विज्ञापन
Home » Money Making TipsIndia's ultra-rich prefer investing in equities, bonds over real estate, gold: Report

लगातार बढ़ती रहे दौलत, इसलिए अमीर इन 4 जगहों पर लगाते हैं पैसा

 रिपोर्ट में सामने आया अमीरों की कमाई का हिट फॉर्मूला

1 of

 
मुंबई. कॉमन मैन ही नहीं अमीर भी चाहते हैं कि सेविंग पर उन्हें अच्छा रिटर्न मिले और उनकी दौलत लगातार बढ़ती रहे। हालांकि इसके लिए वह निवेश की खास स्ट्रैटजी को ही फॉलो करते हैं। नाइट फ्रैंक (Knight Frank) की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के अमीर (ultra-high net worth individuals) निवेश के लिए रियल एस्टेट और गोल्ड की तुलना में इक्विटीज यानी शेयर बाजार और बॉन्ड मार्केट को तरजीह दे रहे हैं। इस रिपोर्ट में उन्हीं अमीरों को शामिल किया गया है जिनकी दौलत 3 करोड़ डॉलर (210 करोड़ रुपए) से ज्यादा है।
 

इन 4 जगहों पर अमीर लगा रहे पैसा

नाइट फ्रैंक (Knight Frank) की वैल्थ रिपोर्ट 2019 के डाटा के मुताबिक, भारत के अमीरों ने अपना लगभग 30 फीसदी पैसा इक्विटीज (शेयर बाजार), 28 फीसदी बॉन्ड में और 24 फीसदी पैसा प्रॉपर्टी में लगाया है। वहीं गोल्ड में महज 4 फीसदी निवेश किया है। 
 

शेयर बाजार और बॉन्ड्स पर लगाया दांव

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘वर्ष 2018 में भारतीय अमीरों ने शेयर बाजार और बॉन्ड मार्केट पर बढ़-चढ़कर दांव लगया। अमीरों को निवेश सलाह देने वालों ने बताया कि उनके क्लांट्स ने ऊंचा रिटर्न देने वाले एसेट्स को तरजीह दी।’ रिपोर्ट में संकेत किए गए कि अमीर भारतीय प्रॉपर्टी और अन्य लिक्विड एसेट्स की तुलना में इक्विटीज और बॉन्ड में और भी ज्यादा निवेश कर सकते हैं।
 

 

 

प्राइवेट इक्विटीज में कर सकते हैं भारी निवेश

रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय अमीरों द्वारा वर्ष 2019 में इक्विटीज में 34 फीसदी और प्राइवेट इक्विटीज में 37 फीसदी निवेश का अनुमान है। इसके विपरीत वर्ष 2018 में प्राइवेट इक्विटीज में महज 4 फीसदी निवेश हुआ था, जो वर्ष 2019 में भारी बढ़ोतरी की ओर इशारा करता है।
 

 
 
ग्लोबल ट्रेंड के उलट निवेश कर रहे भारतीय अमीर

रिपोर्ट में कहा गया, ‘ग्लोबल ट्रेंड के विपरीत भारतीय अमीर कैश जैसी लिक्विड एसेट्स को सबसे कम तवज्जो दी, जिसमें गिरावट दर्ज की गई थी। वहीं बॉन्ड इन्वेस्टमेंट में 20 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली।’ इस रिपोर्ट पर नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर शिशिर बैजल ने कहा, ‘जहां वैश्विक अमीर ज्यादा लिक्विड इन्वेस्टमेंट को तरजीह दे रहे हैं, क्योंकि इनमें जोखिम कम होता है। इसकी तुलना में भारतीय अमीर इक्विटीज और बॉन्ड में निवेश बढ़ा रहे हैं।’

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन