेश करने के बाद जीवनभर पेंशन के रूप में अच्‍छा पैसा पाया जा सकता है। इसमें कुछ विकल्‍प ऐसे हैं जिनमें आपकी मृत्‍यु के बाद जीवनसाथी को आजीवन पेंशन मिलेगी। सिंगल प्रीमियम प्‍लान में केवल एक बार ही निवेश करना होता है। LIC पॉलिसी देते वक्‍त ही बता देती है कि जीवनभर कितना पैसा देगी। इसमें बाद में कमी या बढ़ोतरी नहीं होती है। पेंशन के रूप में मिलने वाला पैसा मंथली, तीन माह, छ माह और साल में एक बार भी लिया जा सकता है। अगर मंथली विकल्‍प चुना है तो निवेश के अगले महीने से ही पैसा मिलना शुरू हो जाएगा और वार्षिक विकल्‍प चुना है तो अगले साल से यह पैसा मिलेगा।

 

 

जानें कितनी मिलेगी पेंशन

इस प्‍लान में निवेश के 7 विकल्‍प हैं। इसमें एक लाख रुपए के निवेश पर 6410 रुपए से लेकर 6750 रुपए के बीच हर साल पैसा पाया जा सकता है। इस योजना में चाहे जो भी विकल्‍प लें, लेकिन एजेंट के माध्‍यम से निवेश की शर्त पर न्‍यूनतम 1 लाख रुपए और ऑनलाइन निवेश पर 1.5 लाख रुपए का निवेश करना होगा। अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। इस प्‍लान को 30 साल से लेकर 85 साल तक का कोई भी व्‍यक्ति या महिला खरीद सकती है। इस प्‍लान में निवेश पर इनकम टैक्‍स की छूट धारा 80 C के तहत ली जा सकती है।

आगे पढ़ें-कौन से हैं 7 विकल्प

 

यह भी पढ़ें- करोड़पति बनने के हैं ये 4 फॉर्म्‍यूले, जानें आपके लिए कौन सा है बेस्‍ट

 

 

 

#ये हैं 7 विकल्‍प

 

विकल्प 1: जीवन के लिए एन्युटी

इस विकल्प के अंतर्गत पालिसी धारक के जीवित रहने तक एन्युटी(वार्षिकी) का भुगतान किया जाएगा। बीमाधारक के मृत्यु होने पर एन्युटी का भुगतान बंद हो जाएगा।

 

 

विकल्प 2 : कुछ समय की गारंटी के लिए एन्युटी

इस विकल्प के अंतर्गत पालिसीधारक (वो जीवित है या नहीं) को निश्चित रूप से उसके तरफ से तय की गई  अवधि के अनुसार 5, 10,15, 20 साल के लिए एन्युटी का भुगतान किया जाएगा। इस अवधि के बाद जब तक पालिसीधारक जीवित है, उसे पेंशन का भुगतान किया जाएगा।

 

 

विकल्प 3 : खरीद कीमत को लौटाए जाने के साथ आजीवन एन्युटी

इस विकल्प के अंतर्गत बीमाधारक के जीवित रहने तक उसे एन्युटी का भुगतान किया जाएगा। पालिसीधारक की मृत्यु के बाद एन्‍युटी का भुगतान बंद हो जाएगा। इसके बाद खरीद की कीमत नॉमिनी को मृत्यु लाभ के रूप में मिलेगी।

आगे पढ़ें- दूसरे विकल्प

 

 

 

विकल्प 4 : 3 फीसदी की दर से बढ़ेगी एन्युटी

इस विकल्प के अंतर्गत बीमाधारक के जीवित रहने तक उसे एन्युटी का भुगतान किया जाएगा। प्रत्येक वर्ष में एन्युटी को 3 फीसदी की साधारण दर से बढ़ाया जाएगा।

 

 

विकल्प 5 : आजीवन वार्षिकी के साथ बीमाधारक की मृत्यु पर जीवनसाथी को 50% एन्युटी

इस विकल्प के अंतर्गत बीमाधारक के जीवित रहने तक उसे एन्युटी का भुगतान किया जाएगा। बीमाधारक की मृत्यु के बाद उसके जीवनसाथी को 50 फीसदी पेंशन का भुगतान किया जाएगा। ये भुगतान जीवनसाथी के मृत्यु के बाद बंद हो जाएगा।

आगे पढ़ें : कुछ और विकल्‍प

 

 

 

विकल्प 6 : आजीवन वार्षिकी के साथ पालिसी धारक की मृत्यु पर जीवनसाथी को 100% एन्युटी

 

इस विकल्प के अंतर्गत बीमाधारक के जीवित रहने तक उसे एन्युटी का भुगतान किया जाएगा। बीमाधारक की मृत्यु के बाद उसके जीवनसाथी को 100 फीसदी पेंशन का भुगतान किया जाएगा। ये भुगतान जीवनसाथी के मृत्यु के बाद बंद हो जाएगा।

 

 

विकल्प 7 : बीमाधारक की मृत्यु पर जीवनसाथी को 100 फीसदी एन्युटी और जीवनसाथी की मृत्यु पर क्रय रकम नॉमिनी को मिलेगी

 

इस विकल्प के अंतर्गत बीमाधारक के जीवित रहने तक उसे एन्युटी का भुगतान किया जाएगा। बीमाधारक की मृत्यु के बाद उसके जीवनसाथी को 100 फीसदी पेंशन का भुगतान किया जाएगा। ये भुगतान जीवनसाथी की मृत्यु के बाद बंद हो जाएगा और नॉमिनी को खरीद रकम का भुगतान किया जाएगा।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट