विज्ञापन
Home » Money Making TipsWays Wives Can Save

Women's Day special : इन 5 तरीकों से हाउस वाइफ आसानी से कर सकती है सेविंग्स

घर आए पैसे से ऐसे करें बचत

Ways Wives Can Save

नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस दुनियाभर की सभी महिलाओं के लिए एक खास दिन होता है। दुनिया में बहुत सी महिलाएं हैं जो नौकरी करती हैं जबकि बहुत सी महिलाएं पारिवारिक परेशानियां और बच्चों की जिम्मेदारियों के चलते नौकरी नहीं कर पाती। ऐसे में घर पर रहने वाली महिलाओं को टैक्स सेविंग्स और बचत किस प्रकार की जाए या बैंक में खाता कैसे खुलवाते हैं इस बात की जानकारी नहीं होती है। आज हम अपनी खबर के जरिए महिलाओं को यह बताने जा रहे हैं कि किस प्रकार घर पर रहकर भी वह सेविंग्स कर सकती है और घर बैठे-बैठे भी अपने परिवार को आर्थिक संकट से निकाल सकती है।घरेलू महिलाओं के लिए ये सभी चीजें जानना काफी जरूरी होता है ताकि परिवार में आने वाले आर्थिक संकट में वह भी अपनी भूमिका निभा सकें। फाइनेंशियल प्लानर शिल्पी जौहरी आपको इन तरीकों के बारे में बता रही है। शिल्पी जौहरी का कहना है कि किसी भी पत्नी के लिए यह जरूरी होता है घर आए हुए पैसे से किस तरह बचत की जाए? यहां कुछ एक्शन आइटम दिए गए हैं जो आपको इस जिम्मेदारी को पूरा करने में मदद कर सकते हैं।

 

बैंकिंग ट्रांजेक्शन- शिल्पी जौहरी का कहना है कि घर में रहने वाली महिलाएं बैंक के कामों से हमेशा एक दूरी बनाए रखती है और बैंक से संबंधित उनके सभी कामों को उनके पति या कोई बड़े करते हैं। लेकिन महिलाओं के लिए जरूरी है कि वह अपने बैंकिंग ट्रांजेक्शन को खुद से करना शुरू करें। इससे उन्हें बैंकिंग के बारे में जानने को मिलेगा और वह अपने काम आसानी से कर सकेंगी। और घर बैठे वह ऑनलाइन बैंकिंग के बारे में जान सकती हैं।

 

सेविंग्स प्लान- शिल्पी जौहरी का कहना है कि यदि महिलाएं रेग्युलर सेविंग्स करना चाहती हैं और उन्हें म्यूचुअल फंड और इक्विटी के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं हैं तो वह बैंक में आरडी अकाउंट खोल सकती हैं। जिसमें वह हर महीने के अपने घर खर्च में से थोड़ी बहुत रकम बचाकर इसमें सेव कर सकती है। इसके अलावा यदि हाउस वाइफस लॉन्ग टर्म प्लान के बारे में भी सोचती हैं तो इसके लिए जरूरी है कि बैंक अपने प्लान को इस तरह से बनाए तो उनके समझने के लिए आसान हो और वह बिना किसी परेशानी के अपने मुताबिक प्लान चुन सकें। 

 

परिवार के वित्त में एक सक्रिय भागीदार बनें- इसके साथ ही जरूरी है कि महिलाएं अपने परिवार के वित्त में एक सक्रिय भागीदार बनें। महिलाओं को परिवार के आय के सभी  स्रोतों का पता होना जरूरी है। महिलाओं के लिए जरूरी है कि उन्हें पता हो कि उनके जीवनसाथी की आय क्या है या घर में आने वाले पैसे के बारे में। एक वर्ष के लिए कैश फ्लो बनाएं और एक वर्ष के लिए अपने सभी मासिक और वार्षिक खर्चों को ट्रैक करें। 

 

तैयार करें इमरजेंसी फंड- एक इमरजेंसी फंड तैयार करें। अपने सभी खर्चों को 6-8 महीनों के लिए, अपने ऋण ईएमआई, एक वर्ष के लिए अपने बीमा प्रीमियम में जोड़ें और बैंक में उस राशि को अलग रखें। यह आपके और आपके जीवनसाथी दोनों के लिए सुलभ होना चाहिए।  Paytm और BHIM जैसे मोबाइल ऐप का उपयोग करना सीखें। डिजिटल भुगतान करें। यह आपके खर्चों पर नज़र रखने में आपकी मदद करेगा।

 

म्यूचुअल फंड सलाहकार की मदद लें- म्यूचुअल फंड में एसआईपी (सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) शुरू करें। सबसे अच्छी रेटिंग वाले लार्ज कैप फंड चुनने के लिए शुरुआत करें। आप इसके लिए म्यूचुअल फंड सलाहकार की मदद ले सकते हैं।
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss