बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksशुगर स्टॉक्स में बने निवेश के मौके, एक्सपर्ट्स ने दिए 57 फीसदी रिटर्न का प्रोजेक्शन

शुगर स्टॉक्स में बने निवेश के मौके, एक्सपर्ट्स ने दिए 57 फीसदी रिटर्न का प्रोजेक्शन

एक्सपर्ट्स का कहना है कि इथेनॉल की कीमतों में बढ़ोतरी से चीनी मिलों को फायदा होगा।

1 of

नई दिल्ली. 1 दिसंबर से इथेनॉल की कीमतें 5 फीसदी बढ़ जाएंगी। सरकार ने क्रूड इम्पोर्ट में कटौती और तेल सप्लायर्स से प्रेशर कम करने के लिए इथेनॉल की कीमतें बढ़ाई है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इथेनॉल की कीमतों में बढ़ोतरी से चीनी मिलों को फायदा होगा। डिमांड बढ़ने से शुगर कंपनियों को अर्निंग बढ़ाने में मदद मिलेगी। वहीं, शुगर का बंपर प्रोडक्शन होने की उम्मीद से भी शुगर स्टॉक्स के आउटलुक बेहतर हुए हैं। ऐसे में शुगर स्टॉक में निवेश का बेहतर मौका बना है।

 

इथेनॉल की बढ़ेगी डिमांड

फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि इथेनॉल का प्रोडक्शन शुगर मिल्स करती हैं। कार्बन उत्सर्जन में कमी और क्रूड इम्पोर्ट पर निर्भरता कम करने के लिए सरकार ने पेट्रोल में 5 फीसदी इथेनॉल को मिक्स करना अनिवार्य कर दिया है। इससे इथेनॉल की डिमांड बढ़ेगी। वहीं, इथेनॉल की कीमतों में 5 फीसदी इजाफा हुआ है, जिसका फायदा शुगर कंपनियों को होगा। बढ़ी कीमतें 1 दिसंबर से लागू होंगी। कीमत 39 से बढ़कर 40.85 रुपए प्रति लीटर हो जाएंगी।

 

ये भी पढ़े -  बिटकॉइन के भी बॉस निकले ये स्‍टॉक्‍स, 1 साल में दिया 1000% रिटर्न

 

 

मार्जिन बढ़ाने में मदद मिलेगी

एसएमसी इन्वेस्टमेंट्स एंड एडवाइजर्स लिमिटेड के रिसर्च हेड सचिन सर्वदे के मुताबिक इस साल बंपर शुगर प्रोडक्शन की उम्मीद है। प्रोडक्शन में बढ़ोतरी से इस साल ज्यादा मात्रा में शीरा उपलब्ध होगा, जिससे इथेनॉल प्रोडक्शन में बढ़ोतरी होगी। इससे कंपनियों को अपनी मार्जिन बढ़ाने में मदद मिलेगी। शुगर की कीमतें स्थिर हैं। इससे कंपनियों की नेट प्रॉफिट बढ़ जाएगी।


15 नवंबर तक 79 फीसदी बढ़ा शुगर प्रोडक्शन

इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) के मुताबिक, पिछले सीजन के मुकाबले 2017-18 में शुगर क्रशिंग सीजन पहले शुरू हो गया है। 15 नवंबर 2017 तक 41 फीसदी ज्यादा चीनी मिलों ने क्रशिंग शुरू कर दिया है। वहीं देश का शुगर प्रॉडक्शन 2016-17 के क्रशिंग सीजन के पहले 45 दिनों में पिछले वर्ष की समान अवधि में 7.67 लाख टन के मुकाबले 79 फीसदी बढ़कर 13.73 लाख टन हो चुका है। इस्मा के अनुसार, क्रशिंग सीजन की जल्द शुरुआत के कारण उत्पादन बढ़ा है।

 

2030 तक 20% इथेनॉल ब्लेंडिंग का टारगेट

पेट्रोलियम एंड नैचुरल गैस मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि 2030 तक पेट्रोल में इथेनॉल ब्लेंडिंग का लक्ष्य 20 फीसदी पाने के लिए देश में 1000 करोड़ लीटर इथेनॉल की आवश्यकता होगी और कारोबार 50,000 करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगा। प्रधान के अनुसार,  इस साल बंपर शुगर प्रोडक्शन से 2017-18 में इथेनॉल का प्रोडक्शन 155 करोड़ लीटर होने की उम्मीद है।

 

 

आगे पढ़ें- इन शेयरों में निवेश की सलाह

बलरामपुर चीनी मिल्स

 

बलरामपुर चीनी देश की बड़ी इंटिग्रेटेड शुगर कंपनियों में से एक है। उत्तर प्रदेश में कंपनी 10 शुगर फैक्ट्रियां हैं, जिनमें 76,500 टन रोजाना गन्ना पेराई की क्षमता है। इस साल शुगर प्रोडक्शन बढ़ने की उम्मीद से सरकार से इथेनॉल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की है, जिसका फायदा कंपनी को मिलेगा। एसएमसी इन्वेस्टमेंट्स एंड एडवाइजर्स लिमिटेड के रिसर्च हेड सचिन सर्वदे ने बलरामपुर चीनी में 260 रुपए के टारगेट के साथ निवेश की सलाह दी है। करंट प्राइस से स्टॉक में 57 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है।

 

 

द्वारिकेश शुगर


जगदीश ठक्कर के अनुसार द्वारिकेश शुगर का रिकवरी रेट अच्छा है और सेक्टर की सबसे सक्षम कंपनियों में एक है। इथेनॉल कीमतों और शुगर प्रोडक्शन में बढ़ोतरी से कंपनी का प्रॉफिट सुधर सकता है। सितंबर क्वार्टर में द्वारिकेश शुगर का प्रॉफिट 18.1 फीसदी घटकर 30.1 करोड़ रुपए रहा था, जबकि पिछले साल समान अवधि में प्रॉपिट 36.7 करोड़ रुपए रहा था। हालांकि इस दौरान कंपनी की आय 23 फीसदी बढ़कर 316.55 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। ठक्कर ने स्टॉक में करंट प्राइस से 32 फीसदी रिटर्न के साथ 80 रुपए का टारगेट दिया है।

 

ईआईडी पैरी

 

ब्रोकरेज हाउस एक्सिस डायरेक्ट ने शुगर कंपनी ईआईडी पैरी में निवेश की सलाह दी है। दूसरे क्वार्टर में सालाना आधार पर कंपनी का PAT 80 करोड़ रुपए रहा था। गन्ने की उपलब्धता में 46 फीसदी की गिरावट से प्रोडक्शन और बिक्री पर असर पड़ा है। FY18 में कंपनी की गन्ना पेराई 13 से 14 फीसदी घटने की उम्मीद है। ब्रोकरेज हाउस का मानना है कि स्टॉक में फिर से तेजी आएगी। एक्सिस डायरेक्टर ने करंट प्राइस से 40 फीसदी रिटर्न के साथ स्टॉक में 520 रुपए का टारगेट से खरीददारी की सलाह दी है।

 


आंध्रा शुगर

 

सितंबर क्वार्टर में आंध्रा शुगर का नेट प्रॉफिट 7 फीसदी बढ़कर 29.52 करोड़ रुपए रहा। हालांकि इस दौरान कंपनी का रेवेन्यू सालाना आधार पर 14 फीसदी गिरकर 250 करोड़ रुपए रहा। फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर ने आंध्रा शुगर में 625 रुपए के टारगेट के साथ निवेश की सलाह दी है। स्टॉक में करंट प्राइस से 12 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है।

 

 

(नोट- यहां दी गई सभी सलाह टॉप ब्रोकरेज हाउस के द्वारा जारी रिपोर्ट और मार्केट एक्सपर्ट्स की सलाह के आधार पर हैं। हर स्टॉक से जुड़े अपने जोखिम होते है, इसलिए सलाह है कि अपने स्तर पर जांच या अपने एक्सपर्ट की सलाह के बाद ही निवेश का फैसला लें।)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट